Raj Express
www.rajexpress.co
4 शिकारियों को दबोचा
4 शिकारियों को दबोचा|Kamlesh Yadav
मध्य प्रदेश

उमरिया: शिकार से पहले वन अमले ने 4 शिकारियों को दबोचा

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के धमोखर बफर क्षेत्र के दायरे में आने वाले रायपुर वृत्त के सकरिया बीट में मोहनीहार के करीब पार्क प्रबंधन की टीम ने मुखबिर की सूचना पर की कार्यवाही।

Kamal Yadav

राज एक्सप्रेस। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के धमोखर बफर क्षेत्र के दायरे में आने वाले रायपुर वृत्त के सकरिया बीट में मोहनीहार के करीब पार्क प्रबंधन की टीम ने मुखबिर की सूचना पर कार्यवाही करते हुए 4 शिकारियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। शिकारियों के पास से पार्क के अधिकारियों और कर्मचारियों ने भरमार बंदूक, पोटाश सहित वन्य प्राणियों के शिकार में उपयोग आने वाली कई वस्तुएं जब्त की हैं। वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते हुए शिकारियों को न्यायालय में पेश किया, जहां से वह जेल चले गये।

शिकार की थी तैयारी

पार्क के अधिकारियों ने बताया कि मुखबिर से उन्हें सूचना मिली थी कि बाईक में चार संदिग्ध व्यक्ति शिकार की मंशा से उक्त क्षेत्र में घूम रहे हैं, सूचना पर पार्क के अधिकारियों ने टीम को रवाना किया, घेराबंदी करके चारों शिकारियों को गिरफ्तार किया गया, बाईक में सवार होकर तीनों शिकारी बफर क्षेत्र में शिकार की तलाश कर रहे थे, जानकारी के मुताबिक चारों आरोपी पाली थाना क्षेत्र के निवासी बताये गये हैं।

ये आये गिरफ्त में

टाइगर रिजर्व में शिकार के इरादे से बफर क्षेत्र में बाईक और हथियार सहित घूम रहे तीरथ पिता दीनबंद बैगा उम्र 33 वर्ष निवासी गडऱौला, शेरू पिता ननदउआ बैगा उम्र 45 वर्ष निवासी ग्राम सांसा, हीरालाल पिता मोहन बैगा उम्र 35 वर्ष निवासी चिनकी और संतोष पिता दुलीचंद बैगा उम्र 26 वर्ष निवासी गडऱौला को पार्क की टीम ने शिकार से पहले ही रात्रि में गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

इनकी रही भूमिका

उक्त कार्यवाही में वन परिक्षेत्राधिकारी व्ही.के.श्रीवास्तव, परिक्षेत्र सहायक तिहार सिंह, वन रक्षक शिव मंगल सिंह सहित अन्य कर्मचारी शामिल रहे, गौरतलब है कि ठण्ड के मौसम में पार्क से सटे क्षेत्रों में शिकारी वन्य प्राणियों को निशान बनाकर शिकार के लिए सक्रिय हो जाते हैं, टाईगर रिजर्व के अधिकारियों ने इस बार समय रहते ही गश्तीदल सहित अन्य कर्मचारियों की गश्ती उन क्षेत्रों में बढ़ा दी है, जहां पर वन्य प्राणियों का विचरण अधिक होता है और शिकार की संभावना अधिक होती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।