कोरोना की चपेट में प्रदेश
कोरोना की चपेट में प्रदेश|Social Media
मध्य प्रदेश

कोरोना की चपेट में प्रदेश: तीन संदिग्ध और मिले

कोरोना वायरस का कहर इन दिनों काफी चर्चा में, मध्यप्रदेश में भी कोरोना वायरस ने खलबली मचा दी है। अब कोरोना वायरस की चपेट में इंदौर।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। कोरोना वायरस का कहर इन दिनों काफी चर्चा में, मध्यप्रदेश में भी कोरोना वायरस ने खलबली मचा दी है। अब इंदौर में कोरोना वायरस के संक्रमण के तीन संदेहियों को चिकित्सा निगरानी में रखा गया है, जिनका स्वास्थ्य सामान्य बताया गया है। आईडीएसपी प्रभारी डॉ संतोष सिसोदिया ने आज बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के तीन संदेही रोगियों के सेम्पल जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गए हैं, जहां से अब तक जांच रिपोर्ट अप्राप्त है। तीनों रोगियों को एहतियातन चिकित्सा निगरानी में रखा गया है, जिनका स्वास्थ्य सामान्य बताया जा रहा है।

आईडीएसपी प्रभारी डॉ संतोष सिसोदिया के अनुसार

एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) प्रभारी डॉ संतोष सिसोदिया के अनुसार सुखद खबर है कि डेंगू संक्रमण से इस वर्ष अब तक एक भी रोगी की मौत नही हुयी है। वहीं, स्वाइन फ्लू से इस वर्ष एक जनवरी से अब तक कुल 27 मरीजों के सेम्पल जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गए हैं, जिसमें दो रोगियों में स्वाइन फ्लू संक्रमण की पुष्टि हुयी है। इसमें एक की मौत कुछ दिन पूर्व एक निजी अस्पताल में हो गयी, जबकि दूसरे को स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है।

कोरोना से बचाव के लिये मध्यप्रदेश में अलर्ट जारी

मध्यप्रदेश में नोवल कोरोना वायरस से बचाव के लिये स्वास्थ्य विभाग ने हाई अलर्ट जारी किया है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इस संबंध में विभागीय तैयारियों की समीक्षा करते हुए यह जानकारी दी। श्री सिलावट ने कहा कि, कोरोना वायरस से लड़ने के लिये बड़े पैमाने पर जन जागरुकता अभियान चलाया जाए।

लोगों को इससे बचाव के घरेलू उपायों के साथ परम्परागत उपायों की जानकारी भी दी जाये। उन्होंने कहा, एयरपोर्ट पर आने वाले अन्तर्राष्ट्रीय यात्रियों की जाँच की जाए। नगर निगम अमला मीट-मछली मार्केट की प्रतिदिन साफ-सफाई करें। इस अवसर पर प्रमुख सचिव डॉ. पल्लवी जैन गोविल ने बताया कि चीन से लौटे छह लोगों को दिल्ली में रोका गया है। केन्द्र सरकार का स्वास्थ्य विभाग चीन से लौटने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अपनी निगरानी में रखकर परीक्षण कर रहा है। ऐसे व्यक्तियों को 14 दिनों तक निगरानी में रखा जायेगा। उन्होंने बताया कि राज्य स्तर पर प्रतिदिन इस वायरस से बचाव के लिये किये जा रहे उपायों और इसके प्रभाव की नियमित समीक्षा की जा रही है।

सभी जिला अस्पतालों में 5 बिस्तर और मेडिकल कॉलेजों में 10 बिस्तर के आईसोलेशन वार्ड बनाये गये हैं। नोवल कोरोना वायरस के सेम्पल नि:शुल्क जाँच के लिये पुणे स्थित एन.आई.वी. लैब भेजे जायेंगे। साँची में मेडिकल आउट-पोस्ट की स्थापना की गई है, जहाँ पर्यटकों को नोवल कोरोना वायरस संबंधी जानकारी दी जा रही है। राज्य स्तर पर जनसामान्य को वायरस की जानकारी देने के लिये कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है।

कई मामले आए सामने :

इस घटना के आने से पहले इससे जुड़े कई मामले सामने आ चुके हैं जिसमें इससे पहले ग्वालियर और उज्जैन में वायरस के लक्षण पाए जाने पर पीड़ितों को भर्ती कराया गया था। वहीं चीन में वायरस की वजह से 300 से ज्यादा लोगों की अब तक जान जा चुकी है वहीं कई लोग इससे ग्रसित हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co