3 घंटे की बारिश में नदी, नाले उफान पर, घरों में घुसा पानी, कई मकान धराशायी
बुधवार देर रात को तेज बारिश के दौरान नगर सहित ग्रामीण अंचलों में बारिश का पानी लोगों के घरों के अंदर पहुंच गया।rajexpress

3 घंटे की बारिश में नदी, नाले उफान पर, घरों में घुसा पानी, कई मकान धराशायी

सिंरोज, मध्यप्रदेश : पहली बारिश में ही नगर सहित अंचलों में मची तबाही, कई रास्ते भी हुए बंद ,घरों के अंदर पानी को देख कर लोगों की नींद उड़ गई।

सिंरोज, मध्यप्रदेश। बुधवार देर रात को तेज बारिश के दौरान नगर सहित ग्रामीण अंचलों में बारिश का पानी लोगों के घरों के अंदर पहुंच गया। घरों के अंदर पानी को देख कर लोगों की नींद उड़ गई। बाहर निकलने पर लोगों को हर तरफ केवल पानी ही नजर आ रहा था और ऐसा लग रहा था कि बाढ़ आ गई है। लोगों ने तुरंत इसको लेकर तहसील प्रशासन के साथ संपर्क किया। लेकिन नपा के जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता के कारण लोगों में प्रशासन के प्रति बहुत ज्यादा रोष देखने को मिला। लोगों का कहना है कि कई वर्षों से इस परेशानी को झेल रहे हैं और प्रशासन हर बार खानापूर्ति कर अपना पल्ला झाड़ लेता है।

रात को नगर व ग्रामीण इलाकों में इस कदर बारिश हुई की लोगों के घरों में बारिश के पानी से हाहाकार मच गई सुबह होते ही ग्रामीण इलाकों के कई कच्चे मकान धराशायी हो गए। इसके बाद लोगों ने पहले अपने कीमती सामान को सुरक्षित स्थान पर रखा और फिर प्रशासन के साथ सपंर्क किया। दोपहर के समय तहसीलदार अनिता पटेल के साथ नपा प्रशासन के कुछ अधिकारियों ने भी मौके का निरीक्षण कर हालात का जायजा लिया और हर संभव सहायता का आश्वासन दिया। पूर्व पार्षद तोषमणि पंथी व अन्य कई स्थानीय निवासियों ने बताया कि कई वर्षों से कटरा मोहल्ले के लोग परेशानी झेलने को मजबूर हैं। जब भी तेज बारिश होती है तो पानी मोहल्ले में पहुंचता है और फिर बाढ़ जैसे हालात बन जाते हैं। कई बार पूरा मोहल्ला ही पानी में डूब जाता है। इस कारण लाखों का सामान खराब हो चुका है।

आखिर स्थाई समाधान कब

बरसात शुरू होने पर तो झोपड़ी एवं नगर की बॉर्डर पर रहने वाले लोगों की नींद उड़ जाती है। इस परेशानी को कई बार प्रशासन के अधिकारियों के सामने रखा है। जब पानी उनके घरों में पहुंचता है तो प्रशासन की तरफ से पानी को निकालने के लिए 15 तत्काल व्यवस्था करा दी जाती है। लेकिन जमीनी स्तर पर इसका स्थायी समाधान निकालने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है। आज भी प्रशासन के कुछ अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण किया और आश्वासन देकर लौट गए हैं। लेकिन स्थायी समाधान के लिए कोई योजना तैयार नहीं की गई है। उनकी मांग है कि इसका स्थायी समाधान निकाला जाएए ताकि बरसात में वह भी चैन की नींद सो सकें।

नपा प्रशासन के दावे हवा हवाई

मानसून की पहली बारिश से शहर तरबतर हो गया। बुधवार की रात को तीन घंटे बारिश की झड़ी से शहर में कई इलाकों में पानी भर गया। बारिश से जहां लोगों के चेहरे खिल गए। वहीं कई इलाकों में पानी की निकासी नहीं होने से लोगों को परेशानी का सामना भी करना पड़ा। बारिश से नगर पालिका के इंतजामों की पोल भी खुल गई। नगर मैं रात्रि से ही मानसून मेहरबान रहा। बारिश ने रविवार का जोरदार स्वागत किया। कुछ ही देर में देखते ही देखते चारों तरफ पानी ही पानी हो गया। बारिश होने से पारा गिर गया। इससे मौसम भी सुहाना हो गया।

इन वार्डों में रही स्थिति ज्यादा खराब .

