भोपाल : कर संग्रहण के लिए मिशन मोड में कार्य करें
कर संग्रहण के लिए मिशन मोड में कार्य करेंSocial Media

भोपाल : कर संग्रहण के लिए मिशन मोड में कार्य करें

भोपाल, मध्य प्रदेश : मुख्यमंत्री ने की विभिन्न विभाग की राजस्व प्राप्तियों की समीक्षा। बेहतर कर संग्रहण के लिए सभी विभाग बधाई के पात्र।

भोपाल, मध्य प्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सभी विभाग कर संग्रहण के लिए मिशन मोड में कार्य करें। नागरिकों को जागरूक कर अधिक से अधिक कर संग्रहण किया जाये तथा कर अपवंचन रोकने के लिए सख्ती से कार्रवाई की जाए। कर संग्रहण के लिए राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के अधिकारी मिलकर कार्य करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना की चुनौती के बावजूद जीएसटी सहित अन्य करों के संग्रहण में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई है। इसके लिए सभी संबंधित विभाग बधाई के पात्र हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान बुधवार को मंत्रालय में कर संग्रहण वाले विभिन्न विभाग की राजस्व प्राप्तियों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में वित्त, वाणिज्यिक कर, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री जगदीश देवड़ा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव एसएन मिश्रा और प्रमुख सचिव मनोज गोविल आदि उपस्थित थे।

जीएसटी से 4542 करोड़ मिलेंगे :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जीएसटी संग्रहण में मध्यप्रदेश अग्रणी राज्य है। राज्यांश के रूप में मध्यप्रदेश को 4542 करोड़ रुपए मिलेंगे, जिसमें से 3866 करोड़ रुपए प्राप्त हो चुके हैं। यह कोरोना संकट काल में बड़ी राहत है।

वैट में इस माह 17 प्रतिशत की वृद्धि :

वेट संग्रहण में प्रदेश में जनवरी माह की प्राप्ति गत वर्ष की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक है। आगामी माहों में भी अधिक संग्रहण का अनुमान है।

आबकारी आय में वृद्धि :

प्रदेश की आबकारी आय में भी जनवरी माह में गत वर्ष की तुलना में वृद्धि दर्ज की गई है। गत वर्ष जनवरी माह में 839 करोड़ की राजस्व प्राप्ति थी, इस वर्ष जनवरी में 928 करोड़ रुपए रही है।

दो प्रतिशत ड्यूटी कम करने से स्टाम्प एवं पंजीयन राजस्व में उछाल :

स्टाम्प एवं पंजीयन राजस्व की समीक्षा में पाया गया कि गत दिसम्बर माह में दो प्रतिशत ड्यूटी कम करने से गत वर्ष की तुलना में 94 प्रतिशत राजस्व वृद्धि हुई। जनवरी माह में 19 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है।

खनिज आय में 25 से 30 प्रतिशत वृद्धि :

खनिज आय में सितम्बर 2020 से अभी तक लगभग 25 से 30 प्रतिशत वृद्धि हुई है। जनवरी माह में 553 करोड़ रुपए खनिज राजस्व प्राप्त हुआ, जबकि गत वर्ष जनवरी में 428 करोड़ रुपए प्राप्त हुआ था।

वाहनों की बिक्री कम :

परिवहन राजस्व में जनवरी माह में कमी आई है। इसका एक प्रमुख कारण वाहनों की बिक्री में कमी है। केवल ट्रेक्टर्स की बिक्री बढ़ी है। ट्रेक्टर्स पर पंजीयन शुल्क एक रुपए तथा रोड टैक्स शून्य है।

नई खनिज खदानों के आवंटन का कार्य तेजी से करें :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश में खनिज खदानों के आवंटन का कार्य तेजी से किया जाए।

पंजीयन के लिए न जाना पड़े उप-पंजीयक कार्यालय :

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नागरिकों की सुविधा के लिए सरकार ऑनलाइन रजिस्ट्री सुविधा पर विचार कर रही है, जिससे जमीन के पंजीयन के लिए नागरिकों को उप-पंजीयक कार्यालय जाना नहीं पड़ेगा।

बकाया का वन टाइम सेटलमेंट करें :

मुख्य सचिव श्री बैंस ने कहा कि बकाया जीएसटी की वसूली के लिए वन टाइम सेटलमेंट किया जाये। प्रदेश में सरल समाधान योजना के अंतर्गत 146 करोड़ 53 लाख रुपए के बकाया जीएसटी की वसूली की जा चुकी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co