मप्र में रहने वालों को देश में सबसे कम दर पर सौर ऊर्जा
मप्र में रहने वालों को देश में सबसे कम दर पर सौर ऊर्जाSocial Media

मप्र में रहने वालों को देश में सबसे कम दर पर सौर ऊर्जा

भोपाल, मध्यप्रदेश : सरकार मप्र में रहने वालों को देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे कम दर पर सौर ऊर्जा मुहैया करवा रही है। मौजूदा समय में दो रुपए 14 पैसे प्रति यूनिट सौर ऊर्जा का टेरिफ प्लान है।

हाइलाइट्स :

  • मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सौर विकासकों को सौंपे लेटर ऑफ अवार्ड

  • दो रुपए चौदह पैसे प्रति यूनिट का टेरिफ प्लान

  • मप्र में सौर ऊर्जा परियोजनाओं में 5250 करोड़ रुपए का निजी निवेश

भोपाल, मध्यप्रदेश। सरकार मप्र में रहने वालों को देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे कम दर पर सौर ऊर्जा मुहैया करवा रही है। मौजूदा समय में दो रुपए 14 पैसे प्रति यूनिट सौर ऊर्जा का टेरिफ प्लान है। यह दावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को मिंटो हाल में आयोजित नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग के कार्यक्रम में किया है। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आगर, शाजापुर और नीमच में 1500 मेगावाट की सौर परियोजनाओं के विकासकों को लेटर ऑफ अवार्ड प्रदान किए गए। कार्यक्रम में नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग और प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश प्रदेश में एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट नीमच में है। रीवा के आदर्श प्लांट से दिल्ली मेट्रो को सौर ऊर्जा दी जा रही है। अब औंकारेश्वर में विश्व का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर पार्क स्थापित किया जा रहा है। सौर ऊर्जा से बिजली की कमी दूर करने, निवेश आकर्षित करने और पर्यावरण सरंक्षण के हर संभव प्रयास जारी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आगर के 550 मेगावाट सोलर पार्क के लिए बीम पाव एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड और अवाड़ा एनर्जी लिमिटेड को, शाजापुर के 450 मेगावाट सोलर पार्क के लिए एनटीपीसी रिन्यूएबल तथा तले टटूताई सोलर प्रोजेक्ट को और नीमच के 500 मेगावाट सोलर पार्क के लिए टीपी सौर्या लिमिटेड, मुम्बई तथा अल जोमेह एनर्जी एण्ड वॉटर कंपनी, दुबई को लेटर ऑफ अवार्ड प्रदान किए।

मध्यप्रदेश है ग्रीन लंग्स ऑफ इंडिया :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश ग्रीन लंग्स ऑफ इंडिया है, मध्यप्रदेश में वर्ष के तीन सौ से अधिक दिनों तक सूर्य का निरंतर प्रकाश रहता है। मप्र के युवाओं को यह समझना होगा कि जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए कार्बन उत्सर्जन गैसों को नियंत्रित करना जरूरी है। आने वाली पीढ़ी को यदि हमें प्रकृति को संरक्षित रूप से सौंपना है तो ग्रीन एनर्जी- क्लीन एनर्जी की ओर ध्यान देना होगा। सौर ऊर्जा- अक्षत ऊर्जा है जो कभी समाप्त नहीं होगी।

मैं अच्छे राज्य में आपका स्वागत करता हूं :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवेशकों को प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि मैं अच्छे राज्य में आपका हृदय से स्वागत करता हूं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निवेशक राज्य के मित्र हैं। प्रदेश में उद्योगों के लिए बेहतर वातावरण है। यहां दक्ष मानव संसाधन, राज्य सरकार की अच्छी टीम और एक टेबल पर त्वरित समाधान की सुविधा उपलब्ध है।

सौर ऊर्जा परियोजनाओं में 5250 करोड़ रुपए का निजी निवेश :

मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कहा कि सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना में मध्यप्रदेश लगातार कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। हाल ही में 1500 मेगावाट की आगर -शाजापुर नीमच सौलर पार्क के लिए हुई बिलिंग में देश में सबसे कम सौलर टेरिफ का रिकार्ड बना है। इन परियोजनाओं की स्थापना से प्रदेश में लगभग 5250 करोड़ रुपए का निजी निवेश होगा। प्रदेश में 25 वर्षों में लगभग 7600 करोड़ रुपए की बचत होगी। राज्य शासन द्वारा परियोजनाओं के लिए भूमि आवंटित कर दी गई है। मार्च 2023 तक उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित है। मंत्री श्री डंग ने कहा कि हमारा विभाग सबसे छोटा है पर हम भविष्य की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा काम कर रहे हैं। प्रदेश में ऊर्जा साक्षरता सप्ताह भी आरंभ किया जा रहा है। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे ने प्रदेश में स्थापित किए जा रहे सौर ऊर्जा प्लांट और निवेशकों द्वारा ली जा रही रूची के संबंध में जानकारी दी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co