मझौली : परियोजना निदेशक भी चलाने लगे तलवार !
घायल विस्थापितPrem N Gupta

मझौली : परियोजना निदेशक भी चलाने लगे तलवार !

सिंगरौली, मध्यप्रदेश : जेपी मझोली प्रबंधन दबंगई पर उतरा, विस्थापित बने निशाना, मामला बिगड़ने पर लिया पुलिस का सहारा। आठ घायलों को पुलिस ने भेजा जेल।

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। जेपी प्लांट मझौली के मुख्य गेट पर मंगलवार को तलवार चल गई। मजेदार है कि तलवार चलाने वाले कोई और नहीं, इसी परियोजना के निदेशक निकले। आसपास के विस्थापित ग्रामीण वहां नियमानुसार काम मांगने गए थे मगर दुर्भाग्य से काम की जगह उनका सामना तलवार के वार से हुआ। हंगामा होने पर विस्थापितों व प्रबंधन के बीच मारपीट हो गई। सूत्रों की मानें तो जेपी प्रबंधन के निदेशक रजनीश गौर ने ग्रामीणों पर तलवार से हमला किया और कुछ को जख्मी कर डाला। राज एक्सप्रेस इसकी पुष्टि नहीं करता परंतु लहूलुहान ग्रामीण, उनके तलवार से जख्मी बदन और घायलों का बयान यही कहानी बयां करता है। मौके पर पहुंची बरगवां पुलिस ने आनन-फानन में मौके पर पहुंचकर हालात काबू किए। मजेदार तो यह है कि पुलिस ने 8 विस्थापितों को ही गिरफ्तार कर जेल का रास्ता दिखा दिया। जेपी प्लांट मझौली में अब भी पुलिस चौकसी पर तैनात है। घटना के बाद परियोजना के आसपास के चार गांव में आक्रोश है। पुलिस ने एसडीओपी राजीव पाठक एवम थाना प्रभारी बरगवां नागेंद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में स्थिति पर नियंत्रण का दावा किया है पर परियोजना गेट सहित आसपास तनाव बना हुआ है।

मिली जानकारी अनुसार ग्राम मझौली के भागवत वैश्य की माता जेपी प्लांट मझौली में कार्यरत हैं। हाल में कंपनी के प्रबंध निदेशक रजनीश गौर से किसी बात को लेकर उक्त महिला की तू तू मैं मैं हो गई। इसी दौरान आक्रोशित होकर कंपनी निदेशक रजनीश गौर ने वृद्ध महिला को धक्का दे दिया और इससे महिला गिर पड़ी। वहीं मौजूद महिला के बेटे को अपनी मां का अपमान सहन नहीं हुआ तो महिला का बेटा भी रजनीश गौर के साथ गाली गलौज करने लगा। मजदूरों की गाली सुनकर रजनीश गौर आग बबूला हो गया और उसने तलवार निकाल ली और वहां मौजूद मजदूरों पर वार कर दिए। इससे कुछ ग्रामीण गंभीर रूप से जख्मी हो गए। इससे गुस्साए व घायल ग्रामीणों ने एकजुट होकर रजनीश गौर की भी जमकर धुलाई कर डाली।

इसकी खबर आग की तरह खबर फैलने के बाद आनन-फानन में मौके पर बरगवां पुलिस दलबल के साथ पहुंची और उसका गुस्सा भी ग्रामीणों पर ही निकला। एसडीओपी राजीव पाठक एवं बरगवां निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह ने मामला बिगड़ता देख जेपी के अधिकारियों की तहरीर पर मारपीट व तोड़फोड़ करने के सिलसिले में नामजद कर संजय वैश्य पिता देवमणि वैश्य उम्र 22 वर्ष, भागवत प्रसाद वैश्य पिता रामसुदर वैश्य उम्र 33 वर्ष, लालचंद वैश्य पिता छोटेलाल वैश्य उम्र 32 वर्ष, लखन वैश्य पिता कुंवर प्रसाद वैश्य उम्र 26 वर्ष, प्रेमसागर वैश्य पिता कामता प्रसाद वैश्य उम्र 32 वर्ष, साहब लाल यादव पिता दुर्गा यादव उम्र 25 वर्ष, राजकुमार वैश्य पिता जोखन प्रसाद वैश्य उम्र 24 वर्ष, अंबिका प्रसाद वैश्य पिता सुरपति प्रसाद वैश्य उम्र 32 वर्ष निवासी मझौली थाना बरगवां के विरुद्ध अपराध क्रमांक 47/21 धारा 151, 107, 116 (3) का नोटिस देते हुए गिरफ्तार कर लिया और न्यायालय के आदेश पर सभी आरोपियों को पचोर जेल भेज दिया।

दूसरी ओर ग्राम पाचोर एवम मझौली के राम सहोदर बैंस, नागेंद्र बैंस , राम अवध बैंस, राजकुमार बैंस तथा दर्जनों ग्रामीणों ने कहा है कि पचोर जेल से बेकसूर ग्रामीणों को नहीं छोड़ा गया तो ग्रामीण कंपनी का घेराव करेंगे। हम कंपनी को बंद कर देंगे और जेपी के गेट पर ताला लगा देंगे।

प्रशासन द्वारा भी कंपनी किया जा रहा है पक्ष :

वहीं ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि प्रशासन द्वारा कंपनी प्रबंधन का पक्ष लिया जा रहा है। रजनीश गौर के द्वारा तलवार से प्रहार करने के बाद भी उसके ऊपर कोई कार्यवाही नहीं की गई, वहीं ग्रामीणों ने कहा कि रजनीश गौर परियोजना में ग्रामीणों के साथ आदतन अपराधियों जैसा व्यवहार करता है। पूर्व में भी गौर के ऊपर एसटी एससी एक्ट लग चुका है परंतु उसे गिरफ्तार नहीं किया गया मगर अब मामला गम्भीर हो गया है।

इनका कहना है :

कंपनी प्रबंधन के द्वारा तहरीर दी गई है कि संज्ञेय धारा कारित एवम शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर अदालत भेज दिया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co