सिंगरौली : हक की लड़ाई के लिए मढ़ौली विस्थापितों के साथ आये मोरवा के लोग
हक की लड़ाई के लिए मढ़ौली विस्थापितों के साथ आये मोरवा के लोगAkhilesh Dwivedi

सिंगरौली : हक की लड़ाई के लिए मढ़ौली विस्थापितों के साथ आये मोरवा के लोग

सिंगरौली, मध्य प्रदेश : एनसीएल के खिलाफ बाइक रैली निकालकर जताया विरोध। एनसीएल की गले की फ़ास बना मढ़ौली का विस्थापन।

सिंगरौली, मध्य प्रदेश। जयंत खदान के विस्तार के लिए मढ़ौली का विस्थापन अब एनसीएल की गले का फांस बनता जा रहा है। आए दिन हो रहे प्रदर्शन के बाद अब मढ़ौली के विस्थापितों के साथ मोरवा के प्रबुद्ध जन, स्वयंसेवी संस्था, व्यापार मंडल के लोग एवं आम जनता भी जुड़ने लगी है।

बीते दिनों जयंत खदान में कार्य रोक कर किए गए प्रदर्शन के दौरान सिंगरौली कलेक्टर राजीव रंजन मीणा ने हस्तक्षेप कर त्रिपक्षीय वार्ता में एनसीएल प्रबंधन को मुआवजा वितरण एवं पुनर्वास के लिए उचित कदम उठाने के लिए निर्देशित किया था। जिसके बाद जयंती जी एम द्वारा विस्थापितों से बैठकों का दौरा भी किया परंतु उसका कोई निराकरण नहीं निकला। जिसके पश्चात शनिवार सुबह पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत सिंगरौली बस स्टैंड स्थित शिव मंदिर में सैकड़ों की तादाद में लोगों ने एकत्रित होकर बाइक रैली निकाली और एनसीएल प्रबंधन के विरुद्ध अपना विरोध जताया। यह रैली सुबह शिव मंदिर प्रांगण से शुरू होकर सिंगरौली बाजार, एलआईजी कॉलोनी, मेन रोड, एनसीएल मुख्यालय होते हुए जयंत खदान के पास समाप्त हुई। इसके पश्चात विस्थापित नेताओं और प्रबुद्ध जनों ने अपने उद्बोधन से लोगों को एनसीएल की नीति एवं हो रहे विस्थापन के दुष्परिणाम से अवगत कराया।

उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि 10 वर्षों से ज्यादा समय से मढ़ौली का विस्थापन अधर में अटका है। जयंत व दूधिचुआ खदान के विस्तार के लिए वार्ड क्रमांक 10 मढ़ौली के लोगों का विस्थापन किया जाना था परंतु इसमें भी नियम कानून को ताक पर रखकर इन्होंने दोनों खदानों के लिए दोहरी नीति अपनाई। अगर सही तरीके से इनकी जांच कराई जाए तो एनसीएल के कई आला अधिकारी सलाखों के पीछे होंगे। उन्होंने लोगों को चेताया कि मोरवा के विस्थापन के लिए भी यह सजग नहीं हैं। एक बार सेक्शन 9 तक लगा कर इसे निरस्त करना पड़ा है। अब पुनः सेक्शन 4 लगाकर विस्थापन की प्रक्रिया अपनाई जा रही है। आज अगर लोग सचेत नहीं हुए तो यह ओने-पौने दाम पर लोगों की जमीनें हड़प लेंगे। इस प्रदर्शन के दौरान ललित श्रीवास्तव, एनपी सिंह, एसपी सिंह, आरपी सिंह, सतीश उत्पल, अनिल दुबे, सत्येंद्र साहू, विनय सिंह, बीके सिंह परिहार समेत सैकड़ों की तादाद में लोग उपस्थित थे।

चाक-चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था विरोध प्रदर्शन के दौरान किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए मोरवा पुलिस द्वारा चाक-चौबंद व्यवस्था की गई थी। रैली के तमाम स्थानों पर पुलिस बल मौजूद था। वहीं धरना स्थल पर भी पुलिसकर्मी तैनात रहे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co