नियमित छात्रों को प्रवेश देने का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा
नियमित छात्रों को प्रवेश देने का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा|Syed Dabeer-RE
मध्य प्रदेश

नियमित छात्रों को प्रवेश देने का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा

भोपाल, मध्यप्रदेश। शैक्षिणक सत्र 2020-21 के लिए नियमित छात्रों को प्रवेश देने सम्बंधी निर्देश जारी , प्रदेश में नियमित विद्यार्थियों को समुचित प्रवेश दिलाने का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा।

गौरीशंकर चौरसिया

भोपाल, मध्यप्रदेश। शिक्षण सत्र 2020- 21 के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने अभिषेक गाइडलाइन जारी कर दी है। संक्रमण का दौर होने के बावजूद मंडल स्पष्ट किया है कि प्रदेश में नियमित विद्यार्थियों को समुचित प्रवेश दिलाने का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा। इसमें नियमों का पूरा पालन करना होगा। साथ ही पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।

गाइडलाइन से संबंधित एक पत्र भी माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा लिखा गया है। इसमें अनेक बिंदु दर्शाई गई है। उन्हीं के अनुसार विद्यार्थियों को प्रवेश दिलाना होगा। इसमें उल्लेख किया गया है कि माध्यमिक शिक्षा मंडल से सम्बद्धता प्राप्त संस्थाओं में नियमित विद्यार्थियों को प्रवेश देने सम्बंधी कार्यवाही का उत्तरदायित्व संस्था प्राचार्य का होगा। सत्र 2019-20 में ऑनलाइन प्रक्रिया से कक्षा 10वीं एवं 12वीं के लगभग 19,00,000 छात्रों के परीक्षा आवेदन-पत्र भरे गए। ऑनलाइन फार्म भरे जानें के कारण त्रुटियों में कमी हुई। परीक्षा परिणाम नियत समय पर घोषित किये जाते हैं। इसे दृष्टिगत रखते हुए सत्र 2020-21 में भी नामांकन एवं परीक्षा आवेदन-पत्र भरने की प्रक्रिया पूर्णतः ऑनलाइन रहेंगी। मंडल का कहना है कि  उक्त आदेश के अनुक्रम में प्रतिवर्ष की भांति समस्त संस्था प्राचार्य द्वारा सत्र 2020-21 हेतु अपनी संस्था में  कक्षा 9वीं, 10वीं, 11वीं, एवं 12वीं कक्षाओं में प्रवेश की समस्त प्रक्रिया अंतिम तिथि 12 अगस्त 2020 के पूर्ण करना होगी।

मान्यता प्राप्त संस्थाओं में सीधी किया जाएगा प्रवेश

मान्यता एवं संबद्धता प्राप्त संस्थाओं में शिक्षण सत्र 2020-21 में कक्षा 10वीं एवं 12वीं में सीधे प्रवेश होगा।वर्ष 2019-20 में कक्षा 9वीं एवं 11वीं में संस्था की प्रवेशिका नियमित छात्र संस्था से 10 प्रतिशत से अधिक प्रवेशित छात्रों के प्रवेश एवं पात्रता की जांच मण्डल द्वारा शैक्षणिक सत्र में कराई जावेगी। जांच के लिए विस्तृत निर्देश पृथक से जारी किए जायेंगे। संस्था के सत्र 2019-20 में कक्षा 10वीं एवं 12वीं में प्रवेशित परन्तु अनुत्तीर्ण छात्रों को उसी संस्था में पुनः सीधें प्रवेश दिया जा सकेगा, जो इस गणना में शामिल नहीं होंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co