सिहोरा : ऑनलाइन धान रिजेक्ट होने से किसान को पड़ा दिल का दौरा
ऑनलाइन धान रिजेक्ट होने से किसान को पड़ा दिल का दौरासांकेतिक चित्र

सिहोरा : ऑनलाइन धान रिजेक्ट होने से किसान को पड़ा दिल का दौरा

सिहोरा, मध्य प्रदेश : हार्टअटैक से हुई किसान की मौत से किसानों में आक्रोश। प्रशासन ने परिजनों को बंधाया ढांढस।

सिहोरा, मध्य प्रदेश। सिहोरा थाना अंतर्गत धान उपार्जन हेतु परेशान ग्राम घाना कला निवासी 58 वर्षीय किसान सुखदेव पटेल का हृदय गति रुक जाने के कारण निधन हो गया। किसान की मौत से परिवार में कोहराम मच गया है, वहीं किसान की मौत की खबर सुनकर किसानों में भी आक्रोश फैल गया एवं अनेक किसान संगठन लामबंद होने लगे।

परिजनों से प्राप्त जानकारी के अनुसार सुखदेव पटेल घाना में लगभग ढाई एकड़ भूमि में काश्तकारी कर अपने परिवार का उदर पोषण कर रहा था। गत 4 दिसंबर को धान उपार्जन हेतु प्राप्त एसएमएस के अनुसार मृतक 49 क्विंटल धान लेकर उपार्जन केंद्र पहुंचा, जहां ग्रेडर द्वारा पास भी किया गया फिर भी बारदाने की कमी बताकर किसान की तौल नहीं हो पा रही थी। लगभग 1 माह से किसान धान उपार्जन के लिए लगातार परेशान था एवं उसकी साल भर की मेहनत खुले आसमान के नीचे उपार्जन केंद्र में पड़ी थी।

घर पहुंचते ही पड़ा दिल का दौरा :

परिजनों के अनुसार गत 3 जनवरी को भी लगभग 11 बजे किसान उपार्जन केंद्र पहुंचा, जहां उसे उसकी धान ऑनलाइन रिजेक्ट होने की जानकारी लगी। ऑनलाइन धान रिजेक्ट होना किसान बर्दाश्त नहीं कर सका एवं जैसे ही घर पहुंचा उसे दिल का दौरा आ गया। परिजन आनन-फानन में उसे लेकर जबलपुर रवाना हुए किंतु अस्पताल पहुंचने के पहले ही किसान की सांसें थम गईं। उल्लेखनीय है कि धान उपार्जन में पहले धान को अमानक करार कर फिर लेनदेन कर उपार्जन का खेल खरीदी प्रारंभ होने से खेला जा रहा है जिसका खामियाजा किसान को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा।

आक्रोशित किसानों ने की थी आंदोलन की तैयारी :

बताया जाता है कि किसान की मौत से आक्रोशित क्षेत्रीय किसान अनेक किसान संगठनों के माध्यम से आंदोलन की तैयारी कर रहे थे किंतु अनुविभागीय अधिकारी सिहोरा चंद्र प्रताप गोहल के साथ पुलिस की सक्रियता ने तनावपूर्ण स्थिति को नियंत्रित कर लिया एवं किसानों ने आंदोलन का रूप त्यागकर शांतिपूर्ण किसान का अंतिम संस्कार कर दिया।

किसान यूनियन ने की मांग :

भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष एड. रमेश पटेल ने अनुविभागीय अधिकारी सिहोरा तहसीलदार मझौली श्यामनंदन चंदेले सहित अन्य उपस्थित प्रशासनिक अधिकारियों से मांग की है कि ग्रेटर द्वारा पहले मानक एवं फिर अन्य अधिकारियों द्वारा अमानक करार दिए जाने की ठीक जांच कराके दोषियों के विरोध शीघ्र कार्यवाही की जाए।

प्रशासन ने दिया मदद का आश्वासन :

गत रात प्रशासनिक अधिकारी एसडीएम के अलावा मझौली तहसीलदार श्यामनंदन चंदेले, एडीसनल एसपी शिवेश सिंह बंघेल, प्रभारी सिहोरा एसडीओपी अशोक तिवारी, सिहोरा थाना प्रभारी गिरीश धुर्वे, खितौला थाना प्रभारी जे. मसराम आदि ने मृतक के परिजनों से मुलाकात कर हर संभव मदद का आश्वासन के साथ उपार्जन में की जा रही अनियमितता की जांच का आश्वासन देते हुए रेडक्रॉस से तत्काल राहत राशि 50 हजार एवं अंत्येष्टि सहायता 5 हजार प्रदान करते हुए संबल योजना का लाभ कृषक को तत्काल देने का आश्वासन दिया। मौके पर किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रूपेंद्र पटेल प्रदेश, अध्यक्ष इंद्र कुमार पटेल, जिला अध्यक्ष छोटेलाल पटेल, किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष एड. रमेश पटेल, संतोष राय, जितेंद्र पटेल, पूर्व जिला पंचायत सदस्य वीरू पटेल, ग्राम सरपंच सुग्रीव पटेल, वकील पटेल, धर्मजय पटेल सहित अनेक किसान संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co