भवानी नगर, रोहीलपुरा चौराहा, नयापुरा, बजरिया, मेन मार्केट, हाजीपुर, तलैया मोहल्ला, अयोध्या बस्ती, कटरा मोहल्ला साहित्य कई कालोनियों में जल भराव होने से लोगों को परेशान होना पड़ा। कई वार्डों में तो यही स्थिति रही की सिर्फ पानी ही पानी चारों तरफ दिखाई दिया।

वर्षों पुरानी समस्या फिर भी हल नहीं .

नगर में पानी भरने की समस्या नई नहीं है। बरसों से शहर के विभिन्न इलाकों में जल भराव की समस्या खड़ी हो जाती है लेकिन ना तो नगर पालिका अब तक इस समस्या का कोई हल कर पाई है और न ही जनप्रतिनिधि और अफसर इस समस्या से समाधान दिलाने के प्रयास कर रहे हैं। चाहे अयोध्या बस्ती हो या मंशापूर्ण रास्ता। यहां काफी सालों से बारिश का पानी भरता रहा है। सलैया मोहल्ले के लोगों की समस्या और भी ज्यादा गंभीर है। यहां के लोगों का कहना है कि बारिश के साथ-साथ नाले का गंदा पानी घरों में भर जाता है। कस्टम पथ के आगे मेन मार्केट की तरफ जाने वाले रास्ते पर घुटनों तक पानी भर जाता है। इसके अलावा शहर में अन्य इलाके भी ऐसे हैं जहां बारिश में घुटनों तक पानी भर जाता है लेकिन इसका इलाज आज तक नहीं हो सका है।

दिन भर रहे रास्ते बंद

ग्रामीण अंचलों में भी खूब बरसे बादल भटोली ,रुसल्ली दामा, गुलाबगंज, पथरिया सहित कई गांव में झमाझम बारिश से इलाकों के रास्ते बंद रहे जानकारी के अनुसार भटौली का पुल क्षतिग्रस्त होने की वजह से दिनभर रास्ता बंद रहा वही प्रशासन ने आग्रह किया है कि बीना की ओर जाने वाले रास्ते पर भारी भरकम वाहन ना आए। ग्रामीणों ने बताया कि भटौली का पुल जो आजादी के पूर्व का है ऐसी भयावह बारिश थी कि पहली बार पुल के ऊपर से पानी निकल गया जिसके कारण पुल क्षतिग्रस्त हो गया।

इनका कहना है :

कटरा मोहल्ले में सालों से पानी भरने की समस्या से दो-चार होना पड़ रहा है। हर साल नगर पालिका दावा करती है कि इस बार पानी नहीं भरेगा लेकिन समस्या का स्थाई समाधान नहीं निकल रहा है।

तोषमणि पंथी, पूर्व पार्षद

शहर की सबसे पुरानी कॉलोनी होने के बावजूद भवानी नगर आज तक उपेक्षा का शिकार हैै। नगर पालिका ने इस कॉलोनी के विकास को लेकर शुरू से ही उपेक्षापूर्ण रवैया अपनाया है। इस वजह से लोगों को परेशानी होती है।

मोनू बघेल रहवासी वार्ड नंबर 10

मॉनसून की पहली बारिश ने जहां आम आदमी को झुलसाती गर्मी से राहत दी तो वहीं इस बारिश ने जगह-जगह जल भराव जैसी स्थिति पैदा कर तहसील प्रशासन के उन तमाम दावों की पोल भी खोल दी जिसमें कहा गया था कि इस बार की बारिश में पहले जैसी स्थिति पैदा ही नहीं होगी।

अतीक मंसूरी, एनएसयूआई प्रदेश सचिव, कांग्रेस

हर साल लाखों रूपये खर्च कर नगर पालिका के जिम्मेदारों द्वारा यह दावे किए जाते हैं कि इस साल की बारिश में जल भराव नहीं होगा और अगर होगा भी तो महज कुछ मिनटों में ही सारा पानी निकल जाएगा लेकिन जमीनी हकीकत इन दावों के ठीक विपरीत है।

राहुल त्यागी, वरिष्ठ समाजसेवी, सिरोंज

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co