रोजगार सहायक को किया सेवा से मुक्त
रोजगार सहायक को किया सेवा से मुक्त|Shashikant Kushwaha
मध्य प्रदेश

कार्य में लापरवाही करने पर रोजगार सहायक को किया सेवा से मुक्त

मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले में कार्य में लापरवाही खम्हाडीह रोजगार सहायक को भारी पड़ी, कलेक्टर सेवा समाप्त करने का दिया निर्देश।

Shashikant Kushwaha

राज एक्सप्रेस। कलेक्टर श्री केवीएस चौधरी के द्वारा जनपद पंचायत चितरंगी का भ्रमण किया, जाकर जनपद पंचायत सभागार में ग्राम पंचायत सचिवों रोजगार सहायकों की बैठक आयोजित कर, चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यो के प्रगति की समीक्षा की गई। जिसमें ग्राम पंचायत खम्हारडीह के रोजगार सहायक के द्वारा लेबर बजट की उपलब्धि अति न्यूनतम, प्रधानमंत्री आवास सहित अन्य कार्यो में घोर लापरवाही बरतने के कारण सेवा से पृथक करने का निर्देश दिया गया।

कलेक्टर के द्वारा ग्राम पंचायत बगैया बहरीहबा, देवरी प्रथम, बीछी, देवरी द्वितीय के सचिव एवं रोजगार सहायकों के द्वारा भी निर्माण कार्यो सहित पंचायतों में सौंपे गये दायित्वों का निर्वाहन सही ढंग से नहीं करने तथा कार्यो के प्रगति निर्धारित मापदण्ड से कम होने के पर सचिवों का चार-चार हजार रूपये एवं रोजगार सहायकों का दो-दो हजार रूपय मानदेय काटने का निर्देश दिया गया। कलेक्टर ने ग्राम पंचायत गड़वानी, कुडै़निया प्रथम, गोपला, के सचिवों का चार-चार हजार एवं रोजगार सहायकों का दो-दो हजार रूपये मानदेय काटने का निर्देश दिया गया।

इन पंचायतों के सचिवों एवं रोजगार सहायकों के द्वारा प्रधानमंत्री आवास, मनरेगा के तहत चल रहे निर्माण कार्य तथा पीडीएस भवन निर्माण के कार्य मे लापहवाही बरती गई थी। इसके साथ ही ग्यारह पंचायतो में भी पीडीएस भवन निर्माण कार्य में निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्य नहीं कराये गये थे। जिस पर कलेक्टर के द्वारा पंचायतों के सचिवों एवं रोजगार सहायकों का 15 दिवस का मानदेय काटने का निर्देश दिया गया।

विदित हो कि, कलेक्टर श्री चौधरी के द्वारा अपने निर्धारित कार्यक्रम के तहत चितरंगी जनपद पंचायत क्षेत्रान्तर्गत चल रहे निर्माण कार्यो के प्रगति की समीक्षा पंचायतवार की गई तथा पूर्व बैठकों के दौरान सभी सचिवों एवं रोजगार सहायकों को लक्ष्य आवंटित किये गये थे। इसके बावजूद भी कार्यो में अधिकाश पंचायतों के सचिवों एवं रोजगार सहायकों के द्वारा लापरवाही बरती गई। जिस पर आज कलेक्टर ने कठोर कार्यवाही करते हुये निर्देश दिये कि, सभी कार्य मापदण्ड के अनुरूप तय समय सीमा पूर्ण कराये जाये तथा पंचायतों में अधिक से अधिक कार्य प्रारंभ कराये। जिससे मजदूरों का पलायन न हो सके।

जल संर्वधन के कार्यो को प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण कराये। कलेक्टर के द्वारा वनाधिकार अमान्य दावों को वनमित्र पोर्टल पर दर्ज कराने का निर्देश दिया गया। चितरंगी जनपद पंचायत अंतर्गत 88 ग्राम पंचायतों में 7994 आवेदन अमान्य पाये गये हैं, जिन्हें 25 दिसम्बर तक पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया गया। इसके अलावा उपस्थित सचिवों एवं रोजगार सहायकों को पोर्टल पर दर्ज करने का विधिवत प्रशिक्षण भी दिलाया गया। इसके अलावा नया सवेरा योजना के हितग्राहियों का भौतिक सत्यापन शीघ्र कराने का निर्देश दिया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co