भोपाल : परिवहन एवं राजस्व विभाग की योजनाओं से प्रदेश को मिलेगा नया स्वरूप
परिवहन एवं राजस्व विभाग की योजनाओं से प्रदेश को मिलेगा नया स्वरूपRaj Express

भोपाल : परिवहन एवं राजस्व विभाग की योजनाओं से प्रदेश को मिलेगा नया स्वरूप

भोपाल, मध्य प्रदेश : श्री राजपूत ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के सपने को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में मध्यप्रदेश की धरती पर साकार स्वरूप प्रदान करेंगे।

भोपाल, मध्य प्रदेश। परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि प्रदेश में राजस्व विभाग द्वारा शीघ्र ही कोर्स पद्धति से जमीन का सीमांकन 31 मार्च से प्रारंभ किया जाएगा। इसके लिए पायलट प्रोजेक्ट के रूप में भोपाल, हरदा, सीहोर एवं देवास जिलों का चयन किया गया है। श्री राजपूत ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के सपने को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में मध्यप्रदेश की धरती पर साकार स्वरूप प्रदान करेंगे।

कोर्स पद्धति से भूमि का सटीक सीमांकन :

मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि अभी तक जमीन का सीमांकन अवधि-विशेष में जैसे खड़ी फसल एवं बरसात आदि परिस्थितियों के मौसम में नहीं हो पाता था परंतु कोर्स पद्धति के माध्यम से भूमि का सीमांकन एवं मानचित्रण का काम अब 12 महीने हो सकेगा। इसके पूर्व जरीब एवं टोटल स्टेशन मशीन द्वारा सीमांकन का काम किया जाता रहा है। उक्त दोनों ही माध्यमों से सीमांकन में काफी परेशानी आती रही है। इससे समय की बचत के साथ खराब मौसम एवं बोई फसल के समय भी सीमांकन किया जा सकता है।

स्वामित्व योजना :

राजस्व मंत्री ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के आबादी क्षेत्र में निवासरत लोगों की यह एक गंभीर समस्या है कि वे कई वर्षों से अपने मकान में रहने के बाद भी उनके पास उस मकान का स्वामित्व का अधिकार नहीं था, जिसके कारण वे अपने मकान पर बैंक आदि से लोन नहीं ले सकते थे। इस समस्या के समाधान के लिए स्वामित्व योजना प्रारंभ की गई। इस योजना के तहत आबादी सर्वे से गांव की संपत्तियों का अधिकार अभिलेख, कब्जाधारी को भूमि स्वामी का प्रमाण-पत्र, बैंक लोन, संपत्ति के बंटवारे एवं विक्रय के साथ पारिवारिक संपत्तियों के विवाद भी कम होंगे। इस योजना में प्रदेश के 51 हजार गांव शामिल किए गए हैं।

बस स्टैंड होंगे सर्व-सुविधायुक्त :

परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने कहा कि प्रदेश के बस स्टैंड अभी परिवहन विभाग के अंतर्गत नहीं होने के कारण परिवहन विभाग यात्रियों को आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवा पाता। बस स्टैंड नगरीय एवं शहरी विकास विभाग के अधीन होने के कारण उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान से स्टैंड का संचालन परिवहन विभाग को सौंपे जाने के संबंध में चर्चा की है। उन्होंने कहा कि बस स्टैंड्स को और अधिक सुविधाजनक बनाया जाएगा। बस स्टैंड शहर एवं गांव की पहचान होते हैं, जहां से हजारों यात्री प्रतिदिन गुजरते हैं।

टैक्सियों में लगेंगे पेनिक बटन :

मंत्री श्री राजपूत ने कहा कि व्हीकल लोकेशन ट्रेकिंग सिस्टम के माध्यम से प्रदेश में चलने वाली टैक्सियों एवं बसों में यात्री निर्भय होकर यात्रा कर सकें, इसके लिए भोपाल में कमांड कंट्रोल स्थापित किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश की टैक्सी एवं बसों में पेनिक बटन लगाए जा रहे हैं। आवश्यकता पडऩे पर यात्री उसका उपयोग कर सकेंगे। कंट्रोल रूम को मैसेज मिलते ही स्थानीय पुलिस के सहयोग से कार्रवाई की जाएगी। परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत की कल्पना को मध्यप्रदेश में धरातल पर लाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में राजस्व एवं परिवहन विभाग द्वारा आम-जनता की सुविधाओं के लिए अनेक योजनाओं को मूर्त रूप प्रदान किया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co