तानसेन समारोह : आज से बहेगी सुरधारा, व्यास को मिलेगा तानसेन सम्मान
तानसेन समारोह : आज से बहेगी सुरधाराSocial Media

तानसेन समारोह : आज से बहेगी सुरधारा, व्यास को मिलेगा तानसेन सम्मान

ग्वालियर : शास्त्रीय संगीत के सर्वाधिक प्रतिष्ठित तानसेन समारोह का आगाज शनिवार को सुबह 10 बजे हरिकथा और मीलाद से होगा। शाम 4 बजे संतूर वादक पंडित सतीश व्यास को तानसेन सम्मान से अलंकृत किया जाएगा।

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। शास्त्रीय संगीत के सर्वाधिक प्रतिष्ठित तानसेन समारोह का आगाज शनिवार को सुबह 10 बजे हरिकथा और मीलाद से होगा। शाम 4 बजे संतूर वादक पंडित सतीश व्यास को तानसेन सम्मान से अलंकृत किया जाएगा। इस मौके पर प्रदेश की संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर अभिनव कला परिषद को राजा मानसिंह संगीत सम्मान भी प्रदान करेंगी। इस मौके पर उर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह, सांसद विवेक नारायण शेजवलकर सहित अन्य जनप्रतिनिधिगणों को बतौर विशिष्ट अतिथि आमंत्रित किया गया है।

राष्ट्रीय तानसेन अलंकरण से विभूषित होने जा रहे पं. सतीश व्यास की संतूर वादन के क्षेत्र में देश व दुनियाभर में ख्याति है। उन्हें तानसेन अलंकरण के रूप में 2 लाख रुपए की आयकर मुक्त राशि, सम्मान पट्टिका, शॉल-श्रीफल देकर सम्मानित किया जाएगा।

तानसेन समारोह
तानसेन समारोहSocial Media

52 वर्षों से सक्रिय हैं अभिनव कला परिषद :

इस साल का राष्ट्रीय राजा मानसिंह तोमर सम्मान भोपाल की अभिनव कला परिषद संस्था को दिया जायेगा। यह संस्था पिछले 52 सालों से सांस्कृतिक क्षेत्र में सक्रिय है। संस्था ने हजारों कलाकारों को मंच और सम्मान देने का काम निष्ठापूर्वक किया है।

अमजद अली ने भेजी शुभकामनाएं :

ग्वालियर में जन्मे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खां को भी राज्य सरकार ने तानसेन समारोह में शामिल होने के लिए निमंत्रण भेजा था। उन्होंने तानसेन समारोह में बतौर अतिथि आमंत्रित करने के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर के प्रति आभार जताते हुए वीडियो संदेश के माध्यम से तानसेन समारोह के लिए अपनी शुभकामनायें भेजी हैं। यहां बता दें कि हर बार मीडिया के माध्यम से अमजद अली अपनी नाराजगी जाहिर करते थे कि उन्हें तानसेन समारोह में बुलाया नहीं जाता है। इस बार जब निमंत्रण भेजा तो वे आ तो नहीं सके, लेकिन उन्होंने एक वीडियो के माध्यम से अपनी शुभकामनाएं भेजीं।

कुल 8 संगीत सभाएं होंगीं :

इस बार के समारोह में कुल 8 संगीत सभायें होंगी। पहली 7 संगीत सभायें सुर सम्राट तानसेन की समाधि एवं मोहम्मद गौस के मकबरा परिसर में भव्य एवं आकर्षक मंच पर सजेंगीं। समारोह की आंठवीं एवं आखिरी सभा सुर सम्राट तानसेन की जन्मस्थली बेहट में झिलमिल नदी के किनारे सजेगी। तानसेन समारोह की सुबह संगीत सभाएं 10 बजे और शाम की सभाएं अपरान्ह 4 बजे शुरू होंगीं।

इस बार भी विश्व संगीत होगा आकर्षण :

इस बार के संगीत समारोह में भी गतवर्ष की भांति विश्वसंगीत को भी शामिल किया गया है। समारोह में अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त विदेशी संगीत साधक प्रस्तुतियां देंगे।

इन कलाकारों का होगा गायन वादन :

26 दिसम्बर - सुबह 10 बजे :

  • हरिकथा एवं मीलाद

26 दिसम्बर- शाम 4 बजे :

  • माधव संगीत महाविद्यालय ध्रुपद गायन

  • देवकी पंडित-गायन

  • संजय कुमार मलिक ध्रुपद गायन

  • अभिषेक लहरी- सरोद

27 दिसम्बर - सुबह :

  • शंकर गंधर्व संगीत महाविद्यालय का ध्रपुद

  • अभय रूस्तम सोपोरी-संतूर वादन

  • मो. अमान खां का गायन

  • अब्दुल मजीद खां एवं अब्दुल हमीद खां की सारंगी जुगलबंदी

  • देवानंद यादव - ध्रुपद गायन

27 दिसम्बर - शाम :

  • भारतीय संगीत महाविद्यालय ध्रुपद गायन

  • डेनियल रावि रैंजेल मैक्सिको विश्व संगीत

  • विवेक कमज़्हे- गायन

  • पुष्पराज कोष्टि एवं भूषण कोष्टि की सुरबहार जुगलबंदी

  • धनंजय जोशी-गायन

28 दिसम्बर - सुबह :

  • तानसेन संगीत महाविद्यालय - ध्रुपद

  • कमल कामले- वायोलिन

  • श्रीकांत कुलकर्णी- बांसुरी

  • संजीव अभ्यंकर-गायन

  • पं. रामजीलाल शर्मा- पखावज

28 दिसम्बर - शाम :

  • ध्रुपद केंद्र का गायन

  • दारूष अलंजारी, हमता बागी, मैशम्म अलीनागियान, ईरान विश्व संगीत

  • प्रशांत एवं निशांत मलिक ध्रुपद गायन

  • सुनील पावगी- गिटार

  • गणेश मोहन एवं रूपक कुलकर्णी सितार एवं बांसुरी जुगलबंदी

29 दिसम्बर- सुबह :

  • साधना संगीत महाविद्यालय ध्रुपद गायन

  • मधु भट्ट तैलंग का ध्रुपद

  • यश देवले - गायन

  • सुगातो भादुडी - मैन्डोलिन

  • कावालम श्रीकुमार - गायन

29 दिसम्बर - शाम :

  • राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय का ध्रुपद

  • स्टीफ न काय, यू.के. विश्व संगीत

  • साधना देशमुख मोहिते - गायन

  • प्रो. पण्डित साहित्य कुमार नाहर - सितार

  • पण्डित राजन साजन मिश्र का गायन

30 दिसम्बर - सुबह :

  • तानसेन संगीत कला केन्द्र का ध्रुपद गायन

  • शारदा नाथ मंदिर का गायन

  • जगत नारायण शर्मा की पखावज

  • हेमांग कोल्हटकर का गायन

  • सोमबाला सातले कुमार ध्रुपद गायन

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co