प्रदेश में कहीं भी यूरिया की किल्लत नहीं हो : शिवराज सिंह
प्रदेश में कहीं भी यूरिया की किल्लत नहीं हो : शिवराज सिंहSocial Media

प्रदेश में कहीं भी यूरिया की किल्लत नहीं हो : शिवराज सिंह

भोपाल, मध्यप्रदेश : शिवराज सिंह ने कलेक्टर-कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में कहा कि प्रदेश में कहीं भी यूरिया की किल्लत नहीं होनी चाहिए। केंद्र से बात कर यूरिया की आपूर्ति की जाएगी। खाद की कोई कमी नहीं है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कलेक्टर-कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में प्रदेश में यूरिया की स्थिति की जानकारी ले रहे थे। उन्होंने कहा कि, प्रदेश में कहीं भी यूरिया की किल्लत नहीं होनी चाहिए। केंद्र से बात कर यूरिया की आपूर्ति की जाएगी। खाद की कोई कमी नहीं है। जहां जरूरत हो वहाँ के कलेक्टर द्वारा यूरिया की मांग की जाए। पर्याप्त यूरिया दिलाया जाएगा। उज्जैन कलेक्टर ने दो रैक यूरिया की मांग की है। रतलाम कलेक्टर ने दो हजार टन यूरिया की मांग की। प्रदेश में 25 रैक यूरिया की आवश्यकता बताई गई।

खाद की कालाबाजारी करने वालों को भेजें जेल :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में खाद की कालाबाजारी किसी भी कीमत पर नहीं हो। ऐसा करने वालों को जेल भेजा जायेगा। जनता को कोई भी तकलीफ नहीं हो। प्रभावी प्रशासन व्यवस्था हो। अभी तक 03 लाख कृषकों से 20 लाख टन धान की खरीदी हो गई है। पिछले वर्ष से ज्यादा धान खरीदी गई है। मोटा अनाज उपार्जन की अंतिम तिथि 31 दिसंबर नियत है। धान की सुरक्षित खरीदी है। किसानों को कोई दिक्कत न हो। गैर किसान से धान नहीं खरीदी जाये। समय पर धान की देख-रेख हो। केंप में धान खराब न हो।

पैसे लेने वालों को नौकरी से बर्खास्त करें :

मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर रायसेन सहित सभी कलेक्टरों से कहा कि पैसे लेने वालों को नौकरी से बर्खास्त किया जायेगा। भ्रष्टाचार करने पर बख्शा नहीं जाएगा। माफियाओं के अतिक्रमण पर कार्यवाही हो। स्वच्छता में नंबर-1 आना है। शहरों को सुंदर रखें। गरीबों की रोजी-रोटी प्रभावित नहीं हो। समाचार-पत्रों में छपी खबरों पर कार्यवाही हो। नकारात्मक समाचार का खंडन करवाया जाए। खबर की सच्चाई सामने आये। तत्काल रिस्पांस हो। संवदेनशीलता से लोगों का दुख दूर करें, तटस्थ न रहे, अच्छा करें।

आर्थिक स्थिति प्रभावित न हो :

श्री चौहान ने कहा कि फीवर क्लीनिक चालू कराए जाएं। अभी 20 जिलों में एक्टिव केस हैं। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठकें जहां नहीं हुई हैं, वहां जल्द कराई जाए। प्रभारी मंत्रियों से जानकारी ली जाए। आमजन को फेस मॉस्क के लिए प्रेरित किया जाए। रोको-टोको अभियान जारी रहे। अनावश्यक भीड़ वाले आयोजनों से बचा जाए। गरीब की रोजी-रोटी चलती रहे, आर्थिक स्थिति प्रभावित न हो। कोविड केयर सेंटर की व्यवस्थाएं अच्छी रहे। ऑक्सीजन, पीएसए प्लांट क्रियाशील रहें, एलएमओ टैंक की व्यवस्था भी देख लें। दवाइयों की एक महीने की व्यवस्था रहे। मुख्यमंत्री इन्पेनल्ड अस्पतालों की अवधि 31 मार्च 2022 तक बढ़ा दी गई है। बिस्तरों की मेपिंग कर लें। प्रायवेट एवं शासकीय अस्पतालों में बिस्तरों की व्यवस्था करें। सभी आवश्यक चीजें देखें। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग करनी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूलों में बात करके बच्चों का वैक्सीनेशन करायें। प्रदेश के 48 लाख बच्चों का वैक्सीनेशन का लक्ष्य है। सांसद, विधायकों, जन-प्रतिनिधियों सभी को इस कार्य में जोड़ना है।

आज की सबसे बड़ी प्राथमिकता रोजगार देना :

श्री चौहान ने कहा कि आज की सबसे बड़ी प्राथमिकता रोजगार देना है। रोजगार केवल सरकारी नौकरी नहीं है, इसमें स्व-रोजगार की योजनाएँ सम्मिलित हैं। हम लगभग 03 लाख लोगों को हर महीने लाभ देते हैं। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर 12 जनवरी को रोजगार दिवस का प्रारंभ होगा। इसे ब्लॉक, नगर पंचायत एवं ग्रामों में भी करें। कार्यक्रम से अधिकाधिक लोगों को जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने डीएलसीसी की बैठकों की जानकारी लेते हुए कहा कि जिला स्तर के साथ ब्लॉक स्तर पर भी बैठकें हों।

मिशन मोड में बैंकों से ऋण दिलवाने का कार्य हो :

श्री चौहान ने कहा कि मिशन मोड में बैंकों से ऋण दिलवाने का कार्य होना चाहिए। स्व-रोजगार योजनाओं पर फोकस करना है। शत-प्रतिशत लक्ष्य पूरा करना है। युवाओं को मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना का लाभ देने के लिए अच्छे ढंग से प्रचार करें। बिना पूर्व तैयारी के कार्यक्रम नहीं हों। रोजगार मेलों में अधिकाधिक प्रकरणों में स्व-रोजगार के लिए ऋण स्वीकृत हो।

स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा 08 से 14 जनवरी के मध्य :

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा 08 से 14 जनवरी के मध्य होगी। जन्म से 06 वर्ष तक के बच्चों का वजन, ऊँचाई, ली जाएगी। विभिन्न माप एजेंसियों द्वारा बच्चों की ऊंचाई एवं वजन लिया जायेगा। अस्वस्थ बच्चों को उपचार के लिए चिन्हित किया जाएगा। उन्होंने कलेक्टरों को इस कार्यक्रम की तैयारी के निर्देश दिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है। बच्चों की जिंदगी बदलने का है। प्रधानमंत्री की सोच बच्चों के प्रति अच्छी है। विभिन्न संस्थाओं एवं जन-प्रतिनिधियों को जोड़ें। बच्चों को स्वस्थ रखना सर्वसमाज की जिम्मेदारी है। सबको आँगनवाड़ी से जोड़े और आंगनबाड़ी की समिति बना लें। अफसरों को स्वयंसेवी संस्थाओं को आंगनबाड़ी से जोड़ें। आगामी 08 जनवरी को मंत्रीगण, विधायक आंगनबाडिय़ों में जाएं। मैं भी एक आंगनबाड़ी में जाऊंगा। शारीरिक माप से कोई बच्चा वंचित न रहे। अभियान का प्रिंट-इलेक्ट्रानिक, सोशल मीडिया में बेहतर प्रचार-प्रसार हो। मीडिया हाऊस भी आँगनवाड़ी गोद लें। बहुप्रचारित करके आँगनवाडिय़ों को जोडऩा है। कलेक्टर प्रभारी मंत्री भी एक-एक आँगनवाड़ी से जुड़े। बच्चों को स्वस्थ रखने का संकल्प लें। अभियान बनाकर आँगनवाडिय़ों से लोगों को जोड़ा जाए।

सीएम नए वर्ष की शुभकामनाएं देते हुए कहा, अच्छा परफार्मेंस करें :

सीएम श्री चौहान ने कहा कि 'आयुष्मान भारत' योजना के वीडियो अपलोड करें। सरकार के अच्छे कार्यों का प्रचार आपका कार्य है। यह हमारी ड्यूटी है। कलेक्टर चाहे तो पूरा जिला बदल सकता है। सब मिलकर अच्छा कार्य करें। नए वर्ष की शुभकामनाएं। अच्छे कार्य के माध्यम से यशस्वी हो। अच्छा परफार्मेंस करें। एक साल में चमत्कार करके दिखाएं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co