जिले की औसत बारिश
जिले की औसत बारिश|Shashikant Rao
मध्य प्रदेश

विदिशा: पिछले साल से अब तक दोगुनी हुई जिले की औसत बारिश

विदिशा, मध्यप्रदेश : विदिशा में बारिश ने ना केवल सूखे को खत्म किया बल्कि अतिवृष्टि और बाढ़ जैसे हालात पैदा कर लोगों के जीवन को तहस-नहस कर दिया।

Shashikant Rao

हाइलाइट्स

  • लगातार बारिश ने लोगों के जीवन को तहस-नहस कर दिया

  • बारिश से सैंकड़ों मकान, किसानों की फसलें, क्षतिग्रस्त हो गई

  • वर्षा और जलभराव से स्कूल एवं छात्रावास भवन क्षतिग्रस्त हुए

  • अतिवृष्टि से 400 स्कूल हुए क्षतिग्रस्त, 544 लाख का नुकसान

राज एक्सप्रेस। 15 जून से लेकर 12 अगस्त तक बारिश प्रारंभ नहीं होने के कारण किसान उदास दिखाई दिए। भीषण गर्मी पड़ने और बारिश नहीं होने से लोग भी बेचैन हो उठे। इन्द्रदेवता को मनाने के लिए तरह-तरह के प्रयास और धार्मिक आयोजन किए गए। 13 अगस्त को जब सुबह से बारिश प्रारंभ हुई तो लोगों ने शुरूआत में राहत की सांस ली, लेकिन उस दिन से आज तक लगातार हो रही बारिश ने ना केवल सूखे के आंकड़ों को खत्म किया बल्कि अतिवृष्टि और बाढ़ जैसे हालात पैदा कर लोगों के जीवन को तहस-नहस कर दिया। अनेक पशु, पक्षियों की जान चली गई, अनेक लोग बाढ़ के काल में समां गए।

Raj Express
www.rajexpress.co