11 महीने से जला ट्रांसफार्मर ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर
11 महीने से जला ट्रांसफार्मर ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूरDemo Pic

11 महीने से जला ट्रांसफार्मर ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर

जिले के रजमिलान उप विद्युत वितरण केन्द्र के पाठ एरिया में कई महीनों से दर्जनों ट्रांसफार्मर जले हुए हैं। लेकिन विद्युत विभाग के अफसर जले ट्रांसफार्मर बदलने के बजाय कान में तेल डालकर सो रहे हैं।

सिंगरौली। जिले के रजमिलान उप विद्युत वितरण केन्द्र के पाठ एरिया में कई महीनों से दर्जनों ट्रांसफार्मर जले हुए हैं। लेकिन विद्युत विभाग के अफसर जले ट्रांसफार्मर बदलने के बजाय कान में तेल डालकर सो रहे हैं। विकसित मध्यप्रदेश, अपना मध्यप्रदेश, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश, आत्मनिर्भर भारत समेत तमाम नारों और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 24 घंटे बिजली आपूर्ति के वादों के बाद भी सिंगरौली जिले के पाठ एरिया के ग्रामीणों को अभी भी 16वीं सदी जैसे अंधेरे में जिंदगी गुजारनी मजबूरी और नियति बन गई है।

विद्युत वितरण कंपनी के जिम्मेदार अफ़सर वातानुकूलित सुविधाओं और अपनी अफसरशाही के आगे ग्रामीणों की समस्याओं को नजरअंदाज करते आ रहे हैं। क्षेत्र के आम लोगों और सत्तारूढ़ दल के लोगों ने भी जनप्रतिनिधियों से जले ट्रांसफार्मर बदलवाने की जानकारी दी, लेकिन लोगों की समस्या जस की तस बनी हुई है।

11 महीने से जला ट्रांसफार्मर नही बदला :

ग्रामीणों ने बताया कि रजमिलान विद्युत उप केन्द्र के कार्यक्षेत्र अन्तर्गत ग्राम घिरोली में बिहारी सिंह के घर के पास विगत जुलाई 2020 में विद्युत ट्रांसफार्मर जल गया है। ग्रामीणों ने इसकी जानकारी विभाग के जिम्मेदारों को दे दी, निवेदन आग्रह और मिन्नतें की, लेकिन 11 माह बाद भी जला ट्रांसफार्मर नही बदला गया। मसलन मजबूर ग्रामीण अभी भी अंधेरे में जिंदगी काट रहे हैं। यहाँ के ग्रामीण जनों की समस्या न तो क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों ने हल करा पायी और न ही विद्युत विभाग के अफसरों को दिखायी दी। शायद ग्रामीणों के पास सुविधा शुल्क देने की हैसियत नहीं जुटा पा रहे हैं।

यहा के भी जले ट्रांसफार्मर :

जानकारी के अनुसार रजमिलान उप विद्युत वितरण केन्द्र के परिक्षेत्र में गत 11 माह से अब तक दर्जनों ट्रांसफार्मर जले हुए हैं। जिसमें डिगवाह सुलियरी पहरी टोला, पोखरी डांड, डोगरी किरकिचा टोला, भैसाबूढा, बजौडी बरमदत्त शर्मा के घर के पास, ताल अहिरान टोला, झलरी अगरियाँ टोला, बासी बिरदह,जालपानी, कुरकुडा गोडान टोला का नाम शामिल हैं। यहा के ग्रामीण जन कई महीनों से बिजली की रोशनी के लिए तरस रहे हैं। लेकिन मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के कार्यपालन अभियंता संचालन संधारण के अफसरों को अपनी अफसरशाही के आगे लाचार, मजबूर ग्रामीण की समस्याओं पर तरस नहीं आ रहा है।

दो जेई बदले फिर समस्या जस की तस क्यों :

क्षेत्रीय विधायक ने बताया कि माडा और रजमिलान के जूनियर इंजीनियर अभी हाल ही में बदले गए हैं लेकिन समस्या फिर क्यों जस की तस बनी हुई है। लोगों में चर्चा है कि कही सीनियर इंजीनियर तो बदलने की आवश्यकता तो नहीं पड़ेगी।

विधायक ने कहा मैं रोज कार्यपालन अभियंता से बात करता हूँ

देवसर विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुभाष वर्मा से क्षेत्र में जले विद्युत ट्रांसफार्मर नहीं बदलने से ग्रामीणों की समस्याओं पर जब चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि वह तो लोगों की समस्याओं के निराकरण करने कार्यपालन अभियंता ग्रामीण से रोज बात करता हूँ, तो फिर जले ट्रांसफार्मर क्यों नहीं बदले गए। हालांकि उन्होंने जले ट्रांसफार्मर की सूची मांगी है। जिस पर वह एक बार फिर कार्यपालन अभियंता ग्रामीण से बात करेंगे।

जिम्मेदारों के फोन बंद

इस संबंध में जिम्मेदार अफसरों से बात करने का प्रयास किया गया लेकिन उनके फोन बंद बता रहे हैं। ग्रामीणों ने जले ट्रांसफार्मर बदलवाने जिले के कलेक्टर का भी ध्यानाकर्षण कराया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.