खनिजों की खुलेआम माफिया चोरी
खनिजों की खुलेआम माफिया चोरी|Shrisitaram Patel
मध्य प्रदेश

बकही पंचायत रेत खदान में हो रही गुंडागर्दी पर मूंद ली आंखे

अनूपपुर, मध्यप्रदेश : अंधेर नगरी चौपट राजा की तर्ज पर खनिज विभाग संचालित हो रहा है, रेत, पत्थर सहित अन्य खनिजों की खुलेआम माफिया कर रहा चोरी।

Shrisitaram Patel

राज एक्सप्रेस। अनूपपुर जिले में अंधेर नगरी चौपट राजा की तर्ज पर खनिज विभाग संचालित हो रहा है, रेत, पत्थर सहित अन्य खनिजों की खुलेआम माफिया चोरी कर रहे हैं और विभागीय अधिकारी चुट-पुट कार्यवाही कर अपनी पीठ थप-थपाने में लगे हुए हैं। कहीं पर पंचायत की खदानों में माफियाओं ने कब्जा कर लिया है तो कहीं ठेकेदार धड़ल्ले से बड़े वाहन और मशीनों का प्रयोग कर रहे हैं।

पुष्पराजगढ़ अंचल में छत्तीसगढ के कारोबारी माँ नर्मदा से लगे हुए क्षेत्र और बायोस्फीयर रिजर्व क्षेत्र में बारूद के धमाके कर रहे हैं, लेकिन महीने में होने वाले मैनेजमेंट के चलते विभाग ने अपनी आंखे मूंद ली हैं।

माफियाओं की कर रहे चाकरी

खनिज विभाग का आलम यह है कि शिकायत ग्रामीण देते है, लेकिन कार्यवाही माफियाओं के हिसाब से की जाती है। बीते दिनों बकही की रेत खदान में देखने को मिला कि ग्रामीण चिल्लाते रहे कि सरपंच के द्वारा तैनात किये गये माफिया के द्वारा अवैध वसूली की जा रही है, लेकिन टीम ने इसे न सुनकर माफिया के बताये हुए पद चिन्हों पर काम करते हुए लौट गये, यही हाल वर्दीधारियों और राजस्व विभाग का भी है।

स्वीकृत रकवे से बाहर रेत की

निकासी सरपंच और उसके कारिंदो के द्वारा की जा रही है, लेकिन नाप करने की बजाये खनिज विभाग के अधिकारियों ने अपनी आंखे मूंद ली है, वेतन तो सरकार से ले रहे है, लेकिन चाकरी माफियाओं की खनिज विभाग के अधिकारी और कर्मचारी कर रहे है।

सरपंच गुंडागर्दी पर उतारू

ग्राम पंचायत बकही के सरपंच नंदउआ सिंह के खिलाफ स्थानीय ग्रामीणों ने शिकायत देते हुए आरोप लगाया कि पंचायत को आवंटित खदान में बाहरी माफियाओं को सरपंच ने पूरी व्यवस्था सौंप दी है जो कि तीन गुना अवैध वसूली कर रहा है और यह पूरा कारोबार धड़ल्ले से संचालित हो रहा है।

इस मामले की शिकायत

कलेक्टर, खनिज मंत्री, अनूपपुर विधायक, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, पुलिस अधीक्षक और थाना प्रभारी चचाई को भी भेजी गई, लेकिन आज दिनांक तक अधिकारियों ने सरपंच और कथित माफिया के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए कोई अभियान नही शुरू किया, अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां पर आल इज वेल की तर्ज पर अवैध कारोबार बेदस्तूर जारी है।

टारगेट कर रहे पूरा

नये साल में माँ नर्मदा की जयंती पर वृहद कार्यक्रम आयोजित होना है, जिसको लेकर खनिज विभाग काफी संजीदा नजर आ रहा है। खनिज के अवैध कारोबार में संलिप्त माफियाओं से खुलेआम चंदा वसूली की चर्चायें भी पूरे जिले में चर्चाओं पर है, आलम यह है कि माफिया खुद चाय की गुमटियों और मयखानो में अपनी दरियादिली के चर्चे आम कर रहे है कि जयंती में विभाग को उन्होने लाखों रूपए का चंदा दिया है जिसकी रसीद भी उनके पास है और इसकी एवज में वह धड़ल्ले से अवैध कारोबार को संचालित कर रहे हैं।

जैतहरी-चचाई में मशीन का उपयोग

वैसे तो रेत की खदानों में हाइवा सहित बड़े वाहनों और मशीनों पर पूर्णत: प्रतिबंध है, लेकिन विभाग ने दो रेत खदानों के ठेकेदारों को इसकी खुली छूट दे रखी है, खबर है कि इन दिनों जैतहरी में खुले आम बड़े वाहन नदी में उतर रहे हैं और मशीनों के माध्यम से उत्खनन और परिवहन किया जा रहा है, वही हाल चचाई रेत खदान का भी है जहां रात के अंधेरे में सोन नदी की धार में मशीन का इस्तेमाल कर बड़े वाहनों से रेत का परिवहन किया जा रहा है, अगर विभाग चाहे तो ऑनलाइन इस पूरे मामले को ट्रेस भी कर सकता है, लेकिन मैनेजमेंट के चलते अधिकारियों की सांठ-गांठ खुले तौर पर नजर आ रही है।

जेठू-बड़े अग्रवाल और तिवारी पुष्पराजगढ अंचल में छत्तीसगढ के पेंड्रा और गौरेला के माफिया हावी है, स्थानीय मैनेजमेंट हो या फिर जिला मुख्यालय से चलने वाले सिस्टम के चलते जेठू, बडे अग्रवाल और तिवारी ने खदानो का खाई का रूप दे दिया है। खनन कार्ययोजना, पर्यावरण स्वीकृत की शर्ते खुलेआम तोड़ी जा रही हैं, लेकिन खनिज विभाग खामोश है, इतना ही नही वैध की आड़ में कथित माफियाओं के द्वारा धड़ल्ले से अवैध उत्खनन और परिवहन भी किया जा रहा है, जिसका जीता जागता उदाहरण क्षेत्र में इनके द्वारा किये गये अवैध उत्खनन के गढ्ढे खुद ही गवाही देते नजर आ रहे है, पर विभाग खामोश है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co