स्कॉलरशिप काटने पर नाराज मेडिकल छात्र एकजुट होकर पहुंचे सतपुड़ा भवन
स्कॉलरशिप काटने पर नाराज मेडिकल छात्र एकजुट होकर पहुंचे सतपुड़ा भवनSocial Media

स्कॉलरशिप काटने पर नाराज मेडिकल छात्र एकजुट होकर पहुंचे सतपुड़ा भवन

भोपाल के कुछ मेडिकल कॉलजों में मेडिकल के छात्रों की 15% स्कॉलरशिप काट ली गई। जिससे छात्रों में गुस्सा है और इसी गुस्से के चलते कई कॉलजों के विद्यार्थी आज अपनी शिकायत लेकर सतपुड़ा भवन पहुंचे।

भोपाल, मध्य प्रदेश। आज लगभग सभी कॉलेजों में कुछ विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप मिलती है। यह या तो मनोरिटी के हिसाब से मिलती है या फिर रैंक होल्डर विद्यार्थियों को दी जाती है, लेकिन मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कुछ मेडिकल कॉलजों में मेडिकल के छात्रों की 15% स्कॉलरशिप काट ली गई। जिससे छात्रों में गुस्सा है और इसी गुस्से के चलते कई कॉलजों के विद्यार्थी आज अपनी शिकायत लेकर सतपुड़ा भवन पहुंचे।

नाराज मेडिकल छात्र पहुंचे सतपुड़ा भवन :

दरअसल, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कुछ मेडिकल कॉलेजों के विद्यार्थियों की 15% स्कॉलरशिप काटी गई। जिससे नाराज मेडिकल छात्र बड़ी संख्या में एकजुट होकर अपनी शिकायत का समाधान पाने के लिए सतपुड़ा भवन पहुंचे। यहां पहुंचने वाले छात्रों में RKDF, चिरायु, एलेन अमलतास और महावीर कॉलेजों के मेडिकल छात्र मजूद थे। इन छात्रों ने अपनी शिकायत में यह भी बताया है कि, उनकी स्कॉलरशिप कटने के चलते सिर्फ वह ही परेशान नहीं बल्कि इससे उनके परिवार को भी मानसिक पीड़ा का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि, सरकार द्वारा इन मेडिकल के छात्रों की स्कॉलरशिप काटी गई है और यह छात्र फीस जमा न कर पाने के चलते परेशानी का सामना कर रहे हैं।

ST, SC और OBC के छात्र शामिल :

बताते चलें, इन गुस्साए छात्रों में अनुसूचित जनजाति (ST), अनुसूचित जाति (SC) और अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) छात्र शामिल थे। यह सभी छात्र एक जुट होकर सतपुड़ा भवन पहुंचे और एक्टिविटी चार्ज को स्कॉलरशिप कटने का जिम्मेदार बताया। बता दें, यह सभी छात्र मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं और इन सभी की शिकायत है कि, सरकार द्वारा उनकी स्कॉलरशिप काटी गई है। इसके अलावा उनका कहना है कि, कॉलेज संचालक सरकार द्वारा एक्टिविटी चार्ज काटकर राशि नहीं ले रहे हैं और मेडिकल कालेज संचालक फीस नहीं भरने पर छात्रों को प्रताड़ित कर रहे हैं। सैकड़ों की संख्या में सतपुड़ा भवन पहुंचे छात्रों का कहना है कि, फीस नहीं भर पाने की स्थिति में छात्रों का भविष्य बेकार हो सकता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.