Raj Express
www.rajexpress.co
विद्यार्थियों की मांग, पक्के पहुंच मार्ग की व्यवस्था की जाए
विद्यार्थियों की मांग, पक्के पहुंच मार्ग की व्यवस्था की जाए|Raj Express
मध्य प्रदेश

कीचड़ के रास्ते से स्‍कूल जाने को मजबूर छात्र, प्रशासन अनजान

शहपुरा, जबलपुर: बरसात शुरू होते ही इस मार्ग पर हर जगह कीचड़ ही कीचड़ रहती है, इस कारण शहपुरा के शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल करौंदी में पढ़ने जाने वाले छात्र- छात्राएं कीचड़ में चलकर जाने पर मजबूर हैं।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। शहपुरा विधानसभा क्षेत्र के शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल करौंदी में पढ़ने जाने के लिए छात्रों को कीचड़ में चलकर जाना पड़ता है। बरसात शुरू होते ही इस मार्ग पर हर जगह कीचड़ ही कीचड़ रहता है। इसमें छात्रों और शिक्षकों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कई बार इसकी शिकायत क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को की गई, लेकिन अभी तक इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया।

हायर सेकंडरी स्कूल मार्ग की स्थिति बदतर :

छात्रों को दुर्घटना होने का अंदेशा भी बना रहता है, कई बार कीचड़ में फिसल कर गिर जाते हैं, यह इलाका मध्‍य प्रदेश सरकार के जनजातीय कार्य विभाग के मंत्री ओमकार सिंह मरकाम के गृह जिले में आता है, लोगों ने इस मामले को लेकर स्थानीय विधायक भूपेन्द्र मरावी को अवगत कराया, लेकिन हायर सेकंडरी स्कूल पहुंच मार्ग की स्थिति अभी भी बद से बदतर बनी हुई है, यहां दूरदराज के दर्जनों गांवों से सैकड़ों छात्र-छात्रएं पढ़ने आते हैं।

स्कूल प्रबंधन और छात्रों ने सरकार से लगाई गुहार :

वहीं स्कूल प्रबंधन और छात्रों ने मीडिया के माध्यम से सरकार से गुहार लगाई है कि, इस सड़क मार्ग को जल्द से जल्द बनवाया जाए। स्कूल की प्राचार्य साधना अग्रवाल का कहना है कि, स्कूल तक पहुंच मार्ग के लिए हमने ग्राम पंचायत करौंदी के सरपंच एवं लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को भी आवेदन कर मांग की है, लेकिन अभी तक यहां कोई काम ही नहीं हुआ। इस बदहाल कच्चे रास्ते में छात्र-छात्राओं और शिक्षकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

वहीं जब हमने छात्र- छात्राओं से बात की तो उनका कहना है कि, बरसात के दिनों में इस रास्ते में वे कई बार गिर भी जाते हैं, जिसके कारण उन्हें वापस घर लौटना पड़ता है। विद्यार्थियों की भी मांग है कि, स्कूल तक पक्के पहुंच मार्ग की व्यवस्था की जाए, ताकि उनकी पढ़ाई में कोई व्यवधान न आए।