Singrauli : एनसीएल ने कोयला प्रेषण में सोमवार को स्थापित किए कई कीर्तिमान
एनसीएल ने एक दिन कोयले के 42 रेलवे रैक भेजेसांकेतिक चित्र

Singrauli : एनसीएल ने कोयला प्रेषण में सोमवार को स्थापित किए कई कीर्तिमान

सिंगरौली, मध्यप्रदेश : एनसीएल ने एक दिन में 4 लाख टन कोयला प्रेषण कर अपने हाल ही में बनाए 3.87 लाख टन कोयला प्रेषण के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ा है।

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। भारत सरकार की सिंगरौली स्थित मिनिरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) ने देश की बढ़ती ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करते हुए सीएमडी एनसीएल व एमसीएल पी के सिन्हा के कुशल नेतृत्व में एक बार फिर कोयला प्रेषण में सोमवार को कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं।

सोमवार को एनसीएल ने स्थापना से लेकर अब तक एक दिन में सर्वाधिक कोयला प्रेषण किया है। एनसीएल ने एक दिन में 4 लाख टन कोयला प्रेषण कर अपने हाल ही में बनाए 3.87 लाख टन कोयला प्रेषण के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ा है। एनसीएल ने सोमवार को बिजली घरों को भी एक दिन में स्थापना से लेकर सर्वाधिक कोयला प्रेषण किया है व 3.6 लाख टन कोयला बिजली घरों को भेज कर "बिजली की बुनियाद" की अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाया है।

इस कठिन कोविड महामारी के समय में शानदार प्रदर्शन के लिए सीएमडी पी के सिन्हा ने एनसीएल और एमसीएल को बधाई दी है। साथ ही एनसीएल के कार्यकारी निदेशक मण्डल ने भी टीम एनसीएल को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।

पी. के. सिन्हा के नेतृत्व में हुआ 9 लाख टन से अधिक कोयले का प्रेषण :

सिन्हा कोल इंडिया लिमिटेड की ओड़ीसा स्थित एमसीएल का भी नेतृत्व कर रहे हैं, जिसने सोमवार को 5.19 लाख टन कोयला प्रेषण किया है। एनसीएल व एमसीएल दोनों कंपनियों ने कुल मिलाकर इनके नेतृत्व में लगभग 9.19 लाख टन प्रेषण किया है।

एनसीएल ने सोमवार को एक दिन में देश के विभिन्न राज्यों के कोयला उपभोक्ताओं के लिए 42 रेलवे रैक भेजे हैं जो एक दिन में एनसीएल द्वारा भेजे गए सर्वाधिक रैक हैं । साथ ही कंपनी ने सोमवार को कुल 111 रेलवे रैक कोयले का प्रेषण किया जिसमें से 69 मेरी गो राउंड (एमजीआर) रैक शामिल हैं।

एनसीएल ने अपने 126.5 मिलियन टन के वार्षिक कोयला प्रेषण के लक्ष्य का पीछा करते हुए, 17 % की वार्षिक वृद्धि के साथ अब तक 49.76 मिलियन टन कोयले का प्रेषण कर लिया है । साथ ही कंपनी ने चालू वित्त वर्ष में अब तक 45.89 मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया है।

एनसीएल देश को कोयला क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए व पर्यावरणीय अनुकूल तरीकों के माध्यम से कोयला प्रेषण करने के उद्देश्य से, लगभग 2700 करोड़ रुपये के पूंजीगत व्यय के साथ 9 फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी परियोजनाओं पर काम कर रही है।

एनसीएल अपनी 10 खुली कोयला खदानों में उच्च क्षमता वाली भारी मशीनों व कोल हैंडलिंग प्लांट, एमजीआर, रेलवे, बेल्ट पाइप कन्वेयर एवं अन्य कोयला प्रेषण तकनीकों का उपयोग करती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co