शहडोल : मंत्री ने टटोली प्रशासनिक व्यवस्थाओं की नब्ज
मंत्री ने टटोली प्रशासनिक व्यवस्थाओं की नब्जSocial Media

शहडोल : मंत्री ने टटोली प्रशासनिक व्यवस्थाओं की नब्ज

शहडोल, मध्य प्रदेश : प्रदेश शासन के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने शुक्रवार को मेडिकल कॉलेज के सभागार में चिकित्सकीय विभागाध्यक्षों की बैठक लेकर निर्देशित किया।

शहडोल, मध्य प्रदेश। प्रदेश शासन के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने शुक्रवार को मेडिकल कॉलेज के सभागार में चिकित्सकीय विभागाध्यक्षों की बैठक लेकर निर्देशित किया कि समाज को बेहतर चिकित्सक गढ़कर देना में महत्त्वपूर्ण योगदान है। इस कार्य को सभी विभागाध्यक्ष आपसी सामंजस्य बनाकर आगे बढ़ाने में अपना अमूल्य योगदान दें। उन्होंने कहा कि विभागाध्यक्ष डीन एवं कमिश्नर के साथ बैठकर मानव संसाधन सहित अन्य चिकित्सकीय आवश्यकता वाली व्यवस्थाओं के संबंध में विचार विमर्श कर उचित निर्णय लें तथा मेडिकल कॉलेज को बेहतर बनाने में अपना सहयोग प्रदान करें। उन्होंने कहा कि इस कार्य में निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से भी सतत संपर्क बनाएं तथा सीएसआर एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी सहयोग लेकर व्यवस्थाएं सुदृढ़ कराने में मदद लें।

तैयारियों का लिया जायजा :

बैठक में मंत्री श्री सारंग ने चीरघर की स्थिति की भी जानकारी ली तथा ब्लड बैंक एवं मानव संसाधन में रिक्त पदों आदि के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कोविड-19 की स्थितियों तथा जनरल ओपीडी, गायनी विभाग आदि के बारे में भी पूछताछ की। उन्होंने मेडिकल वार्ड प्रारंभ करने की तैयारियों का भी जायजा लिया तथा आवश्यक डिपार्ट आरंभ करने के निर्देश भी दिए। बैठक में मेडिकल कॉलेज द्वारा बनाई गई भविष्य की योजनाओं पर भी चर्चा की तथा पेयजल, सड़क, एंबुलेंस, एडवांस सपोर्ट एंबुलेंस, मिनी बस की आवश्यकता बताए जाने पर आवश्यकताओं की पूर्ति के भी निर्देश दिए। मेडिकल कॉलेज हेतु एप्रोच रोड की सुविधा उपलब्ध कराने कमिश्नर को निर्देश दिए।

चिकित्सक अपना योगदान दें :

बैठक में मंत्री श्री सारंग ने कहा कि सभी सुविधाओं में तो सभी लोग कार्य करते हैं, चैलेंज कम सुविधाओं में काम करने पर होता है। ईश्वर ने चिकित्सकों को मानव सेवा कर उनकी जान बचाने का शुभ अवसर प्रदान किया है इसे वे अपना मान कर करें यह सोच उनके जेहन में होनी चाहिए। चिकित्सा सेवा से जहां चिकित्सकों को श्रेय मिलती है वही महान पुण्य का अर्जन भी होता है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत डीन एवं सभी विभागाध्यक्ष मिलकर चिकित्सा महाविद्यालय को बेहतर बनाने में अपनी भूमिका का निर्वहन करें। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज का मुख्य कार्य बेहतर डॉक्टर का निर्माण कर गरीबों को रोगमुक्त भीषण बीमारियों से मुक्त कराने का है इस कार्य का बीड़ा उठाने अपना योगदान दें।

टीम बनाकर करें कार्य :

