सिकल सेल एनीमिया सर्वेक्षण का कार्य सघन स्तर पर किया जाए : मंगूभाई पटेल
सिकल सेल एनीमिया सर्वेक्षण का कार्य सघन स्तर पर किया जाएं : मंगूभाई पटेलSocial Media

सिकल सेल एनीमिया सर्वेक्षण का कार्य सघन स्तर पर किया जाए : मंगूभाई पटेल

भोपाल, मध्यप्रदेश : राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि सिकल सेल एनीमिया रोकथाम के लिए सर्वेक्षण कार्य सघन स्तर पर किया जाए।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि सिकल सेल एनीमिया रोकथाम के लिए सर्वेक्षण कार्य सघन स्तर पर किया जाए। राज्यपाल श्री पटेल आज यहाँ राजभवन में मध्यप्रदेश सिकल सेल एनीमिया प्रोजेक्ट के तहत रोग की रोकथाम और प्रबंधन के कार्यों पर चर्चा करते हुए कहा कि सिकल सेल एनीमिया रोकथाम के लिए सर्वेक्षण कार्य सघन स्तर पर किया जाए। प्रदेश के सभी क्षेत्रों से विभिन्न संस्थाओं द्वारा सिकल सेल एनीमिया की जांच के परिणामों को राज्य स्तर पर संकलित किया जाए। इससे प्रदेश में सिकल सेल रोगी और वाहकों की संख्या का आकलन किया जा सकेगा। सिकल सेल रोग रोकथाम प्रयासों की प्रतिमाह समीक्षा की जाए और प्रतिवेदन राजभवन में प्रस्तुत किया जाए। वे प्रभावित क्षेत्रों के भ्रमण के अवसर पर स्थिति की समीक्षा भी करेंगे।

श्री पटेल ने कहा कि सिकल सेल एनीमिया की रोकथाम और प्रबंधन सबके साथ और प्रयासों से किया जाना चाहिए। रोकथाम और प्रबंधन के एकजुट, समन्वित प्रयासों की महत्ता है। एलोपैथी, आयुर्वेद उपचार पद्धतियों, संस्थाओं, व्यक्ति, समाज और सरकार के समन्वित सहयोग से किया जाना जरूरी है। रोकथाम और प्रबंधन के लिए आवश्यक राशि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए आगामी बजट में प्रावधान कराने के प्रयास किए जाएं। रोग टेस्टिंग के लिए प्राथमिक, सामुदायिक और जिला स्तर पर व्यवस्था के साथ ही मोबाइल टेस्टिंग की पहल भी की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि झाबुआ और अलीराजपुर में रोगियों के उपचार प्रयासों में एलोपैथी, आयुर्वेद के उपयोग की सम्भावनाओं को भी तलाशा जाए। उन्होंने उपचार के क्षेत्र में व्यापक शोध और अनुसंधान की जरूरत बताते हुए आयुर्वेद के अपार ज्ञान भण्डार को उजागर करने को कहा है। जड़ी-बूटियों और जनजातीय समुदाय के पारम्परिक ज्ञान को संकलित भी किया जाये।

उन्होंने कहा कि, जीवन अमूल्य है। पैसा, साधन नहीं, जीवन रक्षा महत्वपूर्ण है। सिकल सेल एनीमिया हजारों जानों की सुरक्षा और संरक्षण की चिंता और चिंतन का विषय है। पीड़ित मानवता की सेवा कार्य को ईश्वरीय सौभाग्य मानकर कार्य करने पर ईश्वर का प्रसाद मिलता है। जरूरत मिशन भाव के साथ काम करने की है। संवेदनशील कार्य भावना के परिणाम आत्मिक आनंद देते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co