रातों-रात राहुल गांधी को बनाया प्राचार्य
रातों-रात राहुल गांधी को बनाया प्राचार्य |Social Media
मध्य प्रदेश

विकिपीडिया जानकारी घोटाला: रातों-रात राहुल गांधी बने प्राचार्य

इंदौर, मध्यप्रदेश : सोशल मीडिया पर ऐसी कई भ्रामक कर देने वाली खबरें आती हैं, जो सामने आते ही सुखियाँ बटोरती हैं। हाल ही में ऐसा मामला इंदौर से सामने आया है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। आपने अक्सर ही देखा ही होगा आये दिन सोशल मीडिया पर ऐसी कई भ्रामक कर देने वाली खबरें आती हैं, जो सामने आते ही सुखियाँ बटोरती हैं। हाल ही में ऐसा मामला इंदौर से सामने आया है जो चर्चा में है। इंदौर के होलकर साइंस कॉलेज का विकिपीडिया पर भ्रामक करने वाला मामला सामने आया है। सटीक जानकारी के द्योतक विकिपीडिया पर उठ रहे सवाल: राहुल गाँधी को बता रहा प्रिंसिपल।

क्या है पूरा मामला :

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के टॉप कॉलेज में इंदौर का होलकर साइंस कॉलेज शामिल है। जानकारी के अनुसार इंदौर के होलकर साइंस कॉलेज को गूगल पर सर्च करने पर विकिपीडिया द्वारा कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम विकिपीडिया पर प्रिंसिपल के रूप में दर्शाया जा रहा है।

कॉलेज के मौजूदा प्रिंसिपल कैबिनेट मंत्री के भाई हैं :

आपको बताते चलें कि होलकर साइंस कॉलेज के मौजूदा प्रिंसिपल डॉ. सुरेश सिलावट मध्यप्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट के भाई हैं। लेकिन विकिपीडिया पर कॉलेज के प्रिंसिपल को राहुल गांधी बताए जाने के राजनीतिक मायने भी निकाले जाने लगे हैं।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नाम का उपयोग कर भ्रामक जानकारी फैलाने में भारतीय जनता पार्टी (BJP) का हाथ है।

एनएसयूआई का आरोप

कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों के वाट्सएप ग्रुपों में हो रही है वायरल :

सबसे पहले इसकी खबर कॉलेज में पढ़ रहे विद्यार्थियों को ही लगी। विकिपीडिया की यह जानकारी कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों के वाट्सएप ग्रुपों में वायरल हो रही है। इस मामले में कॉलेज प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जा रही है।

कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारी डॉक्टर ने दी जानकारी :

आपको बताते चलें कि इंदौर के होलकर साइंस कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राहुल गांधी बताए जा रहे मामले में कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारी डॉक्टर आरसी दीक्षित ने सूचना दी है कि इस मामले की शिकायत ऑनलाइन जानकारी प्रदर्शित करने वाली कंपनी विकिपीडिया को की गई थी। वहां से उन लोगों की जानकारी मिल चुकी है जिन्होंने ऑनलाइन सामग्री में बदलाव किया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co