वॉयरल ऑडियो: एक में कार्यवाही, दूसरे में खुद कटघरे में वर्दी
शहडोल, मध्य प्रदेश : जबलपुर के कबाड़ी व रेंज के मुखिया का ऑडियो हुआ वॉयरल। दो भू-माफियाओं के बीच के ऑडियो ने एक को पहुंचाया थाने।
वॉयरल ऑडियो: एक में कार्यवाही, दूसरे में खुद कटघरे में वर्दी
वॉयरल ऑडियो: एक में कार्यवाही, दूसरे में खुद कटघरे में वर्दीSocial Media

शहडोल, मध्य प्रदेश। शनिवार व रविवार को एक बार फिर वॉयरल ऑडियो ने सोशल मीडिया में धूम मचाई, शहर के दो भू-माफियाओं के बीच हुई चर्चा ने मर्यादाएं लांघी तो, पुलिस ने उसे लॉकप में डाल दिया, लेकिन दूसरे मामले में पुलिस चुप रही, चूंकि यह ऑडियों रेंज के मुखिया और जबलपुर के शमीम नामक कथित कबाड़ी के बीच की चर्चा का था।

रेंज के मुखिया जी. जनार्दन राव से चर्चा के दौरान जबलपुर के कथित शमीम नामक स्क्रैप डीलर ने सभी मर्यादाएं लांघ दी, जिस वर्दीधारी के सामने चार-चार जिलों के पुलिस अधीक्षक और दर्जनों थाना प्रभारी सैल्यूट मारते नहीं थकते, कथित कबाड़ी ने जिस बेबाकी से एडीजी से बातचीत की और इस दौरान अपशब्दों का भी उपयोग किया, वह बेहद शर्मनाक है। पुलिस विभाग के आलाधिकारी इस दिशा में क्या कदम उठाते हैं, यह तो आने वाला समय बतायेगा, लेकिन पुलिस और काले कारोबारियों के बीच कितने मधुर रिश्ते हैं, यह सच वॉयरल ऑडियो के साथ सामने जरूर आ गया।

यह हुआ रविवार को :

रविवार को शहडोल संभाग के कई व्हॉटसएप ग्रुपों में एक ऑडियो वॉयरल किया गया, बाद मे यह चर्चा सामने आई कि ऑडियो में जिन दो लोगों के बीच बात की जा रही है, उसमें से एक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक (अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक) जी. जनार्दन राव और दूसरा जबलपुर का स्क्रैप व्यवसायी शमीम है। इन दोनों के बीच बातचीत कब व कितने समय हुई यह भी पुष्टि ग्रुप में नहीं हुई। चूंकि मामला रेंज के सबसे बड़े पुलिस अधिकारी से जुड़ा हुआ था और दूसरी तरफ बात करने वाला व्यक्ति भले ही स्क्रैप का बड़ा कारोबारी हो, लेकिन आम भाषा में उसे कबाड़ी ही कहा जाता है। जिस लहजे में कथित कारोबारी ने रेंज के मुखिया से बात की, वह उस शमीम नामक स्क्रैप के व्यवसायी का चरित्र और खिसियाहट को दर्शा रही थी।

मेरा ही है ऑडियो :

वॉयरल ऑडियो में शमीम ने स्वीकार किया कि उसकी और एडीजी जी. जनार्दन राव का यह ऑडियो झूठा नहीं है, इसमें उन दोनों की ही आवाज है, लेकिन उसने यह भी बताया कि यह ऑडियो अभी का नहीं कुछ माह पुराना है, लेकिन उसने यह भी कहा कि वह कई दशकों से स्क्रैप का कारोबार कर रहा है और पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से उसके अच्छे संबंध रहे हैं। अनीश के इशारे पर नौरोजाबाद थाने में उसकी स्क्रैप से लदी गाड़ी पकड़ी गई थी, जबकि पूरा माल एक नंबर का बिल सहित था।

नहीं है कोई रिश्ते :

शहडोल रेंज के मुखिया जी. जनार्दन राव ने शमीम से हुई चर्चा की पुष्टि की और उन्होंने बताया कि संभवत: जुलाई माह में उमरिया जिले के नौरोजाबाद थाने में शमीम की गाड़ी पकड़ी गई थी, इस संदर्भ में उसने फोन लगाया था, शमीम से कोई रिश्ते नहीं है, यह अनपौचारिक बात थी। श्री राव ने यह भी बताया कि जब गाड़ी के दस्तावेजों की जांच की गई तो, बाकी सब दस्तावेज सही पाये गये थे, लेकिन जिस वाहन को काटकर स्क्रैप ले जाया जा रहा था, उससे काटने के लिए परिवहन विभाग से अनुमति ली जानी चाहिए थी, लेकिन नहीं ली गई थी।

लेन-देन के और भी ऑडियो-वीडियो :

वॉयरल ऑडियो में जिस अंदाज में जबलपुर के कथित कबाड़ के कारोबारी ने रेंज के मुखिया से बात की, उससे रेंज तो क्या पूरे मध्यप्रदेश की पुलिस का सिर शर्म से झुक सकता है, ऑडियो में शमीम ने यह भी कहा कि मेरे पास लेन-देन के सब ऑडियो और वीडियो हैं, जिसे मैं ऊपर तक पहुंचा दूंगा, तो लेने के देने पड़ जायेंगे। जिस बेबाकी से शमीम ने कुछ माह पहले एडीजी से धमकी भरे अंदाज में यह बातें कहीं और फिर कुछ माह तक यह मामला शांत रहा और फिर अचानक वॉयरल ऑडियो ने सब राज सामने कर दिये, आखिर दोनों के बीच कुछ तो रहा होगा, जिसके सामने आने के डर से एडीजी जैसा अधिकारी ने भी चुप्पी साध ली।

कहा पुलिस जेब में, पहुंचा हवालात में :

शनिवार को सोशल मीडिया में अभिषेक सोनी नामक जमीन के कारोबारी के द्वारा एक अन्य सर्वेश चौरसिया नामक कारोबारी को सेल फोन पर गालियां दी गई, यही नहीं उसने जान से मारने की धमकी और पुलिस मेरी जेब में जैसे भी दावे किये, ऑडियो सोशल मीडिया में वॉयरल हुआ तो, पुलिस ने उसे ढूंढकर उसकी जेब खाली कर दी। कोतवाली पुलिस ने अभिषेक सोनी नामक कथित बदमाश को गिरफ्तार करने के बाद उसके खिलाफ 151 व अन्य धाराओं के तहत कार्यवाही की।

कप्तान ने दिये थे निर्देश :

इस संदर्भ में पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस अधीक्षक सतेन्द्र शुक्ला को व्हॉटसएप के माध्यम से उक्त वॉयरल ऑडियो प्राप्त हुआ, जिसके बाद कप्तान के निर्देश में कोतवाली पुलिस सक्रिय हुई और पीडि़त की शिकायत से पहले ही अभद्र भाषा का उपयोग करने और गुण्डागर्दी, धमकाने जैसी भाषा के लिए उसके खिलाफ 151 के तहत कार्यवाही की गई। हालाकि बाद में सर्वेश ने अभिषेक के खिलाफ कोतवाली में लिखित शिकायत भी दी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co