Raj Express
www.rajexpress.co
Swine Flu Patient
Swine Flu Patient|Kavita Singh Rathore - RE
मध्य प्रदेश

राजगढ़: माचलपुर जिले में मिला स्वाइन फ्लू का मरीज,हालत गंभीर

राजगढ़: माचलपुर में स्वाइन फ्लू का मरीज मिला, उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉ के कहने पर उसे जयपुर के हॉस्पिटल में भर्ती किया गया। मरीज स्वयं दवा व्यापारी है। स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुँची।

Sunil Saravat

हाइलाइट्स :

  • माचलपुर जिले में मिला स्वाइन फ्लू का मरीज

  • पीड़ित मरीज स्वयं दवा व्यापारी है

  • स्वाइन फ़्लू का कारण H1N1 वायरस स्ट्रेन है

  • ठीक न होने के कारण राजस्थान के कोटा में भर्ती किया

  • स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुँची परिजनों की जाँच करने

राज एक्सप्रेस। नगर के एक दवा व्यापारी को स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई है। जिसका इलाज अभी जयपुर के निजी अस्पताल में चल रहा है। इस खबर के बाद स्वाइन फ्लू नगर में चर्चा का विषय बन गया। दशहत में दुकानदार स्वयं ओर कर्मचारी मास्क लगा काम कर रहे है। जानकारी के बाद स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली और वह पूरी टीम के साथ स्वाइन फ्लू के प्राथमिक लक्षणों की जांच करने सोमवार को मरीज के घर पहुँची।

मरीज से प्राप्त जानकारी :

भगवान प्रसाद मोदी को कुछ दिनों सर्दी-खांसी वा हलका बुखार था। जिनका स्थानीय स्तर पर इलाज चल रहा था, लेकिन ठीक नही होने के कारण राजस्थान के कोटा में भर्ती किया, वहा हालत खराब होने पर जयपुर निजी अस्पताल में भर्ती किया गया। जहां जाँच उपरांत स्वाइन फ्लू होना बताया गया। मरीज अभी गंभीर अवस्था मे वेंटिलेटर पर पर भर्ती है। मरीज के परिजन रितेश मोदी ने बताया कि, उनके ताऊजी की हालत गंभीर बनी हुई है।

स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी एकत्र की :

जैसे ही यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग को लगी तो, राजगढ़ से स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने स्वाईन फ्लू के मरीज भगवान प्रसाद मोदी के घर पहुँची और परिजनों से मिलकर जो भी मरीज के संपर्क में उनकी जानकारी एकत्र कर उनका मेडिकल चेकअप किया। साथ ही जिन को सर्दी, खासी, बुखार जैसे लक्षण दिखे उन्हें चिकित्सकीय परामर्श दिया। टीम में डॉ. ए.के. सक्सेना (जिला स्वास्थ्य अधिकारी), डॉ. एस.के. मित्तल (जिला क्षय चिकित्सा अधिकारी), डॉ. एम.पी. सिंह (जिला सर्विलियन्स अधिकारी), डॉ. विवेक दुबे (बीएमओ जीरापुर) सहित स्थानीय स्वस्थ्य के कर्मचारी उपस्थित थे।

कितनी मौत और चाहता है प्रशासन ?

नगर करीब दो वर्ष पूर्व नगर के अजगर अली नामक युवक की स्वाईन फ्लू से मौत हो चुकी है। बावजूद नगर परिषद नही संभली और आज भी नगर में चारों-ओर हर गली मोहल्ले में सुअरों का साम्राज्य कईं मर्तबा सुवर मालिको को नोटिस दिया, लेकिन नोटिस मात्र जावक नंबर तक ही सीमित है। नगर के अलावा पूरे जिले की नगरीय निकायों के यही हाल है। ऐसे में मानो ऐसा लगता है, जैसे नगर परिषद प्रशासन और मौतों के इंतजार में बैठा हुआ है। जिला मुख्यालय राजगढ़ सहित अन्य निकायों की यदि की बात करें तो, यहां भी हजारों की संख्या में सुअर खुले में घूम रहे हैं जबकि यह सुवर मालिक कहीं ना कहीं नगरीय निकाय से जुड़े हुए हैं। इनके कई परिजन यहां पर नौकरी करते हैं। बावजूद इसके नगरीय प्रशासन इन पर लगाम नहीं लगा पा रहा है।

जिला सर्विलियन्स अधिकारी का कहना :

राजगढ़ के जिला सर्विलियन्स अधिकारी डॉ एम.पी.सिंह का कहना है कि, नगर में स्वाइन फ्लू का मरीज मिला है। परिजनों द्वारा बताया गया, उनकी तबियत खराब होने पर उन्होंने कोटा लेकर गये वहाँ से उन्हें जयपुर रैफर कर दिया। जहाँ उनका इलाज चल रहा है । रिपोट्स देखने पर उसकी पुष्ठि हुई है। हमारे द्वारा परिजनों की जांच की तो, उन्हें सर्दी खांसी व बुखार की शिकायत मिली जिनका प्राथमिक उपचार कर उन्हें बचाव की सलाह दी गयी।

क्या है स्वाइन फ्लू :

'स्वाइन फ्लू' मौसमी फ्लू वायरस के कारण होने वाली एक बीमारी हैं। सर्दी के मौसम में इस फ्लू के होने का खतरा दोगुना हो जाता है। स्वाइन फ़्लू को 1919 में महामारी के स्तर पर मान्यता प्राप्त हुई थी और यह अभी भी एक मौसमी फ़्लू वायरस के रूप में फैलता है। स्वाइन फ़्लू का कारण H1N1 वायरस स्ट्रेन है जिसकी शुरूआत सूअरों से हुई।

स्वाइन फ्लू के लक्षण :

स्वाइन फ्लू के शुरुआती लक्षण वायरस के शरीर में प्रवेश करने के 1 से 3 दिन के अंदर-अंदर प्रकट होते हैं, परन्तु स्वाइन फ्लू से पीड़ित सभी लोग इन सभी लक्षणों का सामना करेंगे ऐसा ज़रूरी नहीं।

लक्षण :

  • खांसी गले में खराश

  • ठंड लगना

  • कमजोरी और शरीर में दर्द

  • बच्चों, गर्भवती, महिलाओं और बुजुर्गों को गंभीर संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है।

  • इसका उपाय है कि, इस तरह के अनुभव आने पर तुरन्त डॉक्टर को दिखाए।