शिवराज ने कहा...
शिवराज ने कहा...|Social Media
मध्य प्रदेश

सियासी संकट से उबरने पक्ष-विपक्ष SC की शरण में, शिवराज ने कहा...

MP में अभूतपूर्व सियासी संकट में दोनों पक्षों के बयानबाजी तेजी सुर्खियों में बनी हुई है। हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का बयान सामने आया।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में अभूतपूर्व सियासी संकट में दोनों पक्षों के बयानबाजी तेजी से सुर्खियों में बनी हुई है। राजनैतिक संकट के बादल जहां छंटने का नाम नहीं ले रहे हैं वहीं आए दिन नए- नए मोड़ सियासत के अलग ही पैमाने तय कर रहा है, इस बीच अक्सर अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का बयान सामने आया है।

हाल ही में भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के घटनाक्रमों से संबंधित मामलों की उच्चतम न्यायालय में चल रही सुनवायी के बीच आज कहा कि- उन्हें पूरा भरोसा है कि सत्य और न्याय की जीत होगी।

चौहान ने यहां मीडिया के सवालों के जवाब में यह बात कही-

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यहां मीडिया के सवालों के जवाब में यह बात कही। उन्होंने कहा कि मौजूदा कमलनाथ सरकार अल्पमत में है और इसलिए वह फ्लोर टेस्ट से बच रही है।

एक सवाल के जवाब में चौहान ने कहा-

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक सवाल के जवाब में कहा कि- राज्य की कमलनाथ सरकार किसी न किसी तरह से समय खींचना चाह रही है, ताकि वे और ट्रांसफर कर सकें। राज्य में चल रहे सियासी घटनाक्रमों के बीच भाजपा विधायक भोपाल लगभग 45 किलोमीटर दूर सीहोर के पास एक होटल में रुके हुए हैं। चौहान भी अधिकांश समय इन विधायकों के साथ बिता रहे हैं।

वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज फिर दावा करते हुए कहा कि, उनकी सरकार बहुमत में है और यदि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को कोई शक है तो वह अविश्वास प्रस्ताव लाएं। कमलनाथ ने यहां न्यूज चैनल से चर्चा में कहा कि उनकी सरकार ने पंद्रह महीनों में कई बार बहुमत साबित किया है। इसलिए ही सरकार चल रही है। अब यदि कोई सड़क पर खड़ा होकर कहे कि ‘फ्लोर टेस्ट’ करवाएं, तो क्या उसके आधार पर कार्यवाही होगी।

CM कमलनाथ ने कहा कि

यदि भाजपा को लगता है कि सरकार के पास बहुमत नहीं है, तो वह अविश्वास प्रस्ताव क्यों नहीं ला रही है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में कोर्ट जो भी कहेगा, उसका आदेश हम क्या, सभी मानेंगे। मुख्यमंत्री ने अपनी यह बात भी दोहरायी कि बेंगलुरु में ‘बंधक’ कांग्रेस विधायकों को मुक्त किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि- ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है, लेकिन बेंगलुरु में मौजूद कांग्रेस विधायकों ने ऐसा नहीं किया, साथ ही उन्होंने दावा किया कि समय आने पर वे सदन में बहुमत साबित कर देंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co