मंत्री पीसी शर्मा
मंत्री पीसी शर्मा|Social Media
मध्य प्रदेश

बेंगलुरु से विधायक नहीं आ जाते तब तक फ्लोर टेस्ट नहीं होगा: शर्मा

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार में मंत्री ने कहा- बेंगलुरु से विधायक नहीं आ जाते तब तक फ्लोर टेस्ट नहीं होगा।

Aditya Shrivastava

राज एक्सप्रेस। मध्‍य प्रदेश में मचे सियासी संग्राम के बीच मुख्‍यमंत्री कमलनाथ के मंत्री ने मीडिया से चर्चा कर कहा कि आज सुप्रीम कोर्ट ने सीएम कमलनाथ, विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति और कांग्रेस पार्टी को नोटिस दिए। कल हमारा वकील अदालत में उपस्थित होगा और हमें सर्वोच्च न्यायालय के साथ-साथ हमारी न्यायिक प्रणाली पर पूरा भरोसा है।

उन्होंने कहा कि बेंगलुरु में मौजूद विधायक दबाव में हैं। उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है। पहले उन्हें छुड़वाया जाए। शर्मा ने यह भी आरोप लगाया कि बेंगलुरु में बंधक बनाए गए 16 विधायकों के परिजन मुख्यमंत्री से मिले थे। इसलिए कमलनाथ ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और कर्नाटक के डीजीपी को पत्र लिखकर उन्हें छुड़वाने की मांग की थी।

उन्होंने कहा कि बेंगलुरु से विधायक नहीं आ जाते तब तक फ्लोर टेस्ट नहीं होगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे और उसका पालन करेंगे। राज्यपाल की चिट्ठी का जवाब सीएम ने दिया है। उन्होंने कहा कि बेंगलुरु के बंधक विधायक को लेकर भाजपा के नेता झूठ बोल रहे हैं।

शर्मा ने यह भी कहा कि विधायकों को बेंगलुरु से नहीं बल्कि भोपाल से प्रेस कॉफ्रेंस करनी चाहिए थी। प्रदेश में 70 हजार करोड़ रुपए का निवेश आया है। प्रदेश के 87 प्रतिशत लोगों को सरकार की योजनाओं का लाभ मिल रहा है। वहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में मिलने पर उन्होंने कहा कि उनमें भाजपा का पानी बोल रहा है। बागी विधायकों की सुरक्षा की मांग पर उन्होंने कहा कि सरकार उन्हें सुरक्षा देने के लिए तैयार है।

वही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि अविश्वास प्रस्ताव स्पीकर साहब को दिया गया है। उस पर स्पीकर साहब निर्णय करेंगे। हम लोग अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने के लिए तैयार हैं। जो 16 विधायक बेंगलुरू में है वो चाहे जो भी बयान दें पर ये तो बताएं कि इतने दिनों से वहां कर क्या रहे हैं?

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co