बाघों की कुनबे संख्या में बढ़ोतरी
बाघों की कुनबे संख्या में बढ़ोतरी |Social Media
मध्य प्रदेश

एक दशक की मेहनत रंग लायी, बाघों का कुनबा पहुँचा अर्धशतक पार

पन्ना, मध्य प्रदेश : पन्ना टाइगर रिजर्व जहां दस वर्ष पहले बाघविहीन घोषित कर दिया गया था, वहीं अब ठीक दस वर्ष बाद बाघ, बाघिन और उनका कुनबा इस रिजर्व की शोभा बढ़ा रहा है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्‍य प्रदेश में बाघों की कुनबे संख्या में बढ़ोतरी हुई है, प्रदेश का पन्ना टाइगर रिजर्व जहां दस वर्ष पहले बाघविहीन घोषित कर दिया गया था, वहीं अब ठीक दस वर्ष बाद 50 से अधिक बाघ, बाघिन और उनका कुनबा इस रिजर्व की शोभा बढ़ा रहा है। टाइगर रिजर्व में इन दिनों तत्कालीन क्षेत्र संचालक आर श्रीनिवास मूर्ति की अगुवाई में सैंकड़ों वन्यजीव प्रेमी दस वर्ष पहले की गई मेहनत से जुड़ी स्मृतियों को ताजा करते हुए अनेक कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं।

बाघ को फिर से पन्ना टाइगर रिजर्व में बसाने के लिए पूरे दस वर्ष पहले एक महत्वाकांक्षी योजना प्रारंभ की गई थी, जिसके तहत राज्य के कान्हा और बांधवगढ़ वन क्षेत्र से एक-एक बाघिन और पेंच वन क्षेत्र से एक बाघ लाकर छोड़ा गया। दरअसल मार्च 2009 में पन्ना को आधिकारिक तौर पर बाघविहीन घोषित कर दिया गया था। इसके बाद ही बाघों को फिर से बसाने की योजना पर अमल किया गया।

पन्ना टाइगर रिजर्व
पन्ना टाइगर रिजर्व Social Media

पेंच से लाए बाघ को पन्ना टाइगर रिजर्व क्षेत्र में नवंबर 2009 में छोड़ा गया था, लेकिन उसकी मुलाकात दोनों बाघिनों से नहीं हो पाई। वह लापता हो गया। रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर श्रीनिवास मूर्ति की अगुवाई में दर्जनों अधिकारी कर्मचारी, हाथी और वाहनों की मदद से बाघ को 20 दिनों में खोजा गया।

पेंच पार्क ने मध्यप्रदेश को दिलाया टाइगर स्टेट का दर्ज

पेंच टाइगर रिजर्व में वन मंत्री उमंग सिंघार एवं पीएचई व जिले के प्रभारी मंत्री सुखदेव पांसे की मौजूदगी में टुरिया बेरियर प्रवेश द्वार का लोकार्पण एवं पेंच नेचर कैंप का आरंभ हुआ। कार्यक्रम में वन व पीएचई मंत्री द्वारा 32 लाख रुपए से निर्मित पेंच टाईगर रिजर्व सिवनी के टुरिया गेट एवं 65 लाख रुपए की लागत से निर्मित आदिवासी विकास वनचेतना केंद्र के लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन कुरई विकासखंड के ग्राम टुरिया में किया गया।

जिले के प्रभारी ने कहा कि

जिले के लिए यह गर्व की बात है कि पेंच नेशनल पार्क सिवनी जिले में है, पेंच पार्क के माध्यम से सिवनी एवं सिवनी जिले के निवासियों को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में पहचान मिली है। वहीं प्रदेश को टाईगर स्टेट का दर्जा दिलाने में भी पेंच टाईगर रिजर्व का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। मध्यप्रदेश पर्यटन स्थानों से भरा पूरा प्रदेश है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co