ग्वालियर : व्यवस्थाओं का जायजा लेने नहीं पहुंची टीम, हादसे का फिर इंतजार
ग्वालियर, मध्य प्रदेश : विगत दिवस हॉस्पिटल प्रबंधन की लापरवाही से हुई थी महिला की मौत। प्रबंधक बोले- शहर के डॉक्टरों के भर्ती होते हैं मरीज, वहीं करते हैं इलाज।
ग्वालियर : व्यवस्थाओं का जायजा लेने नहीं पहुंची टीम, हादसे का फिर इंतजार
पेनेसिया हॉस्पिटल में इलाज के दौरान महिला की मौतSocial Media

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। शहर के निजी हॉस्पिटल में महिला की मौत हो गई थी। इस पर परिजनों ने गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप लगाते हुए अस्पताल में हंगामा किया था। हंगामे के बाद पुलिस और प्रशासन के अफसर भी वहां पहुंचे थे। साथ ही परिजनों को जांच का आश्वसन दिया था। दो दिन बीत गए, लेकिन स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम एक बार भी अस्पताल का जायजा लेने नहीं पहुंची। इससे ऐसा लगता है कि टीम को फिर हादसे का इंतजार है।

तानसेन नगर स्थित पेनेसिया हॉस्पिटल में बुधवार-गुरूवार को अवाड़पुरा कम्पू निवासी संगीता अग्रवाल की मौत हो गई थी। परिजनों ने उपचार में लापरवाही के आरोप लगाए थे, इस पर आला अफसरों ने जांच का आश्वसन देकर मामला शांत कर दिया। शुक्रवार को दो दिन बीत गए, लेकन अभी तक अस्पताल की हकीकत जानने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम पेनेसिया हॉस्पिटल के दरवाजे तक नहीं पहुंची है। इससे ऐसा लगता है कि निजी हॉस्पिटलों को किसी न किसी प्रकार से स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारी का संरक्षण प्राप्त है, क्योंकि गुरूवार को राज एक्सप्रेस के संवाददाता ने पेनेसिया हॉस्पिटल में ऐडमिनिस्टे्रशन का काम देखने वाले जीत शर्मा से फोन पर मृतक संगीता अग्रवाल के बारे में चर्चा की। चर्चा के दौरान जीत शर्मा ने बताया कि पेनेसिया हॉस्पिटल के संचालक डॉ. नवनीत अग्रवाल हैं। जो कोविड पॉजिटिव आए थे, वर्तमान में वह क्वारंटाईन हैं।

सीधी बात :

राज एक्सप्रेस की पेनेसिया हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन के जीत शर्मा से हुई सीधी बात :

Q

डॉ. नवनीत अग्रवाल क्वारंटाईन हैं तो मरीजों को उपचार कौन दे रहा है?

A

हमारे यहां शहर के डॉक्टरों के मरीज भर्ती होतें हैं, वही विजिट पर आते हैं और मरीजों को उपचार देकर चले जाते हैं।

Q

मृतका संगीता अग्रवाल स्वस्थ्य थीं, आखिर फिर कैसे मौत हो गई?

A

वह डायबिटीज की मरीज थीं और खाना खाने के बाद उनकी डायबिटीज बढ़ी और हार्टअटैक आने से उनकी मौत हो गई।

Q

मृतका का उपचार कौन कर रहा था?

A

डॉ. रोहित प्रताप सिंह तोमर का मरीज था, वही देख रहे थे।

Q

डॉ. नवनीत अग्रवाल की अनुपस्थिति में कौन ड्यूटी पर रहता है?

A

जिस डॉक्टर का मरीज होता है, वही देखने आते हैं।

Q

विकास ऋषिश्वर कौन हैं ?

A

ये हमारे हॉस्पिटल का काम देखते हैं।

क्या था मामला :

अवाड़पुरा कम्पू निवासी संगीता अग्रवाल को डायबिटीज की समस्या थी। इस पर उनके पति रामदास अग्रवाल (रामू) उन्हें उपचार के लिए डॉ.हेमंत गुप्ता के पास लेकर पहुंचे। डॉ.गुप्ता ने संगीता को तानसेन नगर स्थित पेनेसिया हॉस्पिटल ले जाने की सलाह दी। साथ ही कहा कि वहां आपके ज्यादा पैसे खर्च नहीं होंगे। चिकित्सक की बातों में आकर रामदास अग्रवाल 11 अक्टूबर को अपनी पत्नी को लेकर पेनेसिया हॉस्पिटल पहुंचे। संगीता को सीटी में फेफड़ों में इन्फेक्शन और डायबिटीज बढ़ी हुई बताई। डॉ.तोमर ने संगीता को ब्लड पतला करने और इंसुलिन के इंजेक्शन संगीता को लगाना शुरू कर दिया। बुधवार-गुरूवार की रात 10 बजे मृतका संगीता को इंसुलिन और ब्लड पतला करने का इंजेक्शन दिया गया। उससे उसकी मौत हो गई। ऐसा मृतका के पति रामदास अग्रवाल ने आरोप लगाया था।

इनका कहना है :

पेनेसिया हॉस्पिटल के बारे में मुझे जानकारी लगी है। टीम व्यस्त होने के कारण आज हॉस्पिटल का जायजा लेने नहीं पहुंच सकी। शनिवार को टीम हॉस्पिटल का निरीक्षण करने जाएगी। खामियां मिलने पर निश्चित कार्रवाई की जाएगी।

डॉ. मनीष शर्मा, सीएमएचओ

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co