Jabalpur : किस की होगी भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद की कुर्सी...!
किस की होगी भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद की कुर्सी...!सांकेतिक चित्र

Jabalpur : किस की होगी भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद की कुर्सी...!

जबलपुर, मध्यप्रदेश : दौड़ में शामिल हैं नेताओं के कई करीबी, अपनों को कुर्सी दिलाने हो रहा जतन। दायित्व के लिए नेताओं के द्वार से लेकर भोपाल तक लगी दौड़।

जबलपुर, मध्यप्रदेश। भारतीय जनता पार्टी में युवा मोर्चा में जबलपुर शहर अध्यक्ष बनने की दौड़ में पार्टी के कई कार्यकर्ताओं के नाम शामिल हैं। जिसमें से तो कुछ नेता पुत्र हैं तो वहीं कुछ स्वयं की काबिलयत से राजनीति में अपने कामों से नाम कमाने वाले युवा नेताओं के नाम शामिल हैं। लेकिन यह आगामी दिनों में होने वाली घोषणा के बाद ही पता चल सकेगा कि युवा मोर्चा में अध्यक्ष का पद की कुर्सी किसको मिलती है, वहीं यह देखने का विषय होगा कि कि सको पार्टी इस जिम्मेदारी वाले पद का दायित्व सौंपती है, यह कुर्सी किसी नेता पुत्र के पास जाती है या फिर जमीनी स्तर से पार्टी के लिए जुड़ समर्पित भाव से काम करने वाले कार्यकर्ता को इस पद से नवाजा जाता है...?

राजनीतिक गलियारों में चल रही चर्चाओं के मुताबिक जबलपुर शहर युवा मोर्चा अध्यक्ष पद के कई दावेदार हैं, जिसमें पूर्व मंत्री विधायक पुत्र, नेता पुत्र व पार्टी के कई करीबी नेताओं के सक्रिय कार्यकर्ताओं के नाम दौड़ में देखे जा रहे हैं। लेकिन इस रेस में कौन सबसे आगे होता है और किसको पार्टी का आशीर्वाद मिलेगा यह देखने का विषय है...?

कुर्सी के प्रबल दावेदारों में इनके नाम शामिल :

जबलपुर शहर युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद के लिए अभाविप व युवा मोर्चा में सक्रिय रहे रौनक अग्रवाल, पूर्व मंत्री अंचल सोनकर के पुत्र विवेक राम सोनकर, अभाविप व युवा मोर्चा में लगातार सक्रिय रहे चन्द्रेशखेर पटेल का नाम रेस में सबसे आगे चर्चाओं में दिख रहा है। चर्चाओं के मुताबिक यह उक्त युवा नेताओं में किसी एक को पार्टी युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद का आर्शीवाद दे सकती है।

इन नामों की भी है चर्चा :

वहीं राजनीति गलियारों में श्रीकांत कुक्की वर्मा, लेवेश पटेल, राहुल कपूर, राज भटनागर सहित अन्य के नाम भी अध्यक्ष पद की दौड़ के लिए चलते हुए सुनाई दे रहे हैं। खैर यह तो देखने की बात होगी कि किसको अध्यक्ष पद का दायित्व मिलता है।

सभी लगे अपनों को अध्यक्ष बनाने :

युवा मोर्चा के अध्यक्ष पद के लिए पूर्व मंत्री से लेकर सांसद, नेता, अध्यक्ष अपने-अपने चहेतों व पुत्र को दायित्व दिलवाने के लिए जतन करते हुए देखे जा सकते हैं। सभी अपने-अपने स्तर पर अपनों को पद दिलवाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाते हुए भी दिख रहे हैं।

जमीनी कार्यकर्ता की होगी कुर्सी या फिर नेताओं के परिवार की :

वहीं वर्तमान में चल रही चर्चाओं में यह बात भी समाने आ रही हैं कि पार्टी युवा मोर्चा में अध्यक्ष का पद अगर किसी जमीनी कार्यकर्ता को देती है तो इससे पार्टी के प्रति कार्यकर्ताओं का और लगाव बढ़ेगा और अन्य सभी कार्यकर्ता पार्टी के प्रति समर्पित भाव से कार्य पर लगेंगे, वहीं अगर नेता पुत्र या फिर वरिष्ठ नेताओं के करीबी सहित परिवारवाद को बढ़ावा देते हुए पार्टी इस पद का दायित्व किसी नेता के अपनों को देती है तो इससे कहीं न कहीं कार्यकर्ताओं में रोष देखा जा सकता है, जिससे पार्टी को जमीनी कार्यकर्ताओं का विश्वास बना पाना भविष्य में मुश्किल होगा। इसलिए पार्टी को सभी बातों को ध्यान में रखकर अध्यक्ष पद की कुर्सी की कमान सौंपनी होगी।

कहीं किसी अन्य को न मिल जाए लाभ :

शहर के वरिष्ठ नेताओं के द्वारा अपने-अपने करीबियों को युवामोर्चा का अध्यक्ष बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के कारण कहीं यह न हो जाए कि कोई तीसरा इस रेस में सबसे आगे न निकल जाए और पार्टी को अध्यक्ष पद के लिए किसी ऐसे युवा नेता का चयन न करना पड़ जाए, जिसका नाम रेस में दूर-दूर तक न हो। वहीं चर्चा चल रही है कि कोई नेता अपने करीबी कार्यकर्ता को पद दिलवाना चाह रहा है तो वहीं कोई नेता अपने पुत्र को यह कुर्सी दिलवाने की चाह रख रहा है। जिससे कहीं सभी का खेल बिगड़ न जाए और पार्टी को सबको साधने के लिए किसी नए चेहरे के नाम पर मुहर लगानी न पड़ जाए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co