शिप्रा नदी के राम घाट पर उमड़ी भक्तों की भीड़
शिप्रा नदी के राम घाट पर उमड़ी भक्तों की भीड़|Deepika Pal -RE
मध्य प्रदेश

शिप्रा नदी के राम घाट पर उमड़ी भक्तों की भीड़, प्रशासन ने की व्यवस्था

उज्जैन, मध्यप्रदेश: आज गुरुवार को सर्व पितृ अमावस्या पर उज्जैन की शिप्रा नदी के राम घाट और सिद्धवट पर पिंडदान और तर्पण के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।

Deepika Pal

Deepika Pal

उज्जैन, मध्यप्रदेश। प्रदेश मे महामारी कोरोना का संकट जहां बढ़ते संक्रमित मामलों के साथ थमने का नाम नहीं ले रहा है वहीं दूसरी तरफ संकटकाल के बीच ही कई त्यौहार नियमों के साथ मनाए जा रहे है इस बीच ही आज गुरुवार को सर्व पितृ अमावस्या पर उज्जैन की शिप्रा नदी के राम घाट और सिद्धवट पर पिंडदान और तर्पण के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। जिसे लेकर प्रशासन ने व्यवस्था की है।

मान्यता के अनुसार किया तर्पण और पिंडदान

इस संबंध में बताते चले कि, ऐसी मान्यता है कि जो लोग श्राद्ध पक्ष में अपने पूर्वजों का तर्पण और पिंडदान नहीं कर पाए, यदि वे अमावस्या तिथि पर तर्पण और पिंडदान करते हैं तो पूर्वजों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। साथ ही ऐसे लोग जिन्हें अपने पूर्वजों की तिथि की जानकारी नहीं है वह भी इस तिथि पर तर्पण और पिंडदान कर सकते हैं। यही वजह है कि सुबह से ही शिप्रा तट पर पर लोग स्नान कर दान कर रहे हैं। इसके साथ ही साल की सबसे बड़ी अमावस्या पर हजारों श्रद्धालु पितरों की आत्म शांति के लिए भैरवगढ़ स्थित प्राचीन सिद्धवट पर दूध चढ़ाने के लिए उमड़े। वटवृक्ष पर श्रद्धालु मंदिर में लगे पीतल के पात्र के जरिए दूध चढ़ा सके। वही इसी के साथ ही सर्वपितृ अमावस्या पर्व के साथ 15 दिनी श्राद्ध पक्ष आज समाप्त हो गया है।

कोरोना के चलते कम रही श्रृद्धालुओं की भीड़

बताते चले कि, कोरोना महामारी के भय के चलते इस बार श्रद्धालुओं की संख्या में कमी आई है। जहां कम संख्या में श्रृद्धालुओं ने पूजन किया। इसके साथ ही सुरक्षा के नजरिए से प्रशासन ने व्यवस्था भी की थी। जहां सिद्धवट घाट पर तर्पण और दूध चढ़ाने वालों ने लाइन में लगकर पूजन किया। परिसर में लगे पात्र में दूध डालकर श्रद्धालु सिद्धनाथ भगवान के दर्शन कर बाहर निकले। पात्र से होकर दूध सिद्धवट के नीचे चढ़ते हुए शिप्रा में प्रवाहमान होता रहा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co