तेंदूखेड़ा : एक लाख रुपए की रिश्वत लेते धरे गए सीएमओ और लेखापाल
कार्रवाई के दौरान लाल घेरे में दोनों आरोपीRaj Express

तेंदूखेड़ा : एक लाख रुपए की रिश्वत लेते धरे गए सीएमओ और लेखापाल

ठेकेदार से सीसी निर्माण के भुगतान के नाम पर मांगी थी रिश्वत, लोकायुक्त पुलिस ने की कार्रवाई, दोनों आरोपियों पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है

तेंदूखेड़ा, मध्यप्रदेश। जिले के तेंदूखेड़ा में मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तेंदूखेड़ा नगर परिषद में पदस्थ सीएमओ व लेखापाल को एक लाख रुपए की रिश्वत के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। मामले में उपयंत्री के रूप में कार्यरत अशोक शाह भी आरोपी बताए जा रहे है, जो कार्रवाई की भनक लगते ही वहां से फरार हो गए, यह जानकारी भी सामने आई है। मामले के दोनों आरोपियों पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है और लोकायुक्त टीम द्वारा तीसरे आरोपी उपयंत्री से भी पूछताछ किए जाने की बात कही जा रही है।

सीसी निर्माण के भुगतान के लिए मांगी रिश्वत:

प्राप्त जानकारी अनुसार, रिटायर्ड एसडीओ व ठेकेदार भगवानदास बड़ेनिया ने नगर में सीसी रोड व नाली का निर्माण कार्य किया था। निर्माण का भुगतान करीब 31 लाख रुपए किया जाना था, जिसमें से 7 लाख का भुगतान पूर्व में कर दिया गया था और शेष राशि के लिए 11 प्रतिशत के हिसाब से रिश्वत की राशि की मांग की गई। रिश्वत मांगें जाने के उपरांत ठेकेदार द्वारा एक सप्ताह पूर्व लोकयुक्त पुलिस सागर में शिकायत दर्ज कराई। शिकायत की पुष्टि उपरांत लोकायुक्त पुलिस ने अपनी कार्रवाई शुरू की और मंगलवार को रिश्वत के एक लाख रुपए के रूप में आरोपियों को दिए जाने थे।

लिफाफा सौंपते ही हुई कार्रवाई:

वहीं, लोकायुक्त पुलिस द्वारा केमिकल लगाकर दिए हुए नोटों से भरे लिफाफे को मंगलवार दोपहर शिकायतकर्ता द्वारा सौंपे गए, जिसमें सीएमओ प्रकाश पाठक को 40 हजार रुपए व उपयंत्री व लेखापाल का प्रभार संभाले जितेन्द्र श्रीवास्तव को 60 हजार रुपए दिए जाने के बाद लोकायुक्त पुलिस ने धावा बोला और उनके पास से रुपए जब्त किए, वहीं इनके हाथ भी कैमिकल से धुलवाए जाने पर लाल हो गए। जिसके बाद कार्रवाई करते हुए सीएमओ, लेखापाल सहित मामले के तीसरे आरोपी उपयंत्री अशोक शाह पर भी मामला दर्ज कर लिया गया है। कार्रवाई के दौरान लोकायुक्त टीम में डीएसपी राजेश खेड़े, टीआई के पीएस बेन, टीआई अभिषेक वर्मा, प्रधान आरक्षक अजय क्षेत्री आरक्षक विक्रम सिह, संतोष गौर, आरक्षक आशुतोष व्यास व अरविंद शामिल रहे।

इनका कहना है...

शिकायत की पुष्टि उपरांत कार्रवाई करते हुए दो आरोपी को पैसों के साथ पकड़ा गया है, मामले की तीसरे को भी आरोपी बनाया है।

राजेश खेड़े, डीएसपी लोकायुक्त सागर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.