मजबूत अर्थव्यवस्था का आधार बरकरार रखा गया : गेहलोत
मजबूत अर्थव्यवस्था का आधार बरकरार रखा गया : गेहलोतSocial Media

मजबूत अर्थव्यवस्था का आधार बरकरार रखा गया : गेहलोत

इंदौर, मध्य प्रदेश : भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता, भारत सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि इस बार का बजट आत्मनिर्भर भारत का बजट है।

इंदौर, मध्य प्रदेश। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता, भारत सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि इस बार का बजट आत्मनिर्भर भारत का बजट है। पीएम मोदी के नेतृत्व में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा इस बार जो बजट पेश किया गया है, यह बजट प्रतिकूल परिस्थितियों में भी मजबूत अर्थव्यवस्था का आधार बरकरार रखकर बनाया गया है। यह बजट नए दशक का पहला बजट है, जो कि डिजिटल बजट भी रहा और यह सभी के समर्थन से संभव हुआ। अभी तक केवल 3 बार ऐसा हुआ है जब अर्थव्यवस्था में संकुचन के बाद बजट आया है, इस बार हमारी अर्थव्यवस्था में संकुचन वैश्विक महामारी की वजह से हुआ। ठीक वैसे ही जैसे अनेक अन्य देशों में हुआ। यह बजट हमारी अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने और रफ्तार पकडऩे के लिए वह हर अवसर उपलब्ध कराता है। बजट के दिल में गांव, किसान एवं आत्मनिर्भर भारत को मजबूती मिलने की व्यवस्था रखी है।

स्वास्थ बजट में 137 प्रतिशत की वृद्धि :

बजट में कृषि के लिए ऐतिहासिक प्रबंधन करते हुए किसानों की आय को दोगुना करना, सुदृढ़ अवसंरचना, स्वस्थ भारत, सुशासन, युवाओं के लिए अवसर, सभी के लिए शिक्षा, महिला सशक्तिकरण और समावेशी विकास के संकल्प को और सशक्त करते हुए बजट बनाया गया है। बजट में स्वास्थ्य के प्रति समग्र दृष्टिकोण अपनाते हुए 3 क्षेत्रों को सुदृढ़ करने का ध्यान केंद्रित किया है- निवारक, उपचारात्मक सुधारात्मक और कल्याण। स्वास्थ्य बजट को पिछले वर्ष की तुलना में 137 फ़ीसदी की बढ़ोतरी करते हुए 94 हजार करोड़ से बढ़ाकर 2.38 लाख करोड़ करने का प्रावधान किया गया है, यह अपने आप में एक बड़ा निर्णय है। इसी के साथ आपने बजट के कई प्रमुख बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की।

किसान आंदोलन कुछ किसानों का :

केंद्रीय मंत्री गेहलोद ने बताया कि प्रदेश में शराबबंदी की मांग का वो समर्थन करते है। उन्होनें कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती की मांग का केंद्र सरकार, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय और राज्य सरकार सभी सही मानते है। इंदौर में नगर निगम के अधिकारियों द्वारा बुजुर्गो को क्षिप्रा में छोड़ने के मामलें में उन्होनें कहा कि जो भी दोषी है उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। उन्होनें अभी तक की कार्यवाही से संतुष्टी जताई। वही किसान आंदोलन के मामले में कहा कि यह पूरे देश के किसानों का आंदोलन नही है पंजाब-हरियाणा और उत्तप्रदेश के कुछ हिस्सों के किसानों का आंदोलन है। साथ ही चक्काजाम को असफल बताते हुए कहा कि मप्र में इसका कोई असर दिखाई नही दिया। चर्चा के दौरान श्री गहलोत के साथ सांसद शंकर लालवानी, नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे, जिला अध्यक्ष डॉ राजेश सोनकर, प्रदेश प्रवक्ता उमेश शर्मा एवं मीडिया प्रभारी देवकीनंदन तिवारी भी उपस्थित थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co