अधिकारियों के नाम यातायात प्रभारी कर रहे वसूली
अधिकारियों के नाम यातायात प्रभारी कर रहे वसूली|सांकेतिक चित्र
मध्य प्रदेश

उमरिया: अधिकारियों के नाम यातायात प्रभारी कर रहे वसूली

उमरिया, मध्य प्रदेश: कोरोना महामारी की मार आम जनता की जेब पर वैसी ही भारी पड़ रही है, उस पर पुलिस विभाग यातायात के नाम पर अवैध वसूली कर आम जनता की जेब काट रहा है।

Afsar Khan

उमरिया, मध्य प्रदेश। पुलिस विभाग ने सूबेदार को यातायात की कमान क्या सौंपी शहर की व्यवस्था सुधारने की बजाय कथित अधिकारी ने पूरे जिले भर में अवैध वसूली का खेल-खेलना शुरू कर दिया, यह पूरा माजरा कमान मिलने से अभी तक जारी है। इतना ही नहीं बड़े अधिकारियों के नाम पर इस दौरान जमकर वसूली भी की गई। रेत के अवैध कारोबार को भी बढ़ावा दिया गया, अपनी पदस्थापना से लेकर अभी तक सूबेदार अमित विश्वकर्मा ने कई मामलों में अपने विभाग के रोजनामचे में दर्ज मामलों को ही रिश्वत लेकर छोड़ दिया गया। इसके अलावा कई मामलों में न्यायालय को भी गुमराह करने का काम अपने आर्थिक स्वार्थ के चलते सूबेदार ने बखूबी निभाया, देश भक्ति-जनसेवा की शपथ लेकर वर्दी तो पहनी, लेकिन कथित अधिकारी ने वर्दी की साख पर ही बट्टा लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

अवैध वसूली की लंबी फेहरिस्त :

विभागीय बजट में बंदरबांट का मामला तो, कार्यवाही और जांच में खुल सकता है, लेकिन सूबेदार अमित विश्वकर्मा ने अपनी पदस्थापना के दौरान कई ऐसे कारनामे किये हैं, अगर इस मामले में विभाग के अधिकारी और न्यायालय खुद संज्ञान ले-ले तो, शायद इससे पहले किसी वर्दीधारी ने ऐसा कारनामा किया होगा। ट्रैक्टर को मोटर सायकल बताकर अदालत से वाहन को छुड़वा दिया गया। खबर यह भी है कि अमरपुर से लेकर पाली तक वाहनों की चेकिंग के नाम पर मोटी रकम वसूल की गई, वहीं करकेली के ओमकार उर्फ बबलू सिंह को भी सूबेदार ने ही संरक्षण दिया था, बहरहाल यह पूरा मामला कार्यवाही होने के बाद से जांच में हैं, अभी तो, बबलू फरार है और उस पर ईनाम भी घोषित है, उसके गिरफ्त में आने के बाद ही सच से पर्दा उठ सकेगा।

राखड़ के कैप्सूलों को मैनेजमेंट :

जिन राखड़ के कैप्सूलों ने हाइवे को खूनी बना दिया, कई घरों के चिराग बुझ गये, ओव्हर लोड नियम विरूद्ध दौड़ते राखड़ों के कैप्सूल में भी कथित अधिकारी ने पूरा मैनेजमेंट अपने हाथो में ले रखा है, इस खेल के मास्टर माईंड जयकिशन की भी चाभी सूबेदार अमित विश्वकर्मा ने अपने हाथों में ले रखी है, इतना ही नहीं जिले भर के प्रभारियों के नाम पर पूरा हिस्सा जयकिशन से सूबेदार अमित विश्वकर्मा के द्वारा लिया जाता रहा है। अगर जयकिशन का कहीं मैनेजमेंट बिगड़ता है तो, वह फरियाद लेकर प्रभारी के पास पहुंचता है, जिसके बाद सारी समस्याओं का निदान चुटकियों निपटा दिया जाता है। लाल डायरी में सारा लेखा-जोखा मौजूद है, जबकि विभाग के अधिकारियों को इससे कोई लेना-देना नहीं है।

इनका कहना है

मेरे द्वारा किसी भी प्रकार का गलत काम नहीं किया गया है, अगर आपके पास प्रमाण हैं तो, आप खबर प्रकाशित कर सकते हैं।

अमित विश्वकर्मा, यातायात प्रभारी, उमरिया

मामला आपके माध्यम से मेरे संज्ञान में आया है, पूरे मामले की जांच कराई जायेगी, अगर किसी भी प्रकार की गड़बड़ी मिली तो, कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी।

श्रीमती रेखा सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, उमरिया

यह गंभीर मामला है, इस मामले में उमरिया पुलिस अधीक्षक को तत्काल कार्यवाही और जांच के निर्देश जारी किये जायेंगे।

पी.एस. उइके, उपपुलिस महानिरीक्षक, शहडोल रेंज

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co