PM मोदी ने चीतों को कूनो में छोड़ा
PM मोदी ने चीतों को कूनो में छोड़ाSocial Media

ऐतिहासिक पल! PM मोदी ने अपने 72वें जन्मदिवस के अवसर पर नामीबिया से लाए चीतों को कूनो में छोड़ा

श्योपुर, मध्यप्रदेश। आज प्रधानमंत्री द्वारा राज्यपाल मंगुभाई पटेल एवं मुख्यमंत्री की गरिमामयी उपस्थिति में नामीबिया से लाए गए चीतों को कूनो नेशनल पार्क, श्योपुर में विमुक्त किया।

श्योपुर, मध्यप्रदेश। भारत का 70 साल का इंतजार आज खत्म हो गया है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने 72वें जन्मदिवस के अवसर पर नामीबिया से लाए गए चीतों को मध्यप्रदेश के श्योपुर स्थित कूनो के बाड़े में औपचारिक तौर पर छोड़ा। पीएम मोदी ने तीन चीतों को औपचारिक तौर पर विमुक्त कर देश में चीतों को फिर से बसाने की योजना की शुरूआत की। इस दौरान उनके साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी उपस्थित रहे।

नामीबिया से लाए गए चीतों का Kuno NationalPark में विमुक्तिकरण कार्यक्रम :

आज भारत की धरती पर चीता लौट आए हैं : पीएम मोदी

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि, दशकों पहले, जैव-विविधता की सदियों पुरानी जो कड़ी टूट गई थी, विलुप्त हो गई थी, आज हमें उसे फिर से जोड़ने का मौका मिला है। आज भारत की धरती पर चीता लौट आए हैं। और मैं ये भी कहूँगा कि इन चीतों के साथ ही भारत की प्रकृतिप्रेमी चेतना भी पूरी शक्ति से जागृत हो उठी है, मैं हमारे मित्र देश नामीबिया और वहाँ की सरकार का भी धन्यवाद करता हूँ जिनके सहयोग से दशकों बाद चीते भारत की धरती पर वापस लौटे हैं।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, ये दुर्भाग्य रहा कि हमने 1952 में चीतों को देश से विलुप्त तो घोषित कर दिया, लेकिन उनके पुनर्वास के लिए दशकों तक कोई सार्थक प्रयास नहीं हुआ। आज आजादी के अमृतकाल में अब देश नई ऊर्जा के साथ चीतों के पुनर्वास के लिए जुट गया है, ये बात सही है कि, जब प्रकृति और पर्यावरण का संरक्षण होता है तो हमारा भविष्य भी सुरक्षित होता है।

अंतरराष्ट्रीय गाइडलाइन्स पर चलते हुए भारत इन चीतों को बसाने की पूरी कोशिश कर रहा है। हमें अपने प्रयासों को विफल नहीं होने देना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कही ये बातें :

💠 कुनो नेशनल पार्क में छोड़े गए चीतों को देखने के लिए देशवासियों को कुछ महीने का धैर्य दिखाना होगा, इंतजार करना होगा। आज ये चीते मेहमान बनकर आए हैं, इस क्षेत्र से अनजान हैं।कुनो नेशनल पार्क को ये चीते अपना घर बना पाएं, इसके लिए हमें इन चीतों को भी कुछ महीने का समय देना होगा।

💠 प्रकृति और पर्यावरण, पशु और पक्षी, भारत के लिए ये केवल sustainability और security के विषय नहीं हैं, हमारे लिए ये हमारी sensibility और spirituality का भी आधार हैं।

💠 आज 21वीं सदी का भारत, पूरी दुनिया को संदेश दे रहा है कि Economy और Ecology कोई विरोधाभाषी क्षेत्र नहीं है। पर्यावरण की रक्षा के साथ ही, देश की प्रगति भी हो सकती है, ये भारत ने दुनिया को करके दिखाया हैं।

💠 आज देश में 75 wetlands को रामसर साइट्स के रूप में घोषित किया गया है, जिनमें 26 साइट्स पिछले 4 वर्षों में ही जोड़ी गई हैं, देश के इन प्रयासों का प्रभाव आने वाली सदियों तक दिखेगा, और प्रगति के नए पथ प्रशस्त करेगा।

💠 Tigers की संख्या को दोगुना करने का जो लक्ष्य तय किया गया था उसे समय से पहले हासिल किया है। असम में एक समय एक सींग वाले गैंडों का अस्तित्व खतरे में पड़ने लगा था, लेकिन आज उनकी भी संख्या में वृद्धि हुई है। हाथियों की संख्या भी पिछले वर्षों में बढ़कर 30 हजार से ज्यादा हो गई है।

💠 हमारे यहाँ एशियाई शेरों की संख्या में भी बड़ा इजाफा हुआ है। इसी तरह, आज गुजरात देश में एशियाई शेरों का बड़ा क्षेत्र बनकर उभरा है। इसके पीछे दशकों की मेहनत, research-based policies और जन-भागीदारी की बड़ी भूमिका है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co