महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि और विनोबा भावे की जयंती
महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि और विनोबा भावे की जयंती Social Media

महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि और विनोबा भावे की जयंती पर मुख्यमंत्री ने किया नमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि और विनोबा भावे की जयंती पर देश उन्हें याद कर शत-शत नमन कर रहा है, इस मौके पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर उन्हें नमन किया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाज सुधारिका और आधुनिक हिन्दी साहित्य की सबसे सशक्त कवयित्री एवं महान लेखिका, पद्म विभूषित महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि और भारत में भूदान आंदोलन के प्रणेता, प्रसिद्ध समाज सुधारक एवं स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी "भारत रत्न" आचार्य विनोबा भावे की जयंती है। इस मौके पर देश उन्हें याद कर शत-शत नमन कर रहा है।

महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि पर सीएम ने दी विनम्र श्रद्धांजलि :

महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने ट्वीट कर उन्हें नमन किया है। सीएम ने ट्वीट कर लिखा- वे मुस्काते फूल, नहीं जिनको आता है मुरझाना, वे तारों के दीप, नहीं जिनको भाता है बुझ जाना! हिन्दी कविता के छायावादी युग के प्रमुख स्तंभों में से एक, प्रख्यात कवयित्री महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर सादर नमन। भारतीय साहित्य को समृद्ध बनाने में दिया गया आपका योगदान अतुलनीय है।

आधुनिक युग की मीरा के नाम से विख्यात छायावाद के आधार स्तंभों में शामिल प्रसिद्ध कवयित्री श्रद्धेय महादेवी वर्मा की पुण्यतिथि पर नमन। साहित्य रचना के साथ ही महादेवी जी को महिलाओं की शिक्षा व उनकी आर्थिक आत्मनिर्भरता के लिए किए गए कार्यों के लिए सम्मान से स्मरण किया जाता रहेगा।

नरोत्तम मिश्रा

हिन्दी भाषा की कवयित्री थीं महादेवी वर्मा :

बता दें, 11 सितंबर 1987 को महादेवी वर्मा का निधन हो गया था। महादेवी वर्मा हिन्दी भाषा की कवयित्री थीं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तम्भों में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है ।

सीएम ने विनोबा भावे की जयंती पर किया नमन

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विनोबा भावे की जयंती पर ट्वीट कर लिखा- स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता तथा भूदान आंदोलन के प्रणेता, भारत रत्न आचार्य विनोबा भावे जी की जयंती पर उन्हें सादर नमन। आपके महान कार्य और प्रखर विचार सदैव समाज और राष्ट्र के उत्थान हेतु किए प्रेरित करते रहेंगे।

अहिंसा और सद्भावना को अपने जीवन का मूलमंत्र मानने वाले प्रसिद्ध गांधीवादी नेता, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व भूदान आंदोलन के प्रणेता आचार्य विनोबा भावे जी की जयंती पर सादर नमन।

नरोत्तम मिश्रा

भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता तथा प्रसिद्ध गांधीवादी नेता थे भावे :

वहीं आचार्य विनोबा भावे का जन्म, 11 सितंबर, 1895 को महाराष्ट्र के कोलाबा ज़िले के गागोड गांव में, एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बता दें, आचार्य विनोबा भावे भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता तथा प्रसिद्ध गांधीवादी नेता थे। उनका मूल नाम विनायक नारहरी भावे था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co