सीधी बस हादसे के पांचवें दिन मिला एक और शव, अब मृतकों की संख्या बढ़कर हुई 54
सीधी बस हादसा: मृतकों की संख्या बढ़कर हुई 54Social Media

सीधी बस हादसे के पांचवें दिन मिला एक और शव, अब मृतकों की संख्या बढ़कर हुई 54

सीधी, मध्यप्रदेश : कोरोना संकट के बीच सीधी बस हादसे ने मध्यप्रदेश को झकझोर कर रख दिया है, सीधी बस हादसे में अब मृतकों की संख्या 54 पहुंच गई है।

सीधी, मध्यप्रदेश। सीधी में 16 फरवरी को बस पलटने से बड़ा हादसा हुआ था, रामपुरनैकिन थाना क्षेत्र में सीधी से सतना रवाना हुयी बस बाणसागर परियोजना से जुड़ी नहर में गिर गयी थी, बता दें कि सीधी बस हादसे ने मध्यप्रदेश को झकझोर कर रख दिया है, मंगलवार को नहर में बस गिरने से कई जिंदगियां खामोश हो गईं, मिली जानकारी के मुताबिक सीधी बस हादसे में अब मृतकों की संख्या 54 पहुंच गई है, मिली जानकारी के मुताबिक सीधी बस हादसे में लापता लोगों में से एक की लाश मिली है।

सीधी बस हादसे में नहर में बहा शव पांचवे दिन मिला :

बता दें कि लापता लोगों की तलाश में टीम लगातार जुटी हुई थी, सेना के जवान लापता युवकों को छुहिया पहाड़ी में बनी नहर की करीब 4 किलोमीटर लंबी सुरंग में तलाश किया, मिली जानकारी के मुताबिक सीधी बस हादसे के बाद लगातार पांचवें दिन सर्च आपरेशन सुबह से शुरू किया गया, सुबह से तीन बार सुरंग में तलाश की गई, आखिरी बार में शव मिल गया, शव की पहचान 22 वर्षीय अरविंद विश्वकर्मा के रूप में हुई है।

बताते चलें कि जबलपुर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों ने शनिवार सुबह से ही सुरंग में सर्चिंग अभियान शुरू किया था। इससे पहले शुक्रवार को भी सुरंग में सर्चिंग अभियान चलाया गया था, बता दें कि आखिरी शव मिलने के बाद अब सर्च ऑपरेशन भी बंद कर दिया गया है। अब हादसे में मरने वालों की संख्या 54 हो गई है।

शव तलाशने के लिए एनडीआरएफ सहित गोताखोर 60 की संख्या में तलाशने का काम कर रहे थे, सुबह से ही कलेक्टर, अधीक्षक समेत प्रशासनिक अधिकारी नहर में तलाश रही गोताखोरों की जानकारी मौके पर जाकर लेते रहे।

पुलिस अधीक्षक ने बताया-

जानिए कैसे हुआ था हादसा

मध्यप्रदेश के सीधी जिले के रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र में यात्रियों से भरी एक बस के बाणसागर नहर में गिरने के कारण बड़ा हादसा हुआ था, ये बस सीधी से सतना जा रही थी, साइड लेते वक्‍त वह पुलिया से सीधे नहर में जा गिरी थी, इस घटना में सात यात्री जिंदा बच गए थे तो वहीं 54 शव बरामद हो चुके हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co