Raj Express
www.rajexpress.co
शिक्षको की कमी से छात्र हो रहे परेशान
शिक्षको की कमी से छात्र हो रहे परेशान|Harish Rahangdale
मध्य प्रदेश

शिक्षकों की कमी से छात्र हो रहे परेशान,कैसे दे त्रैमासिक परीक्षा?

बालाघाट, मध्य प्रदेश : शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल उकवा में कई विषयों के शिक्षक हैं ही नहीं। जिस कारण यहां पर अध्यापन के लिए आने वाले विद्यार्थी शिक्षा से वंचित हो रहे हैं-

Harish Rahangdale

हाइलाइट्स

  • शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल उकवा में शिक्षकों की कमी से छात्र परेशान

  • स्कूल में कई विषयों के शिक्षक न होने से विद्यार्थी शिक्षा से वंचित

  • छात्राओं ने अनेक बार की शिक्षकों को पदस्थ किए जाने की मांग

  • शिक्षकों की कमी के चलते नाराज विद्यार्थी

  • विचारणीय, विद्यार्थी कैसे दे त्रैमासिक परीक्षा?

राज एक्सप्रेस। जिले के कई स्कूल ऐसे हैं, जहां पर शिक्षकों की कमी के चलते छात्र शिक्षा का ज्ञान सही तरीके से नहीं ले पा रहे हैं। ऐसा ही मामला 'शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल उकवा' का है। शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल उकवा में कई विषयों के शिक्षक हैं ही नहीं। जिस कारण यहां पर अध्यापन के लिए आने वाले विद्यार्थी शिक्षा से वंचित हो रहे है और सही तरह से पढाई न होने की वजह से छात्र काफी परेशान भी हो रहे हैं।

शिक्षको की कमी से छात्र हो रहे परेशान :

शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल उकवा में शिक्षकों की कमी के चलते कई विषयों की किताबें तीन माह से खुली ही नहीं। खासकर कामर्स के शिक्षकों की कमी है। जिस कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई भगवान भरोसे रह गई है। इसके साथ ही केमेस्ट्री, साईंस के शिक्षकों की भी कमी बनी हुई है। स्कूल के कक्षा 12 वीं कामर्स संकाय के छात्र विकास गोनेकर ने जानकारी देते हुये बताया कि, हम लोगों ने अनेक बार शिक्षकों को पदस्थ किए जाने की मांग की। लेकिन आज तक हमारी मांगे पूरी नहीं की गई हैं।

कैसे दें त्रैमासिक परीक्षा?

अब हम सभी छात्र इस त्रैमासिक परीक्षा का विरोध कर परीक्षा नहीं देंगे। इसी तरह स्कूल के विज्ञान संकाय के अन्य छात्र लिखेन्द्र साहू ने बताया कि, केमेस्ट्री की व्यख्याता शिक्षिका का तबादला बालाघाट हो गया ,जिनके बदले में किसी भी व्यख्याता की नियुक्ति नहीं की गई है। जिस कारण शिक्षण कार्य में परेशानी हो रही है। शिक्षकों की कमी के चलते नाराज विद्यार्थियों ने अब त्रैमासिक परीक्षा का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। छात्रों ने बताया कि पूर्व में यहां जो शिक्षक पदस्थ थे उनका स्थानांतरण हो जाने के बाद दूसरे शिक्षकों की यहां पर पदस्थापना नहीं हो पाई है।

“इनका कहना है। मुख्यालय में संचालित विद्यालय शिक्षकों की कमी से जूझ रहा है। शासन-प्रशासन को छात्रहित में शीघ्र ही शिक्षकों के पदों को भरा जाना चाहिए”

जेम्स बारीक, अध्यक्ष सर्वधर्म सेवा समिति उकवा

“मैं इस समस्या से विभाग को अनेक बार लिखित और मौखिक रुप से अवगत करा चुका हूं। कुछ तकनीकी कारणों से समय लग रहा है। जल्द ही समस्या का निराकरण हो जाएगा”

आरएन नरताम, प्राचार्य, उकवा

“मामला मेरे संज्ञान में आया है। छात्रों के भविष्य से अन्याय नहीं होगा। मैं संबंधित विभाग को निर्देशित कर उचित प्रबंध करवाता हूं”

दीपक आर्य, कलेक्टर बालाघाट