15 अक्टूबर से 100 प्रतिशत क्षमता से संचालित हो सकेंगे कोचिंग एवं प्रशिक्षण संस्थान
कलेक्टर ने जारी की नई गाइडलाइनPrem Gupta

15 अक्टूबर से 100 प्रतिशत क्षमता से संचालित हो सकेंगे कोचिंग एवं प्रशिक्षण संस्थान

सिंगरौली, मध्यप्रदेश : 15 अक्टूबर 2021 से 100 प्रतिशत की क्षमता से कोचिंग एवं प्रशिक्षण संस्थान संचालित किये जा सकेंगे।कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करना संचालको की जिम्मेदारी होगी।

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। गुरुवार को मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग भोपाल के निर्देशानुसार एवं तथा जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समिति के सहमति अनुसार कलेक्टर राजीव रंजन मीना के द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 (1) एवं मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 (1) एवं (2) के तहत कार्यालयीन आदेश क्रमांक /1410/ आर.डी.एम / कोविड-19/2021 के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु नवीन दिशा निर्देश जारी किये गये है। जारी आदेश के अनुसार सभी राजनैतिक,खेंल, मनोरंजन,सांस्कृतिक ,धार्मिक आयोजन, मेले, धार्मिक चल समारोह,आदि जिन मे जन समूह एकंत्र होते है वे प्रतिबंधित रहेगे। समस्त कोचिंग संस्थान प्रषिक्षण कार्यक्रम हाल की क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक संचालित किये जा सकेंगे। 15 अक्टूबर 2021 से 100 प्रतिशत की क्षमता से कोचिंग एवं प्रशिक्षण संस्थान संचालित किये जा सकेंगे। कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करना संचालको की जिम्मेदारी होगी।

जारी आदेश के तहत सभी धार्मिक स्थल, पूजा स्थल की क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक श्रद्धालु अनुयायी उपस्थित रह सकेंगे।सभी प्रकार की दुकाने व्यावसायिक प्रतिष्ठान निजी कार्यालय शॉपिंग माल, जिम अपने नियम समय तक खुले रह सकेंगे।सिनेमा घर थियेटर कुल क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक संचालित किये जा सकेंगे।उपरोक्त हेतु कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन बंधनकारी होगा। सभी वृहद, मंध्यम,सूक्ष्म उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता पर कार्य कर सकेंगे निर्माण गतिविधियां निरंतर चलती रहेंगी। जिम, फिटनेस सेंटर योगा केन्द्र अपनी क्षमता के 50 प्रतिशत तक केविड गाईड लाईन का पालन करते हुये संचालित किये जा सकेंगे। सभी खेल कूद मैदान, स्वीमिंग पूल खुल सकेंगे। खेल कूद प्रतियोगिता मे दर्शक प्रतिशत क्षमता तक सामिल हो सकेंगे। विवाह आयोजन मे दोनो पक्षो के 300 सौ व्यक्ति शामिल हो सकेंगे।

अंतिम संस्कार मे अधिकतम 200 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति रहेगी। रावण दहन के पूर्व परम्परागत श्रीराम के चल समारोह प्रतिकात्मक अनुमत्य होगी। रामलीला तथा रावण दहन खुले मैदान मे फेस मास्क तथा सामाजिक दूरी के नियमो का पालन करते हुये आयोजन समिति द्वारा संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट से पूर्व अनुमति प्राप्त कर कर सकेंगे। जारी आदेश के अनुसार रामलीला का आयोजन मैदान, हाल की क्षमता के 50 प्रतिषत तक दर्शक शामिल हो सकेंगे।रावण दहन के वृहद आयोजन जिनका स्वरूप मेले के समान होता है इसकी अनुमति नहीं होगी। अर्न्तराज्यी तथा राज्यातंरिक व्यक्तियों माल,एवं सर्विसेंस का आवागमन निर्बाध रहेगा। अनुमत्य आयोजन समारोह डी.जे, बैण्ड बाजे की माननीय सर्वोच्च न्यायालय के जारी आदेशों के आधीन रात्रि 11 बजे तक उपयोग की अनुमति रहेगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.