आज मंत्रालय में सीएम ने जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी से की भेंट
सीएम ने जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी से की भेंटSocial Media

आज मंत्रालय में सीएम ने जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी से की भेंट

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज सीएम शिवराज ने मंत्रालय में जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर से भेंटकर उनका मंगल आशीर्वाद प्राप्त किया एवं अध्यात्म से जुड़ें विभिन्न विषयों पर चर्चा की।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि (Avdheshanand Giri) से भेंट की है। इस दौरान एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कई विषय पर चर्चा की है।

शिवराज सिंह चौहान ने किया ट्वीट :

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा- परम सौभाग्य, आनंद के क्षण हैं कि जूनापीठाधीश्वर आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज का मंत्रालय में आगमन हुआ है। आपका आशीर्वाद प्राप्त कर जीवन धन्य हो गया। महाराज भोपाल में आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास की बैठक में हमारा मार्गदर्शन करेंगे।

सीएम चौहान ने आचार्य को भेंट किया आदि शंकराचार्य का छायाचित्र

बता दें कि सीएम शिवराज ने आज मंत्रालय में जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर से भेंटकर उनका मंगल आशीर्वाद प्राप्त किया एवं अध्यात्म से जुड़ें विभिन्न विषयों पर चर्चा की। इस दौरान मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आचार्य को आदि शंकराचार्य का छायाचित्र भी भेंट किया।

आचार्य सांस्कृतिक एकता न्यास की बैठक :

वहीं, मंत्रालय में जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि, प्रमुख संतों एवं न्यास के सदस्यों के साथ आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास की बैठक में भाग लिया। बैठक में मुकुल कानिटकर, मित्रानंद जी महाराज और पद्मश्री वीआर गौरीशंकर जी के अलावा वर्चुअल रूप से ऑस्ट्रेलिया से स्वामी स्वरूपानंद चिन्मय मिशन और स्वामी विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी से निवेदिता दीदी भी उपस्थित हैं।

हिंदू आध्यात्मिक गुरु, संत, लेखक और दार्शनिक हैं स्वामी गिरि

बता दें, स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज हिंदू आध्यात्मिक गुरु, संत, लेखक और दार्शनिक हैं। स्वामी अवधेशानंद गिरि जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर हैं, उन्हें जूना अखाड़े का प्रथम पुरुष माना जाता है। जूना अखाड़ा भारत में नागा साधुओं का सबसे पुराना और सबसे बड़ा समूह है। स्वामी अवधेशानंद गिरि ने लगभग दस लाख साधुओं को दीक्षा दी है और वे उनके पहले गुरु हैं। इनका आश्रम कनखल, हरिद्वार में है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co