Vidisha youths come forward to help laborers in Corona crisis
Vidisha youths come forward to help laborers in Corona crisis|Akash Sharma
मध्य प्रदेश

कोरोना संकट में मजदूरों की मदद के लिए आगे आए विदिशा के युवा

भारत के दिल कहे जाने वाले मध्य प्रदेश को कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में बड़े स्तर पर लिया है। ऐसे में भूख जैसे महासंकट का सामना करते मजबूर लोगों की मदद के लिए आगे आए यह 6 दोस्तों के रूप में फ़रिश्ते।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। पूरे भारत के दिल कहे जाने वाले मध्य प्रदेश को कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में बड़े स्तर पर लिया है। जहां पूरा देश इस संकट की घड़ी में लॉकडाउन के कारण अपने-अपने घरों में हैं। वहीं, देश में कई ऐसे मजबूर लोग भी हैं जो, अपने घरों से दूर फंसे हैं और अपने घर जाने के लिए तरस रहे हैं। इन बेबस लोगों में एक बड़ा तबका मजदूर वर्ग का भी है।

कई दिनों के इंतजार के बाद ये मजदूर पैदल या प्राइवेट बसों, लोडिंग ऑटो से ही अपने घरों के लिए निकल गए। ऐसे में इन लोगों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। भूख-प्यास जैसे महासंकट का सामना करते मजबूर लोगों की मदद के लिए आगे आए विदिशा के यह 6 दोस्तों के रूप में फ़रिश्ते।

भोपाल में मदद के लिए आगे आए 6 दोस्त :

दरअसल, मध्य प्रदेश के विदिशा-भोपाल हाईवे से भी प्रतिदिन सैकड़ों प्रवासी मजदूर और अन्य लोग गुजरते हैं। ऐसे में इन लोगों की मदद के लिए शहर के कई समाज सेवी वर्ग आगे आ रहे हैं। वहीं, ऐसे लोगों की मदद के लिए विदिशा के ही रहने वाले 6 दोस्त आकाश शर्मा, सागर मोतियानी, मनीष जैन, अर्पित रघुवंशी, गोलू जैन आशीर्वाद और अमित साहू आगे आए हैं। यह न तो किसी समाज सेवी वर्ग से जुड़े हैं और न ही किसी चैरेटी से जुड़े हैं। यह 6 दोस्त आपस में मिल कर ही करीब 2 माह (54 दिनों) से इन गरीब मजदूरों की मदद कर रहे हैं। कभी भोजन के पैकेट बांटते हैं तो कभी छाछ और आम रस। ये ट्रकों, बसों और ऑटो को रोक-रोककर भोजन के पैकेट दे रहे हैं। बच्चों के लिए बॉटल्स में दूध दे रहे हैं।

दे रहे हैं हर दिन 20 -25 परिवारों को भोजन :

ये सभी दोस्त स्वयं भोजन बना कर बड़ी-बड़ी डलिया में रख कर विदिशा के हाईवे के अलावा अग्रवाल अकेडमी वाला बाय पास रोड, साई मंदिर रोड जैसी कई जगहों के साथ ही पास की झुग्गी बस्ती के 20-25 घरों में दोनों टाइम का भोजन और राशन का जरूरी सामान मुफ्त में मुहैया करा रहे हैं। बताते चलें, मध्य प्रदेश में इंदौर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, बुराहानपुर, खंडवा और देवास रेड जोन में हैं। इनके अलावा मध्य प्रदेश के बाकी के जिले ग्रीन जोन में शामिल हैं।

कोरोना संकट में मजदूरों की मदद के लिए आगे आए विदिशा के युवा

कोरोना संकट में मजदूरों की मदद के लिए आगे आए विदिशा के युवा

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co