दूषित पानी सप्लाई मामले में कलेक्टर की सख्त कार्रवाई
दूषित पानी सप्लाई मामले में कलेक्टर की सख्त कार्रवाई|Gaurav Kapoor
मध्य प्रदेश

दूषित पानी सप्लाई मामले में कलेक्टर की सख्त कार्रवाई, जारी निर्देश

उज्जैन, मध्यप्रदेश : खाचरोद में कोरोना संकट में वितरित हो रहे दूषित पेयजल के संबंध में कलेक्टर का ध्यान, दिए तकनीकी निर्देश।

Gaurav Kapoor

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले के खाचरोद में कोरोना संकट में वितरित हो रहे दूषित पेयजल के संबंध में लगातार जिला कलेक्टर आशीष सिंह का ध्यान समाचारों के माध्यम से आकर्षित करवाया जा रहा था। रविवार को जिला कलेक्टर, एस पी के दौरे के दौरान शहर के पत्रकारों ने उपस्थित होकर दूषित जल समस्या से अवगत कराया था।

दूषित पानी सप्लाई मामले में कलेक्टर की सख्त कार्रवाई, जारी निर्देश

कलेक्टर उज्जैन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच दल भेजने को कहा था। सोमवार को जिला कलेक्टर के निर्देश पर उज्जैन से 3 सदस्यीय जांच दल खाचरोद पहुंचा। रेलवे स्टेशन स्थित पीएचई की पानी की टंकी फिल्टर प्लांट व नागदा स्थित नायन फिल्टर प्लांट पर पहुंचकर पानी की गुणवत्ता की जांच की जांच के दौरान पानी में बदबू आने पर खाचरोद के अधिकारियों को तकनीकी निर्देश दिए। और आगामी दिनों में यदि व्यवस्था में अगर सुधार नहीं हुआ तो जांच दल ने पुनः आकर जांच करने की बात कही।

पत्रकारों को दिये आश्वासन के बाद कलेक्टर आशीष सिंह उज्जैन द्वारा 24 घंटे के अंदर ही जिले से टीम भेजकर पेयजल व्यवस्था सुधारने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। जिसमें दूषित बदबूदार पानी की पुष्टि होने से नगर पालिका सीएमओ जीवन राय माथुर का वह दावा सिरे से खारिज हुआ जिसमें बदबूदार पानी को अधिकारी द्वारा पीने योग्य बताकर नगर की जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करते हुए समाचारों के माध्यम से गलत जानकारी प्रकाशित करवाई गई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।

Raj Express
www.rajexpress.co