कोरोना मरीजों की पहचान के लिये सर्वे का कार्य तेजी से जारी
कोरोना मरीजों की पहचान के लिये सर्वे का कार्य तेजी से जारी|Social Media
मध्य प्रदेश

कोरोना मरीजों की पहचान के लिये सर्वे का कार्य तेजी से जारी

इंदौर, मध्यप्रदेश: डोर-टू-डोर सर्वे तथा कोरोना संबंधी अन्य कार्यों के लिये वरिष्ठ अधिकारियों को सौंपे गये दायित्व, विभिन्न टीमों का किया गया गठन।

Mumtaz Khan

इंदौर, मध्यप्रदेश। जिले में कोविड-19 की स्थिति को दृष्टिगत रखते हुये डोर-टू-डोर सर्वे हेतु विभिन्न टीमों का गठन किया गया है। इन टीमों के समय-समय पर पर्यवेक्षण के लिये एवं विभिन्न प्रकार की ट्रेसिंग का एनालिसिस (विश्लेषण) करने के लिए कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की है। इन नोडल अधिकारियों को सर्वे संबंधी विभिन्न दायित्व भी सौंपे गये हैं। इनके साथ सहायक नोडल अधिकारियों की नियुक्ति भी की गई है।

इन्हें सौंपी गई जिम्मेदारी :

कलेक्टर द्वारा जारी आदेशानुसार सर्वे एवं होम आईसोलेशन तथा फीवर क्लीनिक का कार्य सीईओ जिला पंचायत रोहन सक्सेना को सौंपा गया है। श्री सक्सेना सर्वे डिटेल्स, टीम की मॉनीटरिंग, कन्ट्रोल रूम एवं फील्ड टीम समन्वय, होम आईसोलेशन प्रारंभ से मरीज के डिस्चार्ज, एम्बुलेंस व्यवस्था, फीवर क्लीनिक संबंधी जनरल प्रैक्टिशनर का रेफरल मॉनीटरिंग, कुल ओपीडी, सर्दी, खाँसी, बुखार तथा श्वास लेने में दिक्कत वाले मरीजों के प्रकरण, अस्पतालों के इनके एडमिशन आदि कार्य भी देखेंगे।

अपर आयुक्त एस.कृष्ण चैतन्य को कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का दायित्व दिया गया है। श्री कृष्ण चैतन्य कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, प्रोफाइलिंग, सार्थक एप में एन्ट्री, डाटा एवं सैम्पलिंग आदि का कार्य देखेंगे।

डॉ. रोहित त्रिपाठी को सैम्पलों की कलेक्टिंग टीम की मॉनीटरिंग तथा उनके वर्गीकरण, संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन अभय राजनगाँवकर को डैथ एनालिसिस, कोविड-19 के स्वास्थ्य विभाग द्वारा नियुक्त नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार हॉस्पिटल मैनेजमेंट और इंदौर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारीविवेक श्रोत्रिय क्वारंटीन सेंटर संबंधी दायित्व संभालेंगे। इन नोडल अधिकारियों के साथ सहायक नोडल अधिकारी भी बनाये गये हैं।

साप्ताहिक होगी समीक्षा - बैठक का रोस्टर किया गया तैयार :

इंदौर जिले में कोरोना मरीजों के पहचान के लिये चलाये जा रहे सर्वे कार्य की प्रत्येक सप्ताह विभिन्न स्तरों पर समीक्षा की जायेगी। इसके लिये कलेक्टर मनीष सिंह ने रोस्टर भी तैयार किया है। इसके अनुसार प्रत्येक सोमवार एवं प्रत्येक गुरूवार को एडीएम और एसडीएम स्तर पर किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की जायेगी। इसी तरह प्रत्येक मंगलवार को सैम्पल टीम, फीवर क्लीनिक एवं कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की प्रगति की समीक्षा होगी। प्रत्येक गुरूवार को आरआरटी एवं सर्विलेन्स डॉक्टर्स के कार्यों, बुधवार को एएनएम और सुपरवाईजर्स के कार्यों, शुक्रवार को कन्ट्रोल रूम और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग टीम की, शनिवार को कोर टीम की और सप्ताह में दो बार फील्ड सर्वे टीम के कार्यों की समीक्षा होगी। यह समीक्षा कलेक्टर स्वयं तथा आयुक्त नगर पालिका, जिला पंचायत के सीईओ द्वारा की जाएगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co