आज सीएम शिवराज ने पुत्र कुणाल और उज्जवल भूमि फाउंडेशन के सदस्यों के साथ लगाए पौधे
आज सीएम ने लगाए 3 पौधेSocial Media

आज सीएम शिवराज ने पुत्र कुणाल और उज्जवल भूमि फाउंडेशन के सदस्यों के साथ लगाए पौधे

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रतिदिन पौधरोपण के क्रम में आज सीएम शिवराज ने पुत्र कुणाल और उज्जवल भूमि फाउंडेशन के सदस्यों के साथ स्मार्ट सिटी उद्यान में 3 पौधे लगाए हैं।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राज्य में हर दिन एक पेड़ लगा रहे हैं, प्रतिदिन पौधरोपण के क्रम में आज सीएम शिवराज ने पुत्र कुणाल और उज्जवल भूमि फाउंडेशन के सदस्यों के साथ स्मार्ट सिटी उद्यान में पौधे लगाए हैं।

सुपुत्र कुणाल चौहान ने अपने जन्मदिन के उपलक्ष्य में CM के साथ लगाया पौधा

सुपुत्र कुणाल सिंह चौहान ने अपने जन्मदिन के उपलक्ष्य में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ बरगद का पौधा लगाया। इस मौके पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा- सुपुत्र कुणाल का कल जन्मदिन था और मेरी अत्यधिक व्यस्तता के कारण कल वे मेरे साथ पौधरोपण नहीं कर पाये थे। कुणाल ने आज अपने जन्मदिन के उपलक्ष्य में पौधा लगाया है, आपसे भी आग्रह है कि प्रत्येक शुभ अवसर पर पौधरोपण अवश्य कीजिये।

मैं आप सभी से अपील करता हूं कि अपने जन्मदिन, वैवाहिक वर्षगांठ जैसे शुभ अवसरों पर पौधरोपण अवश्य कीजिये।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

सीएम ने उज्जवल भूमि फाउंडेशन के सदस्यों के साथ लगाए पौधे

वहीं, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के स्मार्ट पार्क में उज्जवल भूमि फाउंडेशन के प्रदीप कुशवाहा, नीलेश श्रीवास्तव, प्रमोद पटेल और शिवेंद्र कुशवाह के साथ सप्तपर्णी और केसिया के पौधे लगाये। इस अवसर पर सीएम ने कहा कि, आपसे भी आग्रह है कि जीवन के सशक्त आधार अपनी धरती को हम सब हरा-भरा व समृद्ध बनायें।

जानें बरगद, केसिया और सप्तपर्णी के फायदे:-

  • बरगद का पौधा- दांत और मसूड़ों को रखे स्वस्थ, प्रतिरोधक क्षमता में सुधार, डायबिटीज को दूर करने में मददगार, बांझपन और नपुंसकता में लाभदायक, जोड़ों के दर्द में मददगार, कोलेस्ट्रॉल को करे नियंत्रित।

  • केसिया का पौधा आयुर्वेद में अ​त्यंत गुणकारी बताया गया है। केसिया जावानिका की छाल और पत्तियों का उपयोग आयुर्वेदिक दवाएँ बनाने में किया जाता है। कब्ज, शूल, मूत्र विकारों के इलाज के लिए इससे तैयार दवाओं का उपयोग किया जाता है।

  • वहीं अगर सप्तपर्णी पौधे की बात करें, तो सप्तपर्णी को आयुर्वेद में उन औषधियों में से एक माना जाता है, जो कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ को समाहित किए हुए हैं। यह एक सदाबहार वृक्ष है, जिसमें दिसंबर से मार्च के दौरान छोटे-छोटे हरे और सफेद रंग के फूल लगते हैं, जिनसे एक बेहद तेज और विशिष्ट सुगंध आती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co