कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज ग्वालियर में भी सामने आ गया
कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज ग्वालियर में भी सामने आ गया|Priyanka Yadav - RE
मध्य प्रदेश

दुनिया भर में कोरोना का कोहराम, मप्र में भी मची खलबली

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : चर्चा में इन दिनों एक वायरस का प्रकोप कम होने की बजाय लगातार बढ़ रहा है। दुनिया भर में आतंक का पर्याय बने कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज ग्वालियर में भी सामने आ गया है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। चर्चा में इन दिनों एक वायरस का प्रकोप कम होने की बजाय लगातार बढ़ रहा है। आपको बता दें कि, कोरोना वायरस की चपेट में आने से कई की मौत हो गई है। दुनिया भर में आतंक का पर्याय बने कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज ग्वालियर में भी सामने आ गया है। मरीज को उपचार के लिए जयारोग्य अस्पताल के मेडिसिन विभाग में भर्ती कराया गया है।

कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज, अस्पताल में हड़कंप

गुरुवार सुबह वह जिला अस्पताल मुरार की ओपीडी में उपचार के लिए पहुंचा था। जहां डॉक्टर ने उसके संदिग्ध होने की पहचान कर ली। लेकिन पहचान होने के बाद डॉक्टर ने लापरवाही बरती और मरीज बिना किसी को बताए गायब हो गया। इसकी सूचना मिलते ही प्रशासन ने अलर्ट जारी किया और मरीज की ढुंढाई शुरू हुई। सख्ती बरतने के बाद मरीज सामने आया और उसका उपचार शुरू किया गया। गंभीर बीमारी के लक्षण मिलने पर भी मरीज की अनदेखी करने पर सीएमएचओ ने डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

बता दें कि, दर्पण कॉलोनी निवासी (परिवर्तित नाम) विजय गुरुवार सुबह जिला अस्पताल मुरार में उपचार के लिए पहुंचा। इस मरीज का परीक्षण करनेवाले डॉ. विनोद कुमार बाथम के मुताबिक इस मरीज ने बताया कि वह चीन में नौकरी करता था और सात दिन पहले ही वहां से लौटकर आया है। मरीज को कोरोना वायरस के लक्षण हैं। यह सुन मरीज वहां से चला गया। लेकिन डॉ.बाथम ने उस मरीज का नाम पता नहीं लिखा और न ही आइसोलेशन वार्ड में रखने के निर्देश दिए। जब इसकी भनक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मृदुल सक्सेना को लगी तो वह दोपहर तीन बजे विजय के बारे में जानकारी लेने जिला अस्पताल पहुंच गए।

कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज सामने आया है। जयारोग्य अस्पताल में उसका उपचार जारी है। मरीज की पहचान के बाद लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक डॉ.विनोद कुमार बाथम को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

डॉ.मृदुल सक्सेना, सीएमएचओ

चीन में फंसे मेडिकल छात्रों की भारत लाए जाने की गुहार

खरगोन जिले के छात्रों ने चीन के कोरोना वायरस से तेजी से ग्रसित हो रहे शियान शहर में अपने अध्ययनरत होने का हवाला देते हुए वीडियो संदेश के माध्यम से उन्हें भारत वापस लाये जाने की गुहार लगाई है। जिले के शुभम गुप्ता तथा गोगावां के अब्दुल मतीन खान ने वीडियो कॉलिंग के माध्यम से जारी वीडियो संदेश में बताया कि वह गत 2 वर्षों से चीन के हुबेई यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन के अंतर्गत शियान शहर में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं। उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि, चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते उन्हें यथाशीघ्र भारत वापिस लाया जाये।

उन्होंने बताया कि :

उन्हें कोरोना वायरस के फैलने के बाद से बाजार बंद होने के चलते खाने-पीने के सामान की दिक्क़त हो रही है, साथ ही पानी भी मुहैया नहीं हो पा रहा है।

CM ने किया ट्वीट- प्रदेश सरकार ने इससे बचाव व रोकथाम को लेकर व्यापक दिशा-निर्देश पूर्व में ही जारी किये हुए हैं। हमने प्रदेश के सभी अस्पतालों में इसको लेकर विशेष इंतज़ाम करने के निर्देश जारी किये हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co