Raj Express
www.rajexpress.co
साल 2017-18 में जंगली जानवरों के हमले से 42 लोगों की मौत हो गई।
साल 2017-18 में जंगली जानवरों के हमले से 42 लोगों की मौत हो गई। |National Geographic
मध्य प्रदेश

देश का ‘सबसे बड़ा वनक्षेत्र’ लहूलुहान क्यों है?

भारतीय वन सर्वेक्षण के अनुसार, इस राज्य का 30.72% हिस्सा वनक्षेत्र (94,689.38 वर्ग किमी) है। यहां वन्य अपराधों और जंगली जानवरों का हमला दोनों ही बढ़े हैं। इसके पीछे क्या कारण छिपे हुए हैं?

प्रज्ञा

प्रज्ञा

राज एक्सप्रेस। 29 जुलाई 2019 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने साल 2018 की टाईगर एस्टिमेशन रिपोर्ट जारी की। इसके मुताबिक सर्वाधिक बाघों की संख्या मध्यप्रदेश में है। मध्यप्रदेश में साल 2014 से 2018 के बीच 218 बाघों की बढ़ोत्तरी हुई और फिलहाल राज्य में 526 बाघ हैं। एक तरफ जहां बाघों की संख्या में इजाफा हुआ है तो वहीं वन क्षेत्र में कमी आई है। साथ ही जानवरों और इन्सानों के बीच का टकराव भी बढ़ा है।

साल 2017-18 में जंगली जानवरों के हमले से 42 लोगों की मौत हो गई। वहीं 1025 लोग घायल हुए तो 6488 मवेशियों को अपनी जान गंवानी पड़ी। वन विभाग की अनेक योजनाओं और नियमों के बावजूद जंगली जानवरों के लोगों और मवेशियों पर हमले की खबरें हमें समाचारों के माध्यम से मिलती रहती हैं। कई जानवर लोगों की फसलों को भी बर्बाद कर देते हैं। वन विभाग के अधिकारियों से बात कर हमने जानना चाहा कि इन बढ़ते टकरावों के पीछे क्या प्रमुख कारण है।