Indore Dial 100 : तीन घंटे में रास्ता भटकी तीन साल की मासूम पहुंची अपने घर
बुआ की गोद में बच्चीRavi Verma

Indore Dial 100 : तीन घंटे में रास्ता भटकी तीन साल की मासूम पहुंची अपने घर

पुलिस की कोशिश के बीच सोशल मीडिया के सकारात्मक परिणाम। राजेंद्र नगर थाना प्रभारी ने सोशल मीडिया का सदुपयोग किया और उसी की मदद से बच्ची के परिजनों के बारे में तीन घंटे में ही जानकारी मिल गई।

इन्दौर, मध्यप्रदेश। पुलिस की डायल-100 को फ़ोन के माध्यम से सूचना मिली थी कि राजेंद्र नगर के बिजलपुर इलाके में एक तीन साल की बच्ची है जो रो रही है और कुछ बता नहीं पा रही है। उक्त बालिका को इलाके में पहले कभी देखा नहीं गया, मौके पर पहुँची पुलिस टीम ने सूचना तस्दीक के बाद आस पास इलाके में पूछताछ की लेकिन कोई कुछ नहीं बता सका। मासूम भी अपने निवास के बारे में कोई जानकारी नहीं दे सकी।

इस प्रकार के नाबालिग बच्चों के गुमने आदि संवेदनशील प्रकरणों में आईजी हरिनारायणचारी मिश्र एवं डीआईजी मनीष कपूरिया द्वारा सक्रियता एवं गंभीरता पूर्वक कार्रवाई किए जाने हेतु दिए गए निर्देशों के अनुक्रम में, उक्त मासूम 3 वर्ष की बालिका के प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए एसपी महेशचंद जैन के मार्गदर्शन में एएसपी प्रशांत चौबे से मिले निर्देशों का थाना राजेंद्र नगर द्वारा कड़ाई से पालन करते हुए, मासूम को राजेंद्र नगर थाने लाकर चाइल्ड लाइन की टीम को सूचना दी गई और उसके परिजनों की तलाश शुरू कर दी गई।

राजेंद्र नगर थाना प्रभारी ने सोशल मीडिया का सदुपयोग किया और उसी की मदद से बच्ची के परिजनों के बारे में तीन घंटे में ही जानकारी मिल गई। राजेंद्र नगर थाना इलाके में जितनी भी कॉलोनी है लगभग सभी के वाट्सएप ग्रुप बने हुए है , इन सभी ग्रुप में थाना प्रभारी अमृता सोलंकी ने बच्ची के फोटो के साथ बच्ची की जानकारी प्रसारित कर दी थी । मासूम की बुआ इलाके में ही एक घर में काम करने गई हुई थी, उसी दौरान घर के एक शख्स ने सोशल मीडिया पर फोटो देखा और उसका जिक्र किया, तो अचानक जिज्ञासावश बच्ची की बुआ ने फोटो देखा तो वह अपनी भतीजी को पहचान गई और तत्काल थाना प्रभारी राजेंद्र नगर से सम्पर्क करने के बाद थाने पहुँच गई।

बालिका के पिता सुबह काम पर जाते समय अपनी बेटी को अपनी बहन (बच्ची की बुआ) के घर छोड़ कर चले गए थे, इस दौरान मासूम अपनी दो अन्य बहनों के साथ खेल रही थी। खेलते खेलते वह दूर निकल गई और बिछड़ गई, हालांकि वह अपने और माता-पिता के बारे में कोई जानकारी नहीं दे पा रही थी।

थाने पर चॉकलेट एवं अन्य माध्यम से थाना प्रभारी ने बालिका को बातों में उलझाकर घर के पते के बारे में जानकारी जुटाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं बता सकी। इस दौरान चाइल्ड लाइन की टीम भी मौजूद रही और जानकारी जुटाने का प्रयास किया। हालांकि सोशल मीडिया सकारात्मक परिणाम देखने में आया, कि ग्रुपों में संदेश वायरल होने के महज तीन घंटे के अंदर ही बालिका के परिजनों की तलाश पूरी हो गई और मासूम को परिजनों के सुपुर्द कर दिया। इस दौरान स्थानीय रहवासियों ने भी सक्रियता के साथ सहयोग किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co