अरविंदो अस्पताल (सैम्स)
अरविंदो अस्पताल (सैम्स)|Social Media
मध्य प्रदेश

कोरोना नहीं मिलता जुलता है ये रोग, यलो श्रेणी में हुआ शामिल

मध्यप्रदेश के इंदौर के अरविंदो अस्पताल को कोरोना से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिये यलो श्रेणी में भी चिन्हित किया गया है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। जहाँ दुनिया भर में कोरोना वायरस का कहर पैर पसार चुका है वहीं इसके चलते ही देश के सबसे साफ शहर इंदौर की हालत कोरोना के कहर से अस्थिर बनी हुई, जिसमें स्थिति को मद्देनजर रखते हुए शहर के कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश जारी किए हैं। इस अस्पताल को कोविड-19 से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिये यलो श्रेणी में चिन्हित किया है।

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के इंदौर के अरविंदो अस्पताल (सैम्स) को कोविड-19 से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिये यलो श्रेणी में भी चिन्हित किया गया है। यह अस्पताल कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिये रेड श्रेणी में भी चिन्हित है। इस अस्पताल को समस्त निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा। पालन नहीं करने पर द एपिडेमिक डिसिज एक्ट 1897 एवं अन्य प्रावधानों के तहत कार्यवाही की जायेगी।

इंदौर कलेक्टर ने जारी किया आदेश

इंदौर के जिला कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश जारी कर आज इस अस्पताल को कोविड-19 से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिये यलो श्रेणी में चिन्हित किया है। इसके तहत अरविंदो अस्पताल प्रबंधन मेडिकल आवश्यकता अनुसार कुछ भाग को कोरोना वायरस से मिलते-जुलते लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिये यलो श्रेणी के मापदण्ड अनुसार बनायेगा तथा शेष भाग को कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के उपचार के लिए रेड श्रेणी में निर्धारित करेगा।

इंदौर के अरविंदो हास्पिटल में अब तक कई मरीज़ का एडमिशन हो चुका है। इनमें से लगभग मरीज़ पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घरों में जा चुके हैं।

कलेक्टर ने बताया था-

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co