One Plant A Day: आज गोवर्धन पर्व के शुभ अवसर पर CM शिवराज ने लगाया रूद्राक्ष का पौधा
सीएम शिवराज ने लगाया रूद्राक्ष का पौधाSocial Media

One Plant A Day: आज गोवर्धन पर्व के शुभ अवसर पर CM शिवराज ने लगाया रूद्राक्ष का पौधा

उज्जैन, मध्यप्रदेश। एमपी में हर दिन एक पेड़ लगाने के अपने संकल्प के तहत आज मुख्यमंत्री शिवराज ने भोपाल में ' रूद्राक्ष का पौधा' लगाया है। इस अवसर पर सीएम ने कही ये बात।

उज्जैन, मध्यप्रदेश। एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने संकल्प के क्रम में प्रतिदिन पौधरोपण कर रहे हैं। एमपी में हर दिन एक पेड़ लगाने के अपने संकल्प के तहत आज मुख्यमंत्री शिवराज ने भोपाल में ' रूद्राक्ष का पौधा' लगाया है। इस अवसर पर सीएम ने कहा कि पौधरोपण से बेहतर धरा को बचाने व मानव सेवा का कोई और कार्य नहीं है। आइये, हम सब पौधरोपण कर अपनी धरती व मानव जीवन को समृद्ध बनायें।

आज सीएम ने लगाया रूद्राक्ष का पौधा :

आज गोवर्धन पूजा के पावन अवसर पर उज्जैन के त्रिवेणी संग्रहालय के पास मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साथी वीडी शर्मा और केबिनेट मंत्री मोहन यादव व गणमान्य साथियों के साथ रूद्राक्ष का पौधा रोपा।

CM ने रूद्राक्ष के वृक्ष का महत्व बताते हुए कहा- रुद्राक्ष आस्था का प्रतीक है और पवित्र वृक्ष माना जाता है। इसके फल की मालाएं भी धारण की जाती हैं। ऐसा जन विश्वास है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शंकर के नेत्रों के जलबिंदु से हुई। रुद्राक्ष शिव का वरदान है, जो संसार के भौतिक दु:खों को दूर करने के लिए प्रभु शंकर ने प्रकट किया। रुद्राक्ष धारण करने से सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है। रुद्राक्ष मंत्र-जाप के लिए भी पहने जाते हैं। इसके बीज मुख्य रूप से भारत और नेपाल में आभूषणों और माला के रूप में उपयोग किए जाते हैं।

  • रुद्राक्ष मुख्य रूप से हिमालय के प्रदेशों में पाए जाते हैं।

  • असम, मध्यप्रदेश, उत्तरांचल, अरूणांचल प्रदेश, बंगाल, हरिद्वार, गढ़वाल और देहरादून के जंगलों में भी पर्याप्त मात्रा में रुद्राक्ष पाए जाते हैं।

  • गंगोत्री और यमुनोत्री क्षेत्र में भी रुद्राक्ष मिलते हैं।

  • इसके अलावा दक्षिण भारत में नीलगिरि और मैसूर में तथा कर्नाटक और रामेश्वरम में भी रुद्राक्ष के वृक्ष देखे जा सकते हैं।

CM चौहान ने कहा- "गोवर्धन पूजा में प्रकृति संरक्षण का संदेश निहित है"

इस बीच सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि गोवर्धन पूजा में प्रकृति संरक्षण का संदेश निहित है। विश्व अब प्रकृति संरक्षण के प्रति जागृत हुआ है,लेकिन हमारा देश तो हजारों साल पहले से ही प्रकृति पूजा कर रहा है। उज्जैन में वृक्षारोपण कार्यक्रम व अंकुर अभियान से जुड़े वॉलंटियर्स से विचार साझा किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co