26 रैक लगे, दो-तीन दिन में पहुंच जाएंगे 21 रैक यूरिया, डीएपी, एनपीके : कमल पटेल
26 रैक लगे, दो-तीन दिन में पहुंच जाएंगे 21 रैक यूरिया, डीएपी, एनपीकेRaj Express

26 रैक लगे, दो-तीन दिन में पहुंच जाएंगे 21 रैक यूरिया, डीएपी, एनपीके : कमल पटेल

भोपाल, मध्यप्रदेश : प्रदेश में तीन लाख 18 हजार मीट्रिक टन से अधिक यूरिया उपलब्ध। कृषि मंत्री पटेल ने की किसानों से अपील, कानून अपने हाथ में नहीं लें।

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश के कई जिलों में यूरिया संकट के बीच कृषि मंत्री कमल पटेल ने दावा किया है कि वर्तमान में 3 लाख 18 हजार 263 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि एक लाख 31 हजार 454 मीट्रिक टन डीएपी और एक लाख 4 हजार 590 मीट्रिक टन एनपीके भी उपलब्ध है। पटेल ने बताया कि विगत 3-4 दिन में ही यूरिया, एनपीके और डीएपी के 26 रैक लग चुके हैं। उन्होंने बताया कि आगामी 2-3 दिनों में 21 रैक यूरिया, एनपीके और डीएपी पहुंचने वाला है। उन्होंने किसानों से अपील की है कि किसान भाई कानून अपने हाथ में नहीं लें, उर्वरकों की आपूर्ति सतत् जारी है।

यहां बता दें कि यूरिया सहित अन्य खाद की कमी के कारण कई जिलों में किसानों के उग्र प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। कुछ स्थानों पर मारपीट की भी घटनाएं सामने आईं हैं। इस बीच कृषि मंत्री पटेल ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि उर्वरकों की काला-बाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही कर एफ आईआर भी दर्ज करावें। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि खाद की आपूर्ति निचले स्तर तक करें, जिससे सभी को पर्याप्त मात्रा में खाद मिल सके। मंत्री पटेल ने बताया है कि विगत 3-4 दिन में यूरिया के 9 रैक आ चुके हैं और आगामी दो-तीन दिनों में 6.5 रैक यूरिया आने वाला है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार डीएपी के 9 रैक आ चुके हैं, जबकि आगामी दो-तीन दिनों में 5 रैक और पहुंचने वाले हैं। एनपीके के भी 8 रैक आ चुके हैं, जबकि 10 रैक और आने वाले हैं। उपलब्धता के अनुसार नियमित रूप से जिलों को यूरिया, डीएपी और एनपीके पहुंचाया जा रहा है, जो कि सहकारी संस्थाओं के साथ ही निजी संस्थानों के माध्यम से वितरित किया जा रहा है।

कृषि मंत्री ने बताया कि वर्तमान में कुल 3 लाख 18 हजार 263 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। इसमें रिटेलर के पास एक लाख 56 हजार 117 मीट्रिक टन, होल सेलर के पास एक लाख 13 हजार 106 मीट्रिक टन, कम्पनी, वेयरहाउस एवं कम्पनी जीआईटी के पास 30 हजार 580 मीट्रिक टन और होल सेलर जीआईटी के पास 18 हजार 460 मीट्रिक टन यूरिया है। इसी प्रकार डीएपी भी एक लाख 31 हजार 454 मीट्रिक टन उपलब्ध है, जिसमें रिटेलर के पास 53 हजार 249 मीट्रिक टन, होल सेलर के पास 42 हजार 644 मीट्रिक टन, कम्पनी, वेयरहाउस एवं कम्पनी जीआईटी के पास 24 हजार 700 मीट्रिक टन और होल सेलर जीआईटी के पास 10 हजार 860 मीट्रिक टन डीएपी है। पटेल ने बताया कि वर्तमान में एनपीके खाद भी एक लाख 4 हजार 590 मीट्रिक टन उपलब्ध है। इसमें रिटेलर के पास 35 हजार 875 मीट्रिक टन, होल सेलर के पास 30 हजार 345 मीट्रिक टन, कम्पनी, वेयरहाउस एवं कम्पनी जीआईटी के पास 32 हजार 610 मीट्रिक टन और होल सेलर जीआईटी के पास 5 हजार 760 मीट्रिक टन एनपीके है। कृषि मंत्री ने बताया कि अक्टूबर माह में अब तक 2 लाख 79 हजार मीट्रिक टन यूरियाए 2 लाख 3 हजार मीट्रिक टन डीएपी और 86 हजार मीट्रिक टन एनपीके वितरित किया जा चुका है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co