आज फिर चिरायु से 28 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर डिस्चार्ज
आज फिर चिरायु से 28 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर डिस्चार्ज|Shahid kamil
मध्य प्रदेश

आज फिर चिरायु से 28 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर डिस्चार्ज

कोरोना से बढ़ती उम्र के खतरे के मिथक को हरा आज फिर 28 व्यक्ति इस युद्ध में जीतकर सकुशल अपने घर रवाना हुए।

Shahid Kamil

राज एक्सप्रेस। 'बुजुर्ग व्यक्ति ना घबराएं - कोरोना को हराएं - आगे आकर जांच कराएं' कोरोना से बढ़ती उम्र के खतरे के मिथक को हरा आज फिर 28 व्यक्ति इस युद्ध में जीतकर सकुशल अपने घर रवाना हुए। शासन- प्रशासन और उच्च स्तरीय स्वास्थ्य व्यवस्था और अच्छे इलाज के चलते बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो रहे हैं।

आज डिस्चार्ज हुए 65 वर्षीय अफजल हसन ने शासन-प्रशासन और चिरायु अस्पताल का हार्दिक धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि वे इस बीमारी से लड़ पाएंगे। लेकिन अच्छे इलाज और बेहतर सुविधाओं के कारण ही आज वे स्वस्थ हो पाए हैं। 52 वर्षीय प्रदीप सक्सेना को आज नया जीवन मिला है। कोरोना संक्रमण को हराने में जिला प्रशासन के योगदान और इलाज के प्रयासों के लिए उन्होंने हार्दिक धन्यवाद दिया ।

जहांगीराबाद निवासी 5 वर्ष की नन्ही नेहा झा आज अपने पिता 55 वर्षीय मनीष झा के साथ मुस्कुराती हुई अपने घर की ओर रवाना हुई। उनके पिता ने बताया की वह अपनी बच्ची के स्वास्थ्य को लेकर बहुत घबराए हुए थे लेकिन डॉक्टर्स और नर्सो के सौम्य व्यवहार और अच्छे इलाज से यह डर निकल गया। वे जिंदगीभर इस इलाज के ऋणी रहेंगे। इसी तरह अन्य सभी व्यक्तियों ने शासन- प्रशासन को अच्छी स्वास्थ्य व्यवस्थाओं और सुविधाओं के लिए धन्यवाद दिया। सभी ने भोपालवासियों से अपील की कि वे कोरोना से डरे नहीं बल्कि इसका डटकर मुकाबला करें। स्वयं आगे आएं और अपनी जांच कराएं। जितनी जल्दी इस संक्रमण का पता चलेगा इतनी जल्दी इसका इलाज संभव हो पाएगा।

आज डिस्चार्ज हुए 28 व्यक्तियों में मोहम्मद मुबीन, अफजल हसन, दिलीप कुमार सिन्हा, रफीक मियां, प्रदीप सक्सेना, घनश्याम चौरसिया, मोहम्मद रफीक दशरथ सिंह यादव , मोहम्मद आदिल, सरफान अहमद,शांति शर्मा, आशीष पंद्रम, सौरव यादव, दीपक कुमार, माखनलाल सेन ब्रजकिशोर झा, बेबी नेहा झा, मनीष झा, ठाकुर प्रसाद, रोहित खेरवार, सावित्री पंथी , सपना ओझा, ऋषिका ओझा, ऋषि ओझा, समर खान, मोहम्मद जलील, धर्मेंद्र धाकड़ और आदिल हुसैन शामिल है।

चिरायु अस्पताल के डायरेक्टर डॉ अजय गोयनका ने आज डिस्चार्ज हुए सभी व्यक्तियों को 7 दिवस होम क्वारंटाइन की समझाइश दी। अर्ली ऑक्सीजन थैरेपी से घातक बीमारियों से ग्रसित होने के बाद भी सभी व्यक्तियों का संक्रमण का इलाज संभव है। जितनी जल्दी इस संक्रमण का पता चलेगा उतनी जल्दी इसके इलाज की संभावना प्रबल होगी। इसलिए सर्दी खासी जैसे लक्षण होने पर तुरंत फीवर क्लीनिक या शासकीय अस्पतालों में जाए और अपनी जांच कराएं। आपकी जांच ही आपके इलाज का पहला कदम है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co