मंत्री श्री सारंग ने कहा कि शहडोल मेडिकल कॉलेज अभी बाल्यावस्था में है इसे जैसा चाहेंगे आगे बनाने व बढ़ाने का अवसर आप सबके हाथों में हैं। उन्होंने ने कहा कि चिकित्सा क्षेत्र में शीघ्र ही तकनीकी एटानॉमी में उपलब्ध कराई जा रही है, इसमें आईटी का भी सहयोग लिया जा रहा है। बैठक में उन्होंने कहा कि शीघ्र ही 12-13 विषयों पर भविष्य में मंथन कार्य प्रारंभ होगा, जिससे प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज नए लुक में आगे बढ़ेंगे। चिकित्सा से जुड़े सभी शासकीय अमले को मिलकर इस कॉलेज को मूर्त रूप देने में जुटने की आवश्यकता प्रतिपादित की तथा डॉक्टरों को टीम बनाकर कार्य करने करने की सलाह दी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा की मेडिकल छात्र कॉलेज के छात्रों को चिकित्सकीय पढ़ाई कराने वाले डॉक्टर चिकित्सा के साथ शिक्षक की भूमिका में भी हैं। उन्हें अपनी इस भूमिका का बखूबी निर्वहन करना होगा। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही मरीज मित्र योजना प्रारंभ की जा रही है, समाज के प्रबुद्ध समाज से भी अपनी सेवाएं नि:शुल्क रूप से चिकित्सा के क्षेत्र में दे सकेंगे। बैठक में विधायक जैतपुर श्रीमती मनीषा सिंह, कमिश्नर नरेश पाल, अधिष्ठाता एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय डॉ. मिलिंद शिलारकर, सहित मेडिकल कॉलेज के विभिन्न विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

मंत्री ने की छात्रों से मुलाकात :

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने मेडिकल कॉलेज में अध्ययनरत एमबीबीएस के छात्रों से मुलाकात की तथा उनकी पढ़ाई आदि के बारे में उनसे जानकारी ली। उन्होंने छात्रों से कहा कि डॉक्टर की कैरियर बनाने की भावना नहीं बल्कि देश व समाज को बनाने की भावना के उद्देश्य से चिकित्सा शिक्षा ग्रहण करें। मानव को ऐसा सुअवसर बड़े भाग्य से मिलता है कि वे मानव की सेवा कर उनके जीवन को सकुशल बनाकर जीवनदान प्रदान करते हैं। इस मौके पर उन्होंने ड्राइसेक्शन रूम का भी अवलोकन किया तथा छात्रों को चिकित्सकीय पढ़ाई का ज्ञान देने वाले अध्यापकों से कहा कि इन छात्रों को ऐसा घढे कि वे देश और समाज की सेवा कर आप का भी नाम रोशन करें। इस मौके पर उन्होंने अध्ययनरत छात्रों से लाइब्रेरी के खुलने का समय पूछा और कमिश्नर को निर्देश दिए कि मेडिकल कॉलेज की लाइब्रेरी 24 घंटे खुलवाने की पहल करें। उन्होंने छात्रों की मांग पर आवश्यकतानुसार सॉफ्टवेयर इत्यादि उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए तथा वाई-फाई की सुविधा मेडिकल कॉलेज में शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए।

विभिन्न कक्षों का किया निरीक्षण :

मंत्री श्री सारंग ने ओपीडी कक्ष, ईसीयू कक्ष, एसएनसीयू कक्ष का निरीक्षण किया तथा साथ ही मॉड्यूलर ओ.टी. रूम, ड्राई रन रूम निरीक्षण कर मेडिकल कॉलेज में मधुमक्खियों के लगे छत्ता को शीघ्र हटवाने के निर्देश देते हुए कहा कि मधुमक्खी ना लगे इसकी प्रॉपर व्यवस्था बनाई जाए। इस दौरान उन्होंने कोविड-19 वैक्सीन के लगाए जाने की व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया तथा कंप्यूटर द्वारा कि जाने वाली प्रक्रियाओं की व्यवस्थाएं भी देखी। उन्होंने माइक्रोबायोलॉजी लैब, बायोकेमिस्ट्री लैब, साइटोपैथोलॉजी, हिस्टोपैथोलॉजी आदि का भी निरीक्षण किